टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में छह नाम, जानिए कौन हैं ये दिग्गज

News18Hindi
Updated: August 1, 2019, 10:58 AM IST
टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में छह नाम, जानिए कौन हैं ये दिग्गज
टीम इंडिया का दोबारा कोच बनने की रेस में रवि शास्‍त्री का नाम इसलिए भी आगे है क्योंकि कप्तान विराट कोहली के साथ उनकी जुगलबंदी शानदार है.

टीम इंडिया के नए मुख्य कोच का फैसला कपिल देव की अगुआई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति करेगी. माना जा रहा है कि 13 अगस्त से इंटरव्यू की प्रक्रिया शुरू हो सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2019, 10:58 AM IST
  • Share this:
भारतीय क्रिकेट टीम वर्ल्ड कप 2019 के बाद से बदलाव के दौर से गुजर रही है. जहां वेस्टइंडीज दौरे के लिए चयनकर्ताओं ने कई युवा चेहरों पर दाव लगाया है, वहीं कोचिंग स्टाफ भी इस बदलाव से अछूता नहीं है. हालांकि रवि शास्‍त्री समेत पूरे कोचिंग स्टाफ का कार्यकाल वेस्टइंडीज दौरे तक के लिए बढ़ा दिया गया है, लेकिन नए कोचिंग स्टाफ को लेकर भी सुगबुगाहटें तेज हैं.

बीसीसीआई ने मुख्य कोच समेत नए कोचिंग स्टाफ के लिए 30 जुलाई तक आवेदन मंगाए थे. आवेदन भेजने की समयसीमा अब खत्म हो चुकी है और अब टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में छह नाम हैं, जिनमें मौजूदा कोच रवि शास्‍त्री का नाम भी शामिल हैं, जिनके कार्यकाल में टीम ने आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल तक का सफर तय किया था.

टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में तीन विदेशी नाम भी हैं. इनमें न्यूजीलैंड के माइक हेसन, ऑस्ट्रेलिया के टॉम मूडी और श्रीलंका के महेला जयवर्धने शामिल हैं. वहीं भारत की ओर से रवि शास्‍त्री के अलावा रोबिन सिंह और लालचंद राजपूत इस रेस में हैं. रवि शास्‍त्री को इस पद के लिए आवेदन करने की जरूरत नहीं पड़ी क्योंकि मौजूदा कोच होने के नाते वे स्वतः ही आवेदनकर्ता मान लिए गए.

अब जबकि विश्व क्रिकेट में कोचिंग स्टाफ के सबसे बड़े पद के लिए देश-विदेश के छह दिग्गज नाम रेस में हैं तो इन सभी के बारे में जानना भी उतना ही जरूरी हो जाता है. तो आइए नजर डालते हैं कोच पद के लिए इन छह दावेदारों के कोचिंग प्रदर्शन पर.

1. टाॅम मूडी : दो साल में श्रीलंका को वर्ल्ड कप फाइनल में पहुंचाया

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व क्रिकेटर टॉम मूडी टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में काफी आगे हैं. 2001 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद वे ऑस्ट्रेलियन क्रिकेटर्स एसोसिएशन एंड कोच के अध्यक्ष बने. इसके बाद मूडी वोर्सेस्टरशायर के डायरेक्टर ऑफ क्रिकेट बने. साल 2005 में भी वे भारतीय क्रिकेट टीम का कोच बनने की होड़ में थे, लेकिन इसी बीच उन्हें मई में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम को कोच चुन लिया गया. इस दौरान उन्होंने बेहद कम समय में गहरी छाप छोड़ते हुए टीम को अप्रैल 2007 के फाइनल में पहुंचाया. उसके अगले ही महीने उन्होंने श्रीलंकाई टीम के कोच पद से इस्तीफा दे दिया और वापस घर लौटकर वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया को कोचिंग देने लगे. उन्होंने आईपीएल के पहले सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब को भी कोचिंग दी. इसके बाद मार्च 2010 में उन्होंने घोषणा कर दी कि उन्हें नया अनुबंध नहीं चाहिए. दिसंबर 2012 में मूडी को आईपीएल टीम सनराइजर्स हैदराबाद का कोच बनाया गया. 2013 से 2019 के बीच टीम पांच बार क्वालीफायर राउंड में पहुंची और 2016 में खिताब भी अपने नाम किया. उन्हें 2014 में कैरेबियन प्रीमियर लीग में इंटरनेशनल डायरेक्टर ऑफ क्रिकेट के तौर पर नियुक्त किया गया. 2018 में उन्हें पाकिस्तान सुपर लीग के 2018 के सीजन में मुल्तान सुल्तान का मुख्य कोच बनाया गया. जून 2019 में मूडी को कनाडा टी-20 लीग की टीम मॉन्ट्रियल टाइगर्स का कोच बनाया गया.

टॉम मूडी ने 8 टेस्ट में 456 रन और 76 वनडे में 1211 रन बनाए हैं. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में दो और वनडे में 52 विकेट भी लिए.
Loading...

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
टाॅम मूडी टीम इंडिया का कोच बनने की रेस में काफी आगे नजर आ रहे हैं.


2. महेला जयवर्धने ः श्रीलंका का शेर

श्रीलंका के पूर्व क्रिकेट दिग्गज महेला जयवर्धने कम समय के लिए इंग्लैंड के सहायक कोच रहे हैं. ऐसी खबरें भी हैं कि जयवर्धने '100 टूर्नामेंट' में साउथैम्पटन की फ्रेंचाइजी साउर्दर्न ब्रेव के मुख्य कोच भी बन सकते हैं. मुंबई इंडियंस के साथ काम करके उनके पास अच्छा कोचिंग अनुभव है. महेला जयवर्धने के मुंबई इंडियंस का कोच बनने के बाद से टीम ने तीन में से दो सीजन में खिताब जीता है. महेला जयवर्धने ने श्रीलंका के लिए 149 टेस्ट में 11814 रन बनाए हैं, जबकि 448 वनडे में 12650 रन उनके बल्ले से निकले हैं.

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर महेला जयवर्धने के मुंबई इंडियंस का कोच रहते टीम ने तीन में से दो बार खिताब जीता है.


3. माइक हेसन ः न्यूजीलैंड का जादूगर

बहुत कम लोग जानते हैं कि माइक हेसन ने 22 साल की उम्र में कोचिंग शुरू कर दी थी. न्यूजीलैंड के डुनेडिन में पैदा हुए हेसन ने करीब 15 साल तक ओटागो क्रिकेट के लिए काम किया. इस दौरान उन्होंने मैच जीतने के लिए तरसती रही ओटागो टीम का 20 साल का सूखा खत्म कराते हुए उसे खिताब दिलाया.  इसके बाद 2011 वर्ल्ड कप में केन्या के खराब प्रदर्शन के बाद वे केन्या के कोच बनाए गए. हालांकि उन्होंने मई 2012 में इस्तीफा दे दिया और जुलाई 2012 में जॉन राइट की जगह न्यूजीलैंड के कोच बने. माइक हेसन करीब 6 साल तक न्यूजीलैंड टीम के कोच रहे. उन्होंने 2018 में अपने पद से इस्तीफा दिया था. इस साल उन्हें आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब की टीम का कोच बनाया गया. हेसन को न्यूजीलैंड के क्रिकेट इतिहास का सबसे कामयाब कोच माना जाता है. टीम को 2015 के वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंचाने का श्रेय भी उन्हें जाता है. हेसन ने तब तत्कालीन कप्तान ब्रेंडन मैकुलम को पूरी आजादी दी हुई थी और इस दौरान हेसन के आक्रामक रवैये की सभी ने प्रशंसा की थी, जिसकी वजह से न्यूजीलैंड का खेल बिल्कुल बदल गया था. यहां तक कि मौजूदा कप्तान केन विलियमसन ने भी मैकुलम के बाद कप्तानी संभालते वक्त हेसन की तारीफ की थी. हेसन आईपीएल टीम किंग्स इलेवन पंजाब में लोकेश राहुल, रविचंद्रन अश्विन और मोहम्मद शमी जैसे भारतीय खिलाड़ियों के साथ काम कर चुके हैं.

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
माइक हेसन को न्यूजीलैंड क्रिकेट इतिहास का सबसे कामयाब कोच माना जाता है.


4. रॉबिन सिंह ः धाकड़ फील्डर, मजबूत बल्लेबाज

रॉबिन सिंह भारतीय क्रिकेट टीम में बाएं हाथ के बल्‍लेबाज और दाएं हाथ के मीडियम पेसर गेंदबाज रहे.  उन्‍होंने भारत के लिए एक टेस्‍ट और 136 वनडे मैच खेले. रॉबिन सिंह ने 1989 में डेब्‍यू किया था और 2001 में संन्‍यास ले लिया था. उनकी पहचान फिनिशर और उपयोगी ऑलराउंडर के रूप में होती थी. उनका जन्‍म त्रिनिडाड में हुआ था और यहां का उनके पास पासपोर्ट भी था. मगर इंडिया के लिए खेलने के लिए उन्‍होंने त्रिनिडाड का पासपोर्ट छोड़ दिया था. उन्‍होंने 136 वनडे में 2336 रन बनाए और 69 विकेट लिए. हाल ही में वे रवि शास्‍त्री पर दिए बयानों को लेकर चर्चा में हैं.

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
रॉबिन सिंह ने भारत के लिए 136 वनडे खेले हैं. वे हाल ही में रवि शास्‍त्री पर दिए बयान को लेकर सुर्खियों में हैं.


5. लालचंद राजपूत ः टी-20 वर्ल्ड कप जीतने वाली टीम के मैनेजर

जिस भारतीय टीम ने युवा महेंद्र सिंह धोनी की अगुआई में 2007 में आईसीसी का पहला टी-20 वर्ल्ड कप अपने नाम किया था, लालचंद राजपूत उस टीम के मैनेजर थे. लालचंद राजपूत ने जिम्बाब्वे और अफगानिस्‍तान जैसी अंतरराष्ट्रीय टीम को कोचिंग दी है. राजपूत नेशनल क्रिकेट अकादमी, बेंगलुरू से सर्टिफाइड लेवल 3 कोच हैं. पूर्व सलामी बल्लेबाज लालचंद राजपूत पिछले साल ही जिम्बाब्वे टीम के कोच बने. हालांकि राजनीतिक दखलअंदाजी के चलते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद ने जिम्बाब्वे बोर्ड काे निलंबित कर दिया है. मौजूदा समय में जारी कनाडा ग्लोबल टी20 लीग में विनिपेग हॉक्स के भी कोच लालचंद राजपूत ही हैं. लालचंद राजपूत ने भारत के लिए 2 टेस्ट में 105 रन और 4 वनडे में 9 रन बनाए हैं.

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
लालचंद राजपूत 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के मैनेजर ‌थे.


6. रवि शास्‍त्री ः विराट के साथ शानदार जुगलबंदी

रवि शास्‍त्री भारतीय क्रिकेट टीम के ऐसे खिलाड़ी रहे, जो सुर्खियों से कभी दूर नहीं रहे. बतौर क्रिकेटर खेल को अलविदा कहने के बाद रवि शास्‍त्री ने 1995 में मुंबई में वर्ल्ड मास्टर्स टूर्नामेंट से टीवी कमेंटेटर के तौर पर नई पारी शुरू की. हालांकि शास्‍त्री को नई पहचान तब मिली जब उन्होंने और सुनील गावस्कर ने ईएसपीएन-स्टार स्पोर्ट्स के साथ अप्रैल 2008 में लंबे समय से चला आ रहा कमेंटरी का अनुबंध खत्म कर इंडियन प्रीमियर लीग के लिए बीसीसीआई से अनुबंध कर लिया. 2007 में उन्हें बांग्लादेश दौरे के लिए अस्‍थायी तौर पर टीम इंडिया का कोच चुना गया. जुलाई 2017 में शास्‍त्री को क्रिकेट सलाहकार समिति ने भारतीय टीम का हेड कोच चुना. इस समिति में सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण जैसे दिग्गज शामिल थे. कांट्रेक्ट के अनुसार, रवि शास्‍त्री को इस काम के लिए हर साल 8 करोड़ रुपये देना तय हुआ, जो उनसे पहले टीम के कोच रहे अनिल कुंबले से 1.5 करोड़ रुपये ज्यादा थे.

cricket, bcci, indian cricket team, anshuman gaekwad, kapil dev, virat kohli, ravi shastri, team india coach, क्रिकेट, भारतीय क्रिकेट टीम, रवि शास्‍त्री, कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़, विराट कोहली, बीसीसीआई, टीम इंडिया कोच,
रवि शास्‍त्री का कार्यकाल वेस्टइंडीज दौरे तक के लिए बढ़ाया गया है.


कौन चुनेगा कोच

भारतीय क्रिकेट टीम का कोच चुनने का जिम्मा 1983 में देश को पहला वर्ल्ड कप जिताने वाले कप्तान कपिल देव, टीम इंडिया के दो बार कोच रह चुके पूर्व क्रिकेटर अंशुमान गायकवाड़ और भारत की पहली महिला क्रिकेट कप्तान शांता रंगास्वामी को सौंपा गया है. कपिल देव की अगुआई वाली यही क्रिकेट सलाहकार समिति नए कोच पर फैसला लेगी.

कैसे होगा इंटरव्यू ः 

टीम इंडिया के कोचिंग स्टाफ के लिए आवेदन की समयसीमा 30 जुलाई को खत्म हो गई है. अब क्रिकेट सलाहकार समिति इन आवेदनों पर गौर करेगी और जल्द ही उनके इंटरव्यू की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. इंटरव्यू के दौरान आवेदन करने वालों के कोचिंग अनुभव और खेल को लेकर उनकी समझ को मुख्य पैमाना माना जाएगा.

कब तक हो सकता है फैसला 

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए नए कोचिंग स्टाफ की नियुक्ति को लेकर वैसे तो कोई डेडलाइन तय नहीं की गई है, लेकिन सूत्रों के अनुसार, 13 अगस्त को कोचिंग स्टाफ के लिए इंटरव्यू लेने की प्रक्रिया शुरू हो सकती है.

बल्लेबाजी कोच के लिए आमरे भी होड़ में

भारत के पूर्व क्रिकेटर प्रवीण आमरे ने टीम इंडिया के बल्लेबाजी कोच के लिए आवेदन किया है. वहीं, दक्षिण अफ्रीका के पूर्व ‌क्रिकेटर जोंटी रोड्स भारतीय टीम के फील्डिंग कोच बनने की रेस में हैं. प्रवीण आमरे मुंबई से ताल्‍लुक रखते हैं और घरेलू क्रिकेट में मुंबई के अलावा रेलवे, राजस्‍थान और बंगाल के लिए भी खेल चुके हैं. ईरानी ट्रॉफी में उन्‍होंने बंगाल की ओर से खेलते हुए शेष भारत के खिलाफ 246 रन की पारी खेली थी जो कि ईरानी ट्रॉफी में किसी भी बल्‍लेबाज का सर्वोच्‍च स्‍कोर है. आमरे ने भी रमाकांत आचरेकर से क्रिकेट का ककहरा सीखा था. उनके लिए आचरेकर ने एक समय कहा था कि वे सचिन तेंदुलकर से भी बड़े बल्‍लेबाज साबित होंगे. हालांकि आंकड़ों पर नजर डालने पर यह दावा सही साबित नहीं हुआ.

कोच चुनने से पहले ही विवादों में फंसी कपिल देव की अध्यक्षता वाली कमेटी

कोच के सवाल पर बोले गायकवाड़, विराट कुछ भी कहें, हमें फर्क नहीं पड़ता

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 1, 2019, 10:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...