महिला सेलेक्टर्स की BCCI से गुजारिश- महिला को बनाएं टीम का कोच, 4 साल से पुरुष दे रहे कोचिंग

मौजूदा कोच डब्ल्यूवी रमन की देख-रेख में भारतीय महिला टीम पिछले साल टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची थी. (BCCI Women Twitter)

मौजूदा कोच डब्ल्यूवी रमन की देख-रेख में भारतीय महिला टीम पिछले साल टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची थी. (BCCI Women Twitter)

नीतू डेविड (Neetu David) की अगुआई वाली महिला सेलेक्शन कमेटी ने बीसीसीआई (BCCI) से गुजारिश की है कि इस बार किसी महिला को टीम का कोच बनाया जाए. 2017 में पूर्णिमा राव (Poornima Rau) के हटने के बाद से बीते 4 साल में पुरुष खिलाड़ियों ने बतौर कोच जिम्मेदारी संभाली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 29, 2021, 12:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने महिला क्रिकेट टीम (Indian Women's cricket team) के हेड कोच और सपोर्ट स्टाफ में बदलाव की तैयारी शुरू कर दी है. बोर्ड ने हेड कोच के लिए आवेदन मंगाए हैं. तीन सदस्यीय क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (CAC) अगले कुछ हफ्तों में उम्मीदवारों का इंटरव्यू ले सकती है. इस बीच, किसी महिला को टीम का हेड कोच बनाने की मांग भी उठने लगी है. नीतू डेविड (Neetu David) की अगुआई वाली सेलेक्शन कमेटी ने इसे लेकर बीसीसीआई को ई-मेल भी भेजा है. जानकारी के मुताबिक, हेड कोच के लिए 13 अप्रैल को हुए जारी आवेदन से पहले बीसीसीआई सचिव जय शाह की सेलेक्शन कमेटी से जुड़े एक सदस्य से बात भी हुई है.

मौजूदा कोच डब्ल्यूवी रमन (WV Raman) का दो साल का कार्यकाल अक्टूबर 2020 में ही पूरा हो चुका था. लेकिन बोर्ड की गुजारिश के बाद वो दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज तक पद संभालने को तैयार हुए थे. वो भी दोबारा महिला टीम के हेड कोच बनने की रेस में शामिल हैं. उनके अलावा पूर्व कोच रमेश पोवार (Ramesh Powar), तुषार अरोठे (Tushar Arothe) भी दावेदारी पेश कर रहे हैं. इन तीनों के अलावा चार महिला क्रिकेटर ने इस जिम्मेदारी को संभालने के लिए दिलचस्पी दिखाई है. इसमें पूर्व हेमलता काला (Hemlata Kala), नूशिन उल खादिर (Nooshin Al Khadeer), ममता माबेन (Mamatha Maben) और जया शर्मा शामिल हैं.

बीते चार साल में तीन पुरुष महिला टीम के कोच बने

बता दें कि 2017 में पद से हटाने से पहले पूर्णिमा राव भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कोच बनने वाली आखिरी महिला थीं. इसके बाद तुषार अरोठे, रमेश पोवार और डब्ल्यूवी रमन टीम के कोच रहे. मतभेद के कारण अरोठे ने अपना कार्यकाल पूरा करने से पहले ही पद छोड़ दिया था. वहीं, वनडे टीम की कप्तान मिताली राज के साथ हुई खटपट के बाद बीसीसीआई ने 2018 में पवार का कॉन्ट्रैक्ट नहीं बढ़ाया था. मिताली ने पोवार पर 2018 में हुए टी20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल से बाहर करने के आरोप लगाया था.
रमन के कोच रहते भारत 2020 में टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल खेला

इसके बाद से ही रमन महिला टीम के हेड कोच की जिम्मेदारी निभा रहे हैं. उनकी कोचिंग में पिछले साल महिला टीम टी20 वर्ल्ड कप का फाइनल खेली थी. हालांकि, उसे ऑस्ट्रेलिय़ा ने हरा दिया था. हालांकि, ईएसपीएन क्रिकइंफो की रिपोर्ट की मानें तो रमन से भी टीम की कुछ सीनियर खिलाड़ी खुश नहीं हैं. सेलेक्शन कमेटी को इस बारे में जानकारी भी है. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हाल ही में घरेलू वनडे और टी20 सीरीज गंवाने के बाद रमन की कुर्सी भी खतरे में हैं.

यह भी पढ़ें : IPL 2021: ...तो इसलिए CSK का प्रदर्शन इस साल हुआ बेहतर, धोनी ने किया खुलासा



महिला कोच की जरूरत क्यों?

महिला सपोर्ट स्टाफ को टीम से जोड़ने के पीछे सेलेक्टर्स का यही तर्क है कि वो ऐसे पूर्व क्रिकेटर को मौका देने चाहते हैं, जिनके पास जरूरी हुनर, अनुभव और कई मामलों में कोचिंग से जुड़ी तमाम खूबियां मौजूद हैं. जिन महिला खिलाड़ियों ने कोच पद के लिए आवेदन दिया है. उसमें से काला पिछली सेलेक्शन कमेटी की चेयरमैन रह चुकी हैं. वहीं, माबेन ने बांग्लादेश और चीन की महिला टीम को कोचिंग दी है. उनके अलावा जया और अल खादिर भी घरेलू टीम की कोचिंग और सेलेक्शन पैनल से जुड़ी रह चुकी हैं.

IPL 2021: आखिर क्‍यों चर्चा में हैं सनराइजर्स हैदराबाद के कप्‍तान डेविड वॉर्नर के जूते?

मई में महिला टीम के हेड कोच ऐलान होगा

जानकारी के मुताबिक, महिला क्रिकेट टीम के नए कोच का ऐलान मई में होने की संभावना है. नए कोच के सामने सबसे पहली चुनौती भारतीय टीम का जून में होने वाला इंग्लैंड दौरा होगा. इस दौरे पर भारतीय टीम इकलौता टेस्ट 16-19 जून के बीच ब्रिस्टल में खेलेगी. इसके बाद दोनों टीमों के बीच तीन वनडे और इतने ही टी20 की भी सीरीज होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज