बल्लेबाजी ही नहीं विकेट कीपिंग में भी बिगड़ी धोनी की हालत, सरफराज अहमद से भी प‌िछड़े

World Cup 2019: क्रिकेट विश्व कप 2019 में विकेट के पीछे बल्लेबाजों को आउट करने के मामले में महेंद्र सिंह धोनी तीसरे सबसे खराब विकेटकीपर्स की लिस्ट में शामिल हो गए हैं.

News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 12:06 PM IST
बल्लेबाजी ही नहीं विकेट कीपिंग में भी बिगड़ी धोनी की हालत, सरफराज अहमद से भी प‌िछड़े
50 पारियों में ऐसा दूसरी बार हुआ जब धोनी के क्रीज पर रहते हारी टीम इंडिया
News18Hindi
Updated: July 2, 2019, 12:06 PM IST
महेंद्र सिंह धोनी अपनी धारदार बैटिंग से पारी समाप्त करने के लिए जाने जाते हैं. उनकी दूसरी पहचान विकेट के पीछे बिजली की रफ्तार से स्टपिंग करने, रन आउट करने को लेकर है. अपने 15 सालों के करियर में टी-20 और एकदिवसीय क्रिकेट दोनों के आईसीसी वर्ल्ड कप जिताने वाला ये कप्तान अपनी सूझबूझ के लिए टीम इंडिया का सबसे खास रत्न बना रहा. लेकिन ये 37 वर्षीय रत्न अब धुंधला हो रहा है. जो शख्स कभी गलत नहीं होता था, आईसीसी वर्ल्डकप 2019 में उसके साथ कुछ सही होता नजर नहीं आ रहा है.

धोनी इन दिनों अब बैट से कमाल नहीं दिखा पा रहे हैं. मैदान पर धोनी को जिस दिमाग के लिए जाना जाता है, उनके हाथ अब उस दिमाग का साथ देते नजर नहीं आ रहे हैं. पूर्व भारतीय कप्तान ने इस वर्ल्डकप अपनी छह पारियों में 188 रन बनाए हैं. इसमें धोनी की इंग्लैंड के खिलाफ 31 बॉलों पर 42 रनों की नाबाद भारी भी शामिल है, जब टीम इंडिया 31 रनों से मैच हार गई.

50 पारियों में ऐसा दूसरी बार हुआ जब धोनी के क्रीज पर रहते हारी टीम इंडिया
धोनी के दूसरी पारी में खेलने के इतिहास में ऐसा 50 बार हुआ है, जब वे क्रीज पर मौजूद हों. इनमें धोनी का बेहद जबर्दस्त रिकॉर्ड है. उनके रहने के दौरान इंग्लैंड मैच से पहले 49 पारियों में महज एक बार टीम इंडिया हारी थी, जबकि 47 बार जी और एक मैच बेनतीजा रहा था. लेकिन इंग्लैंड से मिली हार ने इस आंकड़े में 50 में दो हार जोड़ दिया.



विकेट कीपिंग में अपनी तेजी से हार रहे हैं धोनी
विकेट के पीछे से धोनी ने कई मैचों के परिणाम अकेले दम पर बदल दिए हैं. लेकिन इस विश्वकप में धोनी अपने ही प्रदर्शन को दोहरा नहीं पा रहे हैं. वे पूरे टूर्नामेंट में विकेट के पीछे जूझते नजर आए हैं.
Loading...

यह भी पढ़ेंः धोनी पर भड़के क्रिकेटर, गांगुली बोले- चौके-छक्‍के मारना था

इस वर्ल्डकप महज अफगान कीपरों से आगे हैं धोनी
विकेट के पीछे बल्लेबाजों को आउट करने के मामले में विश्वकप 2019 में धोनी तीसरे सबसे खराब विकेटकीपरों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं. उन्होंने छह मैचों में महज दो कैच पकड़े हैं, जबकि दो बार स्टपिंग किए हैं. इस विश्वकप में दुनिया भर के विकेटकीपरों में महज अफगानिस्तान के इकराम अलिखिल और मोहम्मद शहजाद से ही धोनी आगे हैं. विकेट के पीछे सरफराज अहमद भी धोनी से अधिक बल्लेबाजों को पैवेलियन भेज चुके हैं. इतना ही अभी तक विकेट के पीछे गेंद टपकाकर बाई में सबसे ज्यादा रन देने का रिकॉर्ड भी धोनी के नाम है.



धोनी में नहीं बची है सही डीआरएस लेने की क्षमता
किसी जमाने में डीआरएस, धोनी रिव्यू सिस्टम कहा जाने लगा था. ऐसा कहा जाता था कि धोनी अगर डीआरएस मांग लिया तो बैट्समैन को आउट होना ही पड़ता था. उन्होंने कई ऐसे मौके पर डीआरएस मांगा जब पूरी टीम में उनके अलावा किसी को भरोसा नहीं था कि बैट्समैन आउट है.



लेकिन हालिया उदाहरण इंग्लैंड के मैच का लें तो धोनी ने उस वक्त टीम को डीआरएस लेने में साथ नहीं दिया जब जेसन रॉय महज 20 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे और रिप्ले में साफ आउट दिखाई दे रहे थे. जबकि इंडियन टीम में डीआरएस के लिए धोनी ही आखिरी फैसला लेते हैं.

यह भी पढ़ेंः 'धोनी पर इतना ध्‍यान क्‍यों, टीम में और बल्‍लेबाज नहीं हैं'

डीआरएस लेने से पहले हमेशा कोहली उनके पास जाते हैं. इंग्लैंड से पहले पाकिस्तान मैच में भी धोनी ने कोहली को एक एलबीडब्लू को लेकर रिव्यू लेने मना किया था, जबकि बाद में वे बैट्समैन साफ आउट दिखाई दे रहे थे.
First published: July 2, 2019, 11:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...