वर्ल्ड कप: सेमीफाइनल में हार के बाद टीम इंडिया से दो लोगों की छुट्टी

टीम इंडिया फिटनेस कोच शंकर बासु ने ही भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो-यो टेस्ट पास करना अनिवार्य किया था. हालांकि, बासु अधिकतर समय पर्दे के पीछे काम करने के लिए जाने जाते हैं, लेकिन भारतीय कप्तान विराट कोहली अपनी फिटनेस का श्रेय उन्हें ही देते हैं.

News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 8:32 AM IST
वर्ल्ड कप: सेमीफाइनल में हार के बाद टीम इंडिया से दो लोगों की छुट्टी
न्यूजीलैंड के खिलाफ करारी हार
News18Hindi
Updated: July 11, 2019, 8:32 AM IST
आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में हार के बाद टीम इंडिया से इस्तीफों का दौर शुरू हो गया है. टीम इंडिया के 2 सपोर्ट स्टाफ ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. ये हैं टीम इंडिया के फीजियो पैट्रिक फरहार्ट और टीम के फिटनेस कोच शंकर बासु. अब टीम इंडिया को कोचिंग स्टाफ के इन दो अहम सदस्यों की सेवाएं नहीं मिलेंगी.

पैट्रिक फरहार्ट का कॉन्ट्रैक्ट वर्ल्ड कप तक का ही था. 'इंडियन एक्सप्रेस' के मुताबिक, बीसीसीआई ने इन दोनों को नया कॉन्ट्रैक्ट दिया था. लेकिन इन्होंने इसे आगे बढ़ाने की इच्छा नहीं जताई. फीजियो पैट्रिक फरहार्ट ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'भारतीय टीम के साथ मेरा आज आखिरी दिन था. हम उस तरह से प्रदर्शन नहीं कर पाए जैसा मैं चाहता था. मैं बीसीसीआई का शुक्रिया करना चाहता हूं, जिन्होंने मुझे भारतीय टीम के साथ 4 साल तक काम करने का मौका दिया. भारतीय टीम और सपोर्ट स्टॉफ को मैं आगे के सफर के लिए अपनी शुभकामनाएं देना चाहता हूं.'



शंकर बासु ने वर्ल्ड कप के बाद टीम से अलग होने पर कहा है कि वे कुछ समय के लिए ब्रेक चाहते हैं. दोनों ने इसे लेकर टीम मैनेजमेंट को जानकारी दे दी है.

विराट के साथ शंकर बासु


दिलचस्प बात ये है कि टीम इंडिया फिटनेस कोच शंकर बासु ने ही भारतीय क्रिकेटरों के लिए यो-यो टेस्ट पास करना अनिवार्य किया था. हालांकि, बासु अधिकतर समय पर्दे के पीछे काम करने के लिए जाने जाते हैं, लेकिन भारतीय कप्तान विराट कोहली अपनी फिटनेस का श्रेय उन्हें ही देते हैं. दोनों का तालमेल इसलिए भी अच्छा है, क्योंकि बासु आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स बंगलोर का भी हिस्सा रहे हैं. जबकि विराट इस टीम के कप्तान हैं.

ये भी पढ़ें:
Loading...

सहवाग ने पूछा- धोनी चौथे नंबर पर बैटिंग करने क्यों नहीं आए?

चौथे नंबर से शुरू हुआ सफर चौथे नंबर पर ही खत्म!
First published: July 11, 2019, 8:01 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...