HBD Aleem Dar: बतौर बल्लेबाज फेल, अंपायरिंग करियर को बचाने पत्नी ने बेटी की मौत की खबर छुपाई

अलीम डार को तीन बार बेस्ट अंपायर का अवॉर्ड भी मिला है. (ICC Twitter)

अलीम डार को तीन बार बेस्ट अंपायर का अवॉर्ड भी मिला है. (ICC Twitter)

इंटरनेशनल अंपायर अलीम डार (Aleen Dar) भले ही बतौर क्रिकेटर अधिक सफल नहीं रहे हों. लेकिन इसके बाद भी आज वे वर्ल्ड रिकॉर्ड बना चुके हैं. वे 400 इंटरनेशनल मैच में उतरने वाले एकमात्र अंपायर हैं. कोई अन्य अंपायर ऐसा नहीं कर सका है.

  • Share this:

नई दिल्ली. पाकिस्तान के अलीम डार आज 53वां जन्मदिन मना रहे हैं. बतौर क्रिकेटर वे अधिक सफल नहीं हुए. लेकिन बतौर अंपायर उन्होंने खास मुकाम बना लिया है. अब तक कोई दूसरा ऐसा नहीं कर सका है. अलीम डार 400 इंटरनेशनल मैच में उतरने वाले एकमात्र अंपायर हैं. इसके अलावा वे 100 मैच में बतौर टीवी अंपायर जुड़े. लेकिन यह रिकॉर्ड नहीं जोड़ा जाता. वे तीन बार अंपायर ऑफ द ईयर भी चुने जा चुके हैं. उनके अंपायरिंग करियर को बचाने के लिए पत्नी ने 2003 वर्ल्ड कप के दौरान बेटी की मौत की खबर छुपाई थी.

अलीम डार ने 17 फर्स्ट क्लास और 18 लिस्ट ए के मुकाबले खेले. फरवरी 1987 में उन्होंने पाकिस्तान रेलवे की ओर से फर्स्ट क्लास डेब्यू किया था. 17 मैच में 270 रन बनाए. 39 रन उनका उच्चतम स्कोर रहा. वे गेंदबाजी भी करते थे. बतौर लेग स्पिनर अलीम डार ने 11 विकेट भी झटके. वहीं लिस्ट में अलीम डार ने 179 रन बनाए. 37 रन सबसे बड़ा स्काेर रहा. 15 विकेट और 17 कैच भी पकड़े. अंतिम मुकाबला 1998 में खेला.


2000 में अंपायरिंग करियर शुरू हुआ
अलीम डार का अंपारिंग करियर 2000 में शुरू हुआ. पाकिस्तान और श्रीलंका के खिलाफ वनडे मैच में उन्हें पहली बार माैका मिला. 2002 में उन्हें आईसीसी के इंटरनेशनल पैनल में जगह मिली. 2004 में एलिट पैनल में जगह बनाने वाले वे पाकिस्तान के पहले अंपायर बने. उन्हें 2009 से 2011 के बीच लगातार तीन साल बेस्ट अंपायर का अवॉर्ड मिला. 2005 और 2006 में वे इस अवॉर्ड के लिए नामित हुए थे.

6 महीने की बेटी की हो गई थी मौत

2003 वर्ल्ड कप के दौरान अलीम डार की 6 महीने की बेटी की मौत हो गई. लेकिन उनकी पत्नी ने उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं दी, ताकि वे टूर्नामेंट में अपना याेगदान दे सकें. अलीम डार ने 2013 में क्रिकेट एकेडमी खेली. यहां लड़के और लड़कियों दोनों को ट्रेनिंग दी जाती है. यहां आने वाले सभी बच्चे दिव्यांग हैं और उन्हें फ्री में किट दी जाती है. उन्होंने 136 टेस्ट, 211 वनडे और 53 टी20 में अंपायरिंग की है. वे वनडे और टेस्ट में सबसे ज्यादा मैच में अंपायरिंग कर चुके हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज