WTC फाइनल में अगर गेंद स्विंग हुई तो विराट को हो सकती है परेशानी : ग्लेन टर्नर

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया साउथम्पटन में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में खेलेगी. (Instagram/Virat Kohli)

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया साउथम्पटन में वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में खेलेगी. (Instagram/Virat Kohli)

न्यूजीलैंड के पूर्व क्रिकेटर ग्लेन टर्नर (Glenn Turner) ने कहा कि अगर साउथम्पटन में परिस्थितियां स्विंग और सीम के अनुकूल होती हैं, तो भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) संघर्ष करते नजर आएंगे. भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) फाइनल 18 जून से खेला जाएगा,

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहला वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (WTC) फाइनल 18 जून से खेला जाएगा, जिसका पूरे क्रिकेट जगत को बेसब्री से इंतजार है. साउथम्पटन में होने वाले इस मुकाबले से पहले न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान ग्लेन टर्नर (Glenn Turner) ने कहा है कि अगर परिस्थितियां स्विंग और सीम के अनुकूल होती हैं, तो भारतीय धुरंधर बल्लेबाज विराट कोहली को संघर्ष करना पड़ सकता है. टर्नर ने कहा कि इंग्लैंड में परिस्थितियां एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी.

74 साल के पूर्व क्रिकेटर टर्नर ने कहा कि भले ही भारत में पिचों ने सीम गेंदबाजी का पक्ष लेना शुरू कर दिया है, लेकिन न्यूजीलैंड में स्थितियां बिल्कुल अलग हैं. उन्होंने ने कहा कि इंग्लैंड में स्थितियां न्यूजीलैंड के समान हैं और भारतीय पक्ष न्यूजीलैंड के दौरे पर संघर्ष कर रहा था.

टर्नर ने 'द टेलीग्राफ' से कहा, 'मैं इस बारे में अटकलें नहीं लगाना चाहता कि परिस्थितियों को लेकर कोहली सजग नहीं हैं लेकिन अगर पिच और परिस्थितियां सीम और स्विंग के पक्ष में हैं, तो उन्हें अन्य बल्लेबाजों की ही तरह संघर्ष करना पड़ सकता है. जैसा कि न्यूजीलैंड में हुआ था. एक बार फिर से मैदान पर परिस्थितियां अहम होने वाली हैं.'

इसे भी पढ़ें, WTC Final: टीम इंडिया के लिए खतरे की घंटी, फाइनल से पहले इस गेंदबाज को मिला तैयारी का मौका!
उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि यह कहना सही है कि घरेलू परिस्थितियां, जहां बल्लेबाज सीखते हैं, एक खिलाड़ी की तकनीक और कौशल को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते हैं. हालांकि, ऐसा लगता है कि हाल के दिनों में भारत में पिचें सीम गेंदबाजी में मदद कर रही हैं, फिर भी उनकी तुलना न्यूजीलैंड की स्थितियों से नहीं की जा सकती है. जब भारत ने आखिरी बार न्यूजीलैंड का दौरा किया था, तब भी परिस्थितियां अहम रही थीं.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज