WTC Final: ऋषभ पंत के खराब शॉट खेलकर आउट होने पर भी विराट नाराज नहीं, बांधे तारीफों के पुल

WTC Final: ऋषभ पंत ने दूसरी पारी में भारत के लिए सबसे ज्यादा 41 रन बनाए. लेकिन वो गलत शॉट खेलकर आउट हुए (PC-AFP)

भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) ने विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल (WTC Final) की दूसरी पारी में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा 41 रन बनाए. लेकिन वो ट्रेंट बोल्ट की गेंद पर खराब शॉट खेलकर आउट हुए और उनके पवेलियन लौटते ही भारतीय टीम 170 रन पर ऑलआउट हो गई. इसके बावजूद भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) उनकी बल्लेबाजी से खुश हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल (WTC Final) में भारत को न्यूजीलैंड ने 8 विकेट से हराकर खिताब पर कब्जा जमाया. फाइनल की दोनों पारियों में ऋषभ पंत (Rishabh Pant) खराब शॉट खेलकर आउट हुए. इसके बावजूद भारतीय कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) पंत का समर्थन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पंत का यही स्वाभाविक खेल है, इसलिए टीम उन्हें आगे भी पूरा सपोर्ट करेगी.

    कोहली ने मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि देखिए पंत जब भी मौका मिलेगा, वो अपना खेल दिखाने का मौका नहीं चूकते हैं. जब चीजें आपके पक्ष में नहीं जाती हैं, तो आप कहने लगते हैं कि ये उनकी गलती थी. लेकिन खेल में ऐसा चलता रहता है. हम पंत की सकारात्मकता और उनके खेलने के तरीके में कोई बदलाव नहीं करना चाहते हैं. यही चीज उन्हें सबसे अलग और खास बनाती है. हम चाहते हैं कि वो इसी तरह खेलते रहें और विरोधी टीम पर दबाव डालें और तेजी से रन बनाएं.

    भारतीय कप्तान ने आगे कहा कि हम पंत के खेल को लेकर ज्यादा चिंतित नहीं है. मुझे लगता है कि ये उन्हें तय करने दिया जाए कि उन्होंने खराब शॉट खेला था या नहीं. भारतीय टीम में उनका करियर लंबा है और भविष्य में वो भारत के लिए मैच विनर खिलाड़ी बन सकते हैं.



    पंत दोनों पारी में खराब शॉट खेलकर आउट हुए
    पंत विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल की दूसरी पारी में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज थे. उन्होंने 88 गेंद में 41 रन बनाए. हालांकि, वो ट्रेंट बोल्ट की गेंद पर एक खराब शॉट खेलकर अपन विकेट गंवा बैठे और इसके बाद भारतीय पारी पूरी तरह लड़खड़ा गई और पूरी टीम सिर्फ 170 रन ही जोड़ सकी. पंत पहली पारी में भी इसी तरह का खराब शॉट खेलकर आउट हुए थे. तब वो काइल जेमिसन की बाहर जाती गेंद को ड्राइव करने के चक्कर में स्लिप में कैच थमा बैठे थे.

    वो कोहली के आउट होने के फौरन बाद अपना विकेट गंवा बैठे थे. इसी वजह से भारत पहली पारी में भी बड़ा स्कोर नहीं खड़ा पाया.

    यह भी पढ़ें: WTC Final: मैच के बाद इस अंदाज में गले मिले विराट-केन, सोशल मीडिया पर हो रही तारीफ

    'विपक्षी गेंदबाजों पर हावी होना जरूरी'
    कोहली ने भारतीय बल्लेबाजों को लेकर कहा कि हमें निश्चित रूप से रन बनाने के तरीके को समझना होगा और बेहतर योजना तैयार करनी होगी. हमें खेल की गति के साथ तालमेल बिठाना होगा और खेल को बहुत ज्यादा दूर नहीं जाने देना होगा. मुझे नहीं लगता कि बल्लेबाजी में कोई बड़ी तकनीकी खामी है, बस, हमें खेल के प्रति अपनी जागरुकता बढ़ाने के साथ थोड़ा साहसी होना पड़ेगा. ताकि हम विपक्षी टीम के गेंदबाजों को दबाव में ला सकें और उन्हें लंबे समय तक एक ही जगह गेंदबाजी करने का मौका न दें, जब तक कि कंडीशंस स्विंग और सीम गेंदबाजी के अनुकूल न हो. जैसा कि टेस्ट के पहले दिन हुआ था.

    टीम इंडिया WTC का फाइनल क्यों हारी, सचिन तेंदुलकर ने बताई इसकी वजह

    दरअसल, विराट का इशारा रवींद्र जडेजा की तरफ था. नील वैगनर ने जडेजा के खिलाफ लगातार कई ओवर शॉर्ट गेंदबाजी की और फिर आउट स्विंग गेंद पर उन्हें विकेट के पीछे कैच करवाया. कीवी गेंदबाजों ने ऐसा ही कुछ चेतेश्वर पुजारा के खिलाफ भी किया और काइल जेमिसन ने उन्हें अपना शिकार बनाया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.