होम /न्यूज /खेल /यश ढुल अंडर-19 वर्ल्ड कप में संभालेंगे भारतीय टीम की कमान, जानिए- दिल्ली के क्रिकेटर के बारे में सब-कुछ

यश ढुल अंडर-19 वर्ल्ड कप में संभालेंगे भारतीय टीम की कमान, जानिए- दिल्ली के क्रिकेटर के बारे में सब-कुछ

दिल्ली के रहने वाले यश ढुल अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की कमान संभालेंगे. (Instagram)

दिल्ली के रहने वाले यश ढुल अंडर-19 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की कमान संभालेंगे. (Instagram)

यश ढुल (Yash Dhull) दिल्ली के जनकपुरी में रहते हैं. उनके क्रिकेट सफर की शुरुआत घर की छत से हुई, फिर उन्होंने अंडर-16 के ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. युवा क्रिकेटर यश ढुल (Yash Dhull) अगले साल होने वाले अंडर-19 वर्ल्ड कप (U-19 World Cup-2022) में भारतीय टीम की कमान संभालेंगे. आईसीसी के इस टूर्नामेंट के लिए भारतीय टीम का ऐलान रविवार को हुआ. 4 बार की चैंपियन भारतीय टीम टूर्नामेंट में अपना पहला मुकाबला 15 जनवरी को खेलेगी. आंध्र प्रदेश के एसके रशीद को भारतीय टीम का उप-कप्तान बनाया गया है. अंड-19 वर्ल्ड कप अगले साल 14 जनवरी से वेस्टइंडीज की मेजबानी में खेला जाएगा जिसका फाइनल 5 फरवरी को होगा.

    यह अंडर-19 वर्ल्ड कप का 14वां सीजन है जिसमें 16 टीमें 4 ग्रुप में बांटी जाएंगी. भारत सबसे सफल टीम है जिसने 2000, 2008, 2012 और 2018 में इस टूर्नामेंट का खिताब जीता है. शेड्यूल की बात करें तो भारतीय टीम 15 जनवरी को गयाना में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना पहला मुकाबला खेलेगी. फिर 19 को आयरलैंड और 22 जनवरी को युगांडा से भिड़ंत होगी. अब दिल्ली के यश ढुल पर जिम्मेदारी रहेगी कि वह एक बार फिर से भारत को खिताब दिलाएं. जानते हैं यश ढुल के बारे में-

    इसे भी देखें, बेटे के लिए पिता ने नौकरी छोड़ी, दादा की पेंशन से चला घर; अब बना भारत का कप्तान

    परिवार ने दिया पूरा साथ
    यश ढुल दिल्ली में जनकपुरी के रहने वाले हैं. अंडर-19 एशिया कप के लिए भारतीय टीम की कप्तानी भी उन्हें दी गई है जो यूएई में होना है. यश को यहां तक पहुंचाने के पीछे उनके परिवार का बड़ा हाथ है. वह मिडिल ऑर्डर में खेलते हैं और अंडर-16 के दिनों से दिल्ली का नेतृत्व कर रहे हैं. यश के पिता ने अपने बेटे का करियर बनाने के लिए नौकरी छोड़ दी थी. वह फिलहाल एक कॉस्मेटिक ब्रांड के लिए बतौर एक्जीक्यूटिव काम कर रहे हैं.

    घर की छत से शुरू हुआ सफर
    यश के क्रिकेट सफर की शुरुआत दरअसल घर की छत से हुई. वह जब छोटे थे तो घर की छत पर ही क्रिकेटर खेला करते थे. बाद में उन्होंने पेशेवर करियर बनाने की सोची जिसमें उनके परिवार ने पूरा साथ दिया. 11 साल की उम्र में बाल भवन स्कूल अकादमी में जाने से पहले तक यश को भारती कॉलेज में एक स्थानीय अकादमी में ले जाया गया. 12 साल की उम्र में यश ने अंडर-14 में दिल्ली टीम का प्रतिनिधित्व किया था. तब परिवार को एहसास हुआ कि वह सही रास्ते पर है और क्रिकेट में उनका करियर अच्छा हो सकता है. ऐसे में पढ़ाई को नजरअंदाज किया जा सकता है.

    इसे भी देखें, उस्मान ख्वाजा ‘मून वॉक’ में भी हैं कमाल, Video देखकर हो जाएगा यकीन

    पिता ने छोड़ दी थी नौकरी
    यश के पिता विजय ने हाल में एक इंटरव्यू में कहा था, ‘आप चाहते हैं कि आपका बेटा दिल्ली जैसे शहर में क्रिकेट में अपना करियर बनाए, तो आपको कुछ समझौते करने होंगे. मुझे यह सुनिश्चित करना था कि मैं यश को पूरा समय दूं. ताकि वह इधर-उधर भटकने के बजाए क्रिकेट पर ही फोकस करे. इसी वजह से मैंने अपना करियर को दांव पर लगाया और नियमित नौकरी छोड़ दी.’

    फौजी दादा की पेंशन का था सहारा
    यश के दादा फौज में थे और अब उन्हें पेंशन मिलती है. जब विजय ने नौकरी छोड़ी तो यश के दादा की पेंशन से ही घर का खर्चा चलता था. यह बात खुद विजय ने बताई थी. विजय ने यश को अच्छे इंग्लिश विलो बैट दिए. लगातार बैट अपग्रेड करने के लिए घर के खर्च में कटौती भी करनी पड़ी. घर की छत पर विजय ही यश को घंटों प्रैक्टिस कराते थे.

    अंडर-19 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम- यश ढुल (कप्तान), हरनूर सिंह, अंगक्रिश रघुवंशी, एसके रशीद (उपकप्तान), निशांत सिंधु, सिद्धार्थ यादव, अनीश्वर गौतम, दिनेश बाना, आराध्य यादव (विकेटकीपर), राज अंगद बाव, मानव पारखी, कौशल तांबे, आरएस हैंगरगेकर, वासु वत्सो, विक्की ओस्तवाल, रवि कुमार और गर्व सांगवान

    Tags: Cricket news, Cricket world cup, Icc world cup, Indian Cricket Team, World cup

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें