WTC Final में किसे होना चाहिए रोहित शर्मा का सलामी जोड़ीदार, युवराज सिंह ने बताया नाम

रोहित शर्मा ने 38 टेस्ट में 2615 रन बनाए हैं. उन्होंने सात शतक लगाए हैं. (Rohit Sharma twitter)

रोहित शर्मा ने 38 टेस्ट में 2615 रन बनाए हैं. उन्होंने सात शतक लगाए हैं. (Rohit Sharma twitter)

न्यूजीलैंड के खिलाफ विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल((WTC Final) में रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का बतौर ओपनर खेलना लगभग तय है. लेकिन उनके जोड़ीदार के रूप में शुभमन गिल या मयंक अग्रवाल(Mayank Agarwal) में से किसे मौका मिलना चाहिए. इस पर पूर्व भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह ने अपनी राय जाहिर की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 10, 2021, 10:29 AM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. भारत और न्यूजीलैंड के बीच विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल में अब 7 दिन का वक्त बचा है. दोनों टीमें इस महामुकाबले की तैयारियों में जुटी हुई हैं. इंग्लैंड की कंडीशंस में न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज भारतीय बल्लेबाजों के सामने मुश्किलें खड़ी कर सकते हैं. ऐसे में टीम इंडिया का प्लेइंग-11 तय करना भी किसी चुनौती से कम नहीं है. रोहित का बतौर ओपनर खेलना लगभग तय है. लेकिन उनके जोड़ीदार के रूप में किसे मौका दें. ये सवाल टीम मैनेजमेंट के सामने खड़ा है. क्या मयंक अग्रवाल या फिर शुभमन गिल को ये मौका मिलेगा. इसे लेकर पूर्व भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह ने अपनी राय जाहिर की है.

युवराज को लगता है कि रोहित शर्मा के साथ शुभमन गिल से पारी का आगाज कराना चाहिए. उन्होंने स्पोर्ट्स तक से बातचीत में कहा कि रोहित टेस्ट क्रिकेट में काफी अनुभवी हो चुके हैं. वो बतौर ओपनर 7 शतक लगा चुके हैं. उन्हें इंग्लैंड में इस अनुभव का इस्तेमाल करना चाहिए. हालांकि, रोहित ने इंग्लैंड में कभी भी पारी की शुरुआत नहीं की. वहीं, शुभमन का तो ये पहला इंग्लैंड दौरा होगा. ऐसे में दोनों के सामने चुनौती होगी.

इंग्लैंड में सेशन को ध्यान में रखकर बल्लेबाजी करनी होगी: युवराज

पूर्व ऑलराउंडर ने कहा कि दोनों को इस चुनौती के बारे में पता है. ड्यूक बॉल शुरुआत में काफी स्विंग होती है. ऐसे में दोनों को कंडीशंस से जल्दी तालमेल बैठाना होगा. इंग्लैंड में किसी भी खिलाड़ी के लिए ये जरूरी है कि वो एक-एक सेशन को ध्यान में रखकर ही बल्लेबाजी करे. सुबह गेंद स्विंग और सीम होगी. हालांकि, जैसे-जैसे दिन गुजरेगा बल्लेबाजी करना थोड़ा आसान होगा. इस दौरान आप रन बना सकते हैं. हालांकि, टी ब्रेक के बाद फिर गेंद स्विंग होने लगती है. ऐसे में बतौर बल्लेबाज इन हालातों से तालमेल बैठा लिया तो आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता है.
डॉक्टर की सलाह पर क्रिकेट एकेडमी में हुआ था अजिंक्य रहाणे का एडमिशन!

इस बीच, युवराज भी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल के लिए बनाए गए नियमों से खुश नहीं है. उनसे पहले भारतीय कोच रवि शास्त्री ने भी इस पर आपत्ति जताई थी. युवराज के मुताबिक, डब्ल्यूटीसी के विजेता को तय करने के लिए बेस्ट ऑफ थ्री फाइनल होने चाहिए.

मॉर्गन को कप्तानी से हटाएगी कोलकाता की टीम? हेड कोच ब्रैंडन मैक्कलम की नौकरी भी खतरे में



'WTC Final में बेस्ट ऑफ थ्री सीरीज होनी चाहिए'

उन्होंने आगे कहा कि मेरा मानना है कि ऐसी स्थिति में बेस्ट ऑफ थ्री टेस्ट की सीरीज ही होनी चाहिए. क्योंकि अगर आप पहला मैच गंवा दें, तो अगले दो मैचों में वापसी कर सकते हो. भारत थोड़े नुकसान की स्थिति में है. क्योंकि न्यूजीलैंड की टीम पहले ही इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज खेल रही है और मैच खेलने से बेहतर तैयारी कुछ नहीं हो सकती है. भारतीय टीम को सिर्फ कुछ दिन अभ्यास के लिए मिलेंगे. ऐसे में कीवी टीम का पलड़ा थोड़ा भारी जरूर रहेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज