युवराज सिंह बोले- अनुभवी नहीं, पसंदीदा खिलाड़ियों को मौका देती है टीम इंडिया, सेलेक्टर खुद 4-5 मैच खेले हैं

युवराज सिंह बोले- अनुभवी नहीं, पसंदीदा खिलाड़ियों को मौका देती है टीम इंडिया, सेलेक्टर खुद 4-5 मैच खेले हैं
युवराज सिंह ने उठाए टीम इंडिया के सेलेक्शन के तरीके पर सवाल

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने 2019 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के मिडिल ऑर्डर पर सवाल खड़े किये

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. भारत को दो वर्ल्ड कप जितने वाले पूर्व ऑलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने टीम इंडिया मैनेजमेंट और उसके चयनकर्ताओं पर एक बार फिर हमला बोला है. युवराज सिंह ने साल 2019 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के सेलेक्शन पर सवाल खड़े कर दिये. युवराज ने सोशल मीडिया पर एक लाइव चैट के दौरान कहा कि 2019 वर्ल्ड कप में बेहद ही कमजोर मिडिल ऑर्डर खिलाया गया. उसमें अनुभवी खिलाड़ियों की जगह ऋषभ पंत और विजयशंकर जैसे अनुभवहीन खिलाड़ियों को जगह दी गई.

युवराज सिंह का टीम इंडिया पर हमला
युवराज (Yuvraj Singh) ने कहा, '2019 वर्ल्ड कप में मिडिल ऑर्डर में टीम इंडिया की क्या सोच थी, ये मेरी समझ से बाहर है. विराट कोहली, रोहित शर्मा रन बना रहे थे लेकिन विजय शंकर, ऋषभ पंत मिडिल ऑर्डर में थे. वो लड़के युवा थे, उनपर सवाल उठाना गलत था.' युवराज ने आगे कहा,' अंबति रायडू को आखिरी वक्त पर टीम से निकाल दिया गया. आप किसी खिलाड़ी के साथ ऐसा नहीं कर सकते. रायडू न्यूजीलैंड गए थे और उसके बाद ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन मैच में उनका बल्ला नहीं चला. उनको वर्ल्ड कप में इसलिए जगह नहीं मिली क्योंकि आईपीएल में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं था. ऐसे फैसलों के खिलाफ आवाज उठानी जरूरी होता है.'

टी20 वर्ल्ड कप में भी गड़बड़ कर सकती है टीम इंडिया!



युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा कि वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में आपको अनुभवी खिलाड़ी टीम में रखने चाहिए. उन्होंने कहा, 'जब मैं 2003 वर्ल्ड कप खेला था तो मैंने 40 से 50 मैच खेल लिये थे. आप 3-4 मैच खेलने वालों के साथ वर्ल्ड कप नहीं खेल सकते.' युवराज आगे बोले, 'अब टी20 वर्ल्ड कप आने वाला है, इसमें आपको अनुभवी खिलाड़ी चाहिए होंगे ना कि पसंदीदा खिलाड़ी. सेलेक्टरों को टीम के ऐसे फैसलों पर सवाल खड़े करने चाहिए. लेकिन सेलेक्टर भी क्या बोलेंगे वो खुद 4-5 मैच खेले होते हैं, उनकी सोच भी वैसी ही है. टीम का कुछ पता नहीं क्या पता ये सोचें की ये बंदा मुझे पसंद है, अच्छे शॉट मारता है इसे टी20 वर्ल्ड कप में मौका देते हैं.'



2014 टी20 वर्ल्ड कप की कड़वी यादें
बता दें युवराज सिंह (Yuvraj Singh)  ने 2014 टी20 वर्ल्ड कप की कड़वी यादों पर भी बड़ी बात कही. युवी ने कहा कि उन्हें लगा था कि फाइनल में खराब प्रदर्शन के बाद अब वो टीम इंडिया के लिए कभी नहीं खेल पाएंगे, उनका करियर खत्म हो चुका है.

युवराज (Yuvraj Singh) बोले, 'मैंने फाइनल में खराब खेलने की पूरी जिम्मेदारी ली थी. मलिंगा ने गेंदबाजी अच्छी की और दुर्भाग्य से उस दिन वर्ल्ड कप फाइनल था. मुझे घर जाकर लगा कि मैं विलेन हूं. मैं एयरपोर्ट पर था और मीडिया मुझपर चिल्ला रहा था. मेरे घर पर पत्थर भी फेंके गए थे. मुझे अपराधी जैसा महसूस हुआ. लेकिन मैंने वहां से वापसी की, वो लम्हा मैं भूल नहीं सकता.2007 टी20 वर्ल्ड कप और 2011 वर्ल्ड कप में मैंने अच्छा किया और मुझे श्रेय मिला लेकिन जब आप हारते हैं तो ज्यादा विरोध होता है. सचिन ने मेरे समर्थन में ट्वीट किया था, उसके बाद थोड़ा माहौल शांत हुआ. मुझे उस मैच के बाद लगा कि मेरा करियर खत्म हो गया है.'

थूक से गेंद को नहीं चमका पाएंगे खिलाड़ी,ICC क्रिकेट कमेटी ने की बैन की सिफारिश
First published: May 19, 2020, 6:06 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading