• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • भारतीय कोच पर उठाए सवाल, फिर बोले- रात को हार्दिक पंड्या के साथ करता 'शराब पार्टी'

भारतीय कोच पर उठाए सवाल, फिर बोले- रात को हार्दिक पंड्या के साथ करता 'शराब पार्टी'

युवराज सिंह ने कहा कि वह रात 10 बजे हार्दिक पंड्या को ड्रिंक्‍स के लिए बाहर ले जाते.

इस दिग्‍गज खिलाड़ी के अनुसार बतौर कोच हर खिलाड़ी से अलग तरह से पेश आना होता है. वे रात नौ बजे जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) को गुडनाइट बोलकर 10 बजे हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) को ड्रिंक्‍स पर ले जाते

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. क्रिकेट न होने के कारण बाकी क्रिकेटर्स की तरह भारत के पूर्व स्‍टार ऑलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) भी इस समय सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हो गए हैं. वह इंस्टाग्राम पर अक्‍सर क्रिकेटर्स के साथ लाइव आ रह हैं. एक ऐसे ही लाइव सेशन में पूर्व स्‍टार ऑलराउंडर ने भारत के मौजूदा बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौड़ (Vikram Rathore) पर ही सवाल उठा दिए. युवी के अनुसार विक्रम टी20 क्रिकेट में खिलाड़ियों का मार्गदर्शन रखने की काबिलियत नहीं रखते. उन्‍होंने सिर्फ बल्‍लेबाजी कोच ही नहीं, बल्कि मुख्‍य कोच रवि शास्‍त्री और टीम चयनकर्ताओं पर भी सवाल उठाए.
    युवराज ने कहा कि हर खिलाड़ी से अलग तरह से पेश आना पड़ता है.उनके अनुसार अगर वो कोच होते तो वो सभी से अलग तरह से पेश आते. वें रात 9 बजे गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को गुडनाइट बोले देते और फिर रात 10 बजे हार्दिक पंड्या को ड्रिंक्‍स के लिए बाहर ले जाते. युवी ने कहा कि मौजूदा टीम इंडिया के पास सलाह देने के लिए कोई नहीं है. उन्‍हें नहीं पता कि मुख्‍य कोच रवि शास्त्री ये कर रहे हैं या नहीं.

    चयनकर्ताओं के फैसलों को चुनौती देने वाला हो

    युवराज ने कहा कि वह ही हमेशा कहते हैं कि चयनकर्ताओं के फैसलों को चुनौती देने वाला होना चाहिए, लेकिन अगर आपके चयनकर्ताओं ने सिर्फ चार-पांच मैच वनडे मैच खेले हों, तो उनकी मानसिकता उसी तरह की होगी. यह चीजें तब नहीं होती थी जब सौरव गांगुली और महेंद्र सिंह धोनी कप्तान थे. 2011 विश्व कप में अच्छी खासी अनुभवी टीम थी.'विक्रम राठौड़ ने भारत के लिए 1996 से 1997 के बीच छह टेस्ट और सात वनडे खेले हैं. उन्‍होंने टी20 फॉर्मेट में एक भी मैच नहीं खेला है. उनके दोस्‍त युवराज ने ही उनकी काबिलियत पर सवाल उठा दिए. युवी ने अनुसार हर खिलाड़ी को ये नहीं कह सकते कि मैदान पर जाओ और खुलकर खेलो. अगर आप सोचे कि यह तरीका वीरेंद्र सहवाग और चेतेश्‍वर पुजारा दोनों पर काम करें तो ऐसा नहीं हो सकता. मैदान पर जाने और खेलने का तरीका सहवाग जैसे खिलाड़ी के साथ काम कर सकता है, मगर पुजारा पर अलग तरीका काम करेगा.

    सचिन के आउट नहीं होने की कामना करता थे ये पाकिस्तानी कप्तान, किया बड़ा खुलासा

    इस कप्तान को सरकार ने दी जान से मारने की धमकी, संन्यास लेकर भगवान की सेवा...

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज