टीम इंडिया के मैनेजमेंट पर बरसे युवराज सिंह, इन पर फोड़ा वर्ल्‍ड कप हार का ठीकरा

युवराज सिंह ने हाल ही में अबु धाबी टी-10 लीग में हिस्सा लिया था. (फाइल फोटो)
युवराज सिंह ने हाल ही में अबु धाबी टी-10 लीग में हिस्सा लिया था. (फाइल फोटो)

युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने कहा कि अंबाती रायडू (Ambati Rayudu) के साथ जो कुछ भी हुआ उससे उन्‍हें निराशा हुई.

  • Share this:
नई दिल्ली. युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने भारतीय टीम (Indian Team) के विश्व कप सेमीफाइनल से बाहर होने के लिए टीम प्रबंधन की कड़ी आलोचना की. उन्‍होंने कहा कि इस टूर्नामेंट के लिए उनकी योजना पूरी तरह से गलत थी. खिताब का प्रबल दावेदार भारत (India) विश्व कप (World Cup) में नंबर चार पर स्थापित बल्लेबाज के बिना उतरा था जिससे टीम प्रभावित हुई और विराट कोहली (Virat Kohli) की टीम को सेमीफाइनल से बाहर होना पड़ा. युवराज ने कहा, ‘इस विश्व कप में उन्होंने (अंबाती) रायडू को बाहर कर दिया. विजय शंकर टीम के साथ गए जो चोटिल हो गए और फिर ऋषभ पंत को चुना गया. मैं इनके खिलाफ नहीं हूं लेकिन दोनों ने पांच वनडे मैच खेले थे. मेरे कहने का मतलब है कि इतने कम अनुभव वाले खिलाड़ी से आप कैसे बड़े मैचों में जीत की उम्मीद करते हैं.’

'जो थिंक टैंक ने किया उससे नाराजगी'
उन्होंने कहा, ‘मेरी नाराजगी उन चीजों से है जो थिंक टैंक ने की. दिनेश कार्तिक टूर्नामेंट में बाहर ही बैठे रहे, लेकिन अचानक उन्हें सेमीफाइनल में उतारा गया. महेंद्र सिंह धोनी जैसे खिलाड़ी को सातवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. यह अव्यवस्था की स्थिति थी. बड़े मैचों में आप ऐसा नहीं कर सकते.’

Hyderabad Cricket Association, Ambati Rayudu, bcci, Ranji Trophy, team india, हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन, क्रिकेट, अंबाती रायडू, टीम इंडिया, मोहम्मद अजहरुद्दीन, रणजी ट्रॉफी
अंबाती रायडू का विवादों से लंबे समय का साथ है

'रणनीति पूरी तरह से गलत थी'


युवराज ने कहा, ‘आपके चौथे नंबर के बल्लेबाज का उच्चतम स्कोर 48 रन था, इसलिए पूरी योजना ही खराब थी क्योंकि वे मानकर चल रहे थे कि रोहित, विराट अच्छी फॉर्म में हैं लेकिन टीमें ऐसे जीत दर्ज नहीं करतीं. अगर आप ऑस्ट्रेलिया को देखो, अगर आप उनकी 2003, 2011, 2015 की टीमें देखो तो उनके पास मंझे हुए बल्लेबाज थे. इसलिए मेरा मानना है कि रणनीति पूरी तरह से गलत थी.’

'रायडू के साथ अच्‍छा नहीं हुआ'
रायडू को भारत का नंबर चार बल्लेबाज माना जा रहा था, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में अच्छा प्रदर्शन नहीं करने के कारण उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया. युवराज ने कहा, ‘रायडू के साथ जो कुछ हुआ उससे मैं काफी निराश था. वह एक साल से भी अधिक समय तक नंबर चार बल्लेबाज रहा. यहां तक कि न्यूजीलैंड में आखिरी मैच में भी. उसने उस मैच में 90 रन बनाए और 'मैन ऑफ द मैच' बना.’

यह भी पढ़ें :-

मुस्लिम होकर भारत के लिए क्यों खेलते हो? इरफान के जवाब पर सब बजाने लगे ताली

नीलामी से पहले कोहली का फैंस काे खास मैसेज, कहा- इस बार नहीं करेंगे निराश
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज