लाइव टीवी

इंग्लैंड की गलतियों से सीखकर गेंदबाजी की: भुवनेश्वर

वार्ता
Updated: July 19, 2014, 10:17 AM IST
इंग्लैंड की गलतियों से सीखकर गेंदबाजी की: भुवनेश्वर
भारत के मीडियम पेसर भुवनेश्वर कुमार नें कहा है कि दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन इंग्लैंड के गेंदबाजों की गलतियों से सीख लेकर उन्होंने यहां दूसरे दिन अच्छा प्रदर्शन किया।

भारत के मीडियम पेसर भुवनेश्वर कुमार नें कहा है कि दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन इंग्लैंड के गेंदबाजों की गलतियों से सीख लेकर उन्होंने यहां दूसरे दिन अच्छा प्रदर्शन किया।

  • Share this:
लंदन। भारत के मीडियम पेसर भुवनेश्वर कुमार नें कहा है कि दूसरे क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन इंग्लैंड के गेंदबाजों की गलतियों से सीख लेकर उन्होंने यहां दूसरे दिन अच्छा प्रदर्शन किया। कुमार ने शुक्रवार को लॉर्ड में चल रहे दूसरे दिन के खेल के बाद कहा है कि हमने पहले दिन इंग्लैंड के गेंदबाजों से सीखा और हमने देखा कि वह बहुत छोटी गेंद फेंक रहे है। अत: हमने देखा और सीखा कि गेंद की दूरी क्या रखनी है और उसकी के अनुसार अपनी गेंदबाजी की।

उत्तर प्रदेश का यह गेंदबाज प्रवीण कुमार को अपना हीरो मानता है। प्रवीण साल 2011 के दौरे में भारत के स्टार गेंदबाज बनकर सामने आए थे। कुमार ने कहा है कि मैंने प्रवीण कुमार से काफी कुछ सीखा है। मैंने उनके साथ गेंदबाजी की है और यहां आने से पहले उनसे बातचीत भी की थी।

कुमार ने कहा है कि आईपीएल में मैंने डेल स्टेन से सीखा था। हमारी गेंदबाजी का स्टाइल थोड़ा अलग है लेकिन वह एक महान गेंदबाज है और जिस तरीके से वह गेंद डालते है आप हमेशा उनसे कुछ सीख सकते हो। मैचों के दौरान उन्होंने मुझे काफी टिप्स दिए थे जो मैंने अपनी गेंदबाजी में भी प्रयोग किए।

कुमार ने दूसरे टेस्ट मैच में मेजबान इंग्लैंड की पहली पारी में 46 रन देकर चार विकेट झटके थे। कुमार ने अपनी प्रभावी गेंदबाजी के बारे में कहा है कि मैं इंग्लैंड में गेंदबाजी का आनंद ले रहा हूं। लॉर्डस् में अच्छा करना निश्चित तौर पर एक अच्छा अनुभव है। मैं बचपन से ही इस मैदान पर टेस्ट क्रिकेट को देख रहा हूं और यहां खेलना ऐसा है जिसका मैं लम्बे समय से इंतजार कर रहा था।

अनुशासित गेंदबाजी प्रदर्शन के बारे में बात करते हुए कुमार ने कहा है कि हमारी योजना ऑफ स्टाम्प के बाहर गेंद डालने की है। यहां पर विकेट से कुछ सहायता मिली है लेकिन फिर भी अनुशासन में रहना महत्वपूर्ण है। भारतीय गेंदबाजी ने इंग्लैंड को दूसरे टेस्ट की पहली पारी में ढंग से मैदान पर टिकने भी नहीं दिया और गैरी बैलेंस के दूसरे टेस्ट शतक से पहले एक समय तो उनका स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 113 पर था।

23 वर्षीय कुमार ने कहा है कि मैं इंग्लैंड में बल्लेबाजी का भी आनंद उठा रहा हूं। यह हमेशा आपको अच्छा लगता है जब आप टेस्ट क्रिकेट में रन बनाते हो। कोच डंकन फलेचर ने इस बारे में बात की है कि नौवें-10वें और 11वें नंबर के बल्लेबाज के लिए रन बनाना कितना महत्वपूर्ण है तो मैं नेट पर टीम की मदद करने के लिए काफी मेहनत कर रहा हूं।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 19, 2014, 10:17 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...