मोहित बोले, गेंदबाजों की एकजुटता से हुआ फायदा

वार्ता
Updated: March 9, 2015, 10:47 AM IST
मोहित बोले, गेंदबाजों की एकजुटता से हुआ फायदा
भारतीय तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने कहा कि सभी खिलाड़ी एकजुट होकर गेंदबाजी कर रहे हैं और आने वाले मैचों में इसमें और भी सुधार देखने को मिलेगा।

भारतीय तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने कहा कि सभी खिलाड़ी एकजुट होकर गेंदबाजी कर रहे हैं और आने वाले मैचों में इसमें और भी सुधार देखने को मिलेगा।

  • Share this:
हैमिल्टन। भारतीय तेज गेंदबाज मोहित शर्मा ने विश्वकप टूर्नामेंट में अभी तक टीम के गेंदबाजी प्रदर्शन पर संतोष व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि सभी खिलाड़ी एकजुट होकर गेंदबाजी कर रहे हैं और आने वाले मैचों में इसमें और भी सुधार देखने को मिलेगा।

बता दें कि पिछली बार चैंपियन रही भारतीय टीम मंगलवार को आयरलैंड के खिलाफ अगले पूल बी मैच में उतरेगी। साथ ही भारत अभी तक सभी चारों मैच जीतकर अपने ग्रुप में शीर्ष पर है और क्वार्टर फाइनल के लिए क्वालिफाई कर चुका है।

मोहित ने कहा कि हमने एक इकाई की तरह अभी तक प्रदर्शन किया है और मैं इस प्रदर्शन से खुश हूं। हम पांचों गेंदबाजों ने अब तक बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है। उन्होंने ये भी कहा कि हम अच्छा खेल रहे हैं लेकिन खेल में हमेशा अच्छा करने की गुंजाइश बचती है। लेकिन आगे हमें दबाब झेलने के लिए तैयार रहना होगा।

टीम के पिछले चार मैचों में कुल लिए गए 40 विकेटों में से तीन तेज गेंदबाजों ने 21 विकेट निकाले हैं जिसमें मोहम्मद शमी ने नौ विकेट, मोहित ने छह और उमेश ने छह विकेट लिए हैं। वहीं मोहित ने साथी गेंदबाजों की प्रशंसा करते हुए कहा कि शमी और उमेश की मदद से वो मैचों में और भी बेहतर प्रदर्शन कर पाये हैं।

भारतीय गेंदबाज ने कहा कि शमी और उमेश बहुत अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं। उनकी वजह से मेरी जिम्मेदारी कुछ कम हो जाती है और मैं फिर विपक्षी बल्लेबाजों पर दबाव बनाने का काम करता हूं। इसके बाद रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा बाद में अपनी भूमिका निभाते हैं।

मोहित ने बताया कि जब बल्लेबाज दबाव में आ जाते हैं तो मेरा दबाव कम हो जाता है। इसके बाद मैं अपनी पूरी क्षमता के साथ गेंदबाजी कर सकता हूं। मैं पिछले 10 सालों से यही कर रहा हूं कि अपनी अपनी लाइन एंड लेंथ के हिसाब से खेलूं और विकेट के हिसाब से गेंदबाजी करूं।

विश्वकप टूर्नामेंट से बाहर हुए इशांत को श्रेय देते हुए मोहित ने कहा कि जब मैं आस्ट्रेलिया आया था तो इशांत ने मुझे बहुत मदद की। उन्होनें मुझे अभ्यास सत्र में सिखाया कि नई गेंद और पुरानी गेंद के साथ लेंथ क्या होनी चाहिए। वह इन परिस्थितियों में खेलने का अनुभव रखते हैं और उन्होंने इसे मेरे साथ साझा भी किया है।
Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 9, 2015, 10:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...