Home /News /sports /

कंगारुओं के इन '5 हथियारों' से बचके टीम इंडिया!

कंगारुओं के इन '5 हथियारों' से बचके टीम इंडिया!

क्रिकेट वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में कल भारत ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगा। जीतने वाली टीम फाइनल में न्यूजीलैंड के सामने होगी। डू और डाई मैच पर सबकी निगाहें हैं।

क्रिकेट वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में कल भारत ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगा। जीतने वाली टीम फाइनल में न्यूजीलैंड के सामने होगी। डू और डाई मैच पर सबकी निगाहें हैं।

क्रिकेट वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में कल भारत ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगा। जीतने वाली टीम फाइनल में न्यूजीलैंड के सामने होगी। डू और डाई मैच पर सबकी निगाहें हैं।

नई दिल्ली। क्रिकेट वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मुकाबले में कल भारत ऑस्ट्रेलिया से भिड़ेगा। जीतने वाली टीम फाइनल में न्यूजीलैंड के सामने होगी। डू और डाई मैच पर सबकी निगाहें हैं। भारत के लिए चुनौती इस मायने में ज्यादा बड़ी है कि उसे ऑस्ट्रेलिया से उसी के घर में निपटना है। रिकॉर्ड भी भारत के खिलाफ है, वह 10 में से सिर्फ एक बार सिडनी के मैदान पर जीत दर्ज कर पाया है। बहरहाल, टीम इंडिया इस वक्त प्रचंड फॉर्म में है। उसने लगातार 7 मैच जीतकर चैंपियनों जैसा प्रदर्शन किया है। लेकिन कंगारुओं से निपटने के लिए भारत को 5 बातों से संभलकर रहना होगा।

स्लेजिंग में माहिर

कंगारु स्लेजिंग में माहिर माने जाते हैं। खास तौर पर बड़े मैचों में स्लेजिंग कंगारुओं का बड़ा हथियार बन जाती है। डेविड वार्नर, मिशेल जॉनसन, वाटसन, स्टार्क स्लेजिंग में माहिर हैं और मैदान पर लगातार विरोधी बल्लेबाजों को परेशान करते रहते हैं। जॉनसन ने तो ऐलान भी कर दिया है कि वो मैदान पर खुलकर स्लेजिंग करेंगे। क्वार्टर फाइनल में भी ऑस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान के खिलाफ इस हथियार को आजमाया। गेंदबाज मिशेल स्टार्क ने पाक बल्लेबाजों को उकसाया। रियाज बहाव का को मिशेल मजाक उड़ाने लगे। लेकिन वहाब ने पलटवार करते हुए कंगारु बल्लेबाजों की कमजोरियों को उजागर कर दिया। वहाब की बाउंसर के सामने शेन वाटसन लाचार नजर आ रहे थे। भारत को भी ऐसा ही आक्रामक रवैया अख्तियार करना होगा और कंगारुओं को उन्ही के अंदाज में जवाब देना होगा।


तेज गेंदबाजी


ऑस्ट्रेलिया का बॉलिंग अटैक वर्ल्ड कप में सबसे मजबूत है। उसके पास मिशेल स्टार्क और मिशेल जॉनसन जैसे बाए हाथ के धाकड़ गेंदबाज हैं जो 150 की स्पीड से गेंद फेंक सकते हैं। इसके अलावा फॉकनर और पैट कमिंस भी बल्लेबाजों की परीक्षा लेते हैं। टीम इंडिया को इस चौकड़ी से संभलकर रहना होगा। शॉर्ट पिच गेंदों को संभलकर खेलना होगा। अगर विराट कोहली, अंजिक्य रहाणे जैसे खिलाड़ियों को छोड़ दिया जाए तो अधिकतर बल्लेबाज शॉर्ट पिच गेंदों पर असहज नजर आते हैं। भारतीय बल्लेबाज इससे निपटने में कामयाब रहते हैं तो उसे जीत से कोई नहीं रोक सकता।


ओपनर बल्लेबाज

ऑस्ट्रेलिया के पास आरोन फिंच और डेविड वार्नर जैसे दो धाकड़ ओपनिंग बल्लेबाज हैं। दोनों आक्रामक बल्लेबाजी करते हैं और किसी भी मैच का पासा पलटने का दमखम इनके पास है। भारतीय गेंदबाजों ने अब तक शानदार प्रदर्शन किया है। सेमीफाइनल में भी ये लय बरकरार रखनी होगी। अगर इन दोनों बल्लेबाजों को टीम इंडिया के गेंदबाज जल्दी पवेलियन भेजने में साफल रहते हैं तो भारत की राह आसान हो जाएगी।


फील्डिंग पर नजर

ऑस्ट्रेलिया की फील्डिंग जबरदस्त है। ये टीम फील्डिंग से विपक्षी टीम पर दबाव बनाने में माहिर है। वार्नर, स्टीवन स्मिथ, वाटसन, क्लार्क जैसे फील्डर विपक्षी टीम को गलतियां करने पर मजबूर कर देते हैं। भारत को इसका खास ध्यान रखना होगा। एक गलती भी टीम को भारी पड़ सकती है। साथ ही भारत को भी शानदार फील्डिंग करनी होगी। वैसे तो टीम इंडिया ने अब तक जबरदस्त फील्डिंग का नजारा पेश किया है। कोहली, रैना, रहाणे, रोहित, जडेजा ने मैदान पर पूरी जान लगा दी है। कई शानदार रन आउट इनके नाम हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ये लय बरकरार रखनी होगी। कहीं हाल द. अफ्रीका जैसा न हो जाए जिसने न्यूजीलैंड के खिलाफ घटिया फील्डिंग से मैच गंवा दिया। रन आउट तो छोड़े ही कई कैच भी गंवाए। भारत को इस अहम मैच में फील्डिंग पर और जोर लगाना होगा ताकि कंगारू बल्लेबाज दबाव में आएं।

दबाव से निपटना

इस बड़े मैच में टीम इंडिया को दबाव से निपटने की रणनीति और कारगर बनानी होगी। ऑस्ट्रेलियाई टीम विरोधियों को दबाव में लाने के लिए मशहूर है। चाहे स्लेजिंग हो या फिर आक्रामक गेंदबाजी। कंगारु विरोधी टीम को गलतियां करने पर मजबूर कर देते हैं। भारत को कंगारुओं की इसी रणनीति से निपटना होगा। हालांकि कप्तान महेंद्र सिंह धोनी दबाव से निपटने में किसी भी दूसरे कप्तान से माहिर माने जाते हैं। उनकी इस काबिलियत का हर कोई कद्रदान है। लेकिन टीम के दूसरे खिलाड़ियों को उनसे सीख लेनी होगी। बेहद तनाव भरे माहौल में दबाव में खुद को बिखरने से बचाना होगा। न्यूजीलैंड के खिलाफ द. अफ्रीका दबाव में बिखर गई और एक के बाद एक गलतियां करती चली गई। नतीजा सबके सामने है। खिलाड़ियों को धोनी से सबक लेते हुए खुद को गैरजरूरी दबाव से बचाना होगा। अगर भारत इन पांच बातों का ध्यान रखे तो उसे फाइनल में जाने से कोई नहीं रोक सकेगा।




Tags: Australia, Virat Kohli

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर