Home /News /sports /

धोनी चाहते हैं वनडे मैच के नियमों में बदलाव

धोनी चाहते हैं वनडे मैच के नियमों में बदलाव

आईसीसी वर्ल्ड कप-2015 के सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हारकर बाहर हो चुकी भारतीय टीम के कप्तान धोनी ने अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच के नियमों में परिवर्तन की बात की।

आईसीसी वर्ल्ड कप-2015 के सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हारकर बाहर हो चुकी भारतीय टीम के कप्तान धोनी ने अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच के नियमों में परिवर्तन की बात की।

आईसीसी वर्ल्ड कप-2015 के सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हारकर बाहर हो चुकी भारतीय टीम के कप्तान धोनी ने अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच के नियमों में परिवर्तन की बात की।

    सिडनी। आईसीसी वर्ल्ड कप-2015 के सेमीफाइनल मैच में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हारकर बाहर हो चुकी भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच के नियमों में परिवर्तन की बात की और कहा कि अत्यधिक चौकों-छक्कों ने क्रिकेट के इस प्रारूप को उबाऊ बना दिया है। धोनी ने कहा कि ओडीआई को टी-20 जैसा नहीं होना चाहिए।

    धोनी ने कहा कि यह मेरी निजी राय है, मैं इसमें बदलाव करना चाहूंगा। क्रिकेट के इतिहास में हमने 200 का निजी स्कोर नहीं देखा था, लेकिन पिछले तीन सालों में तीन बार 200 से अधिक के निजी स्कोर बने।

    उन्होंने आगे कहा कि बहुत लोग कहेंगे कि अतिरिक्त क्षेत्ररक्षकों के घेरे के अंदर रहने से अधिकांश गेंदों पर रन नहीं बन पाते। मैं कहना चाहूंगा कि उन्होंने घेरे के बाहर भेजे जाने का विकल्प होना चाहिए। आप अपने सभी खिलाड़ियों को चाहे घेरे के अंदर बुला सकते हैं। इस पर आगे विचार करना होगा।

    धोनी की टीम को सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया से मिले 329 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 46.5 ओवरों में 233 रनों पर सिमट गई और उन्हें 95 रनों से यह मैच गंवाना पड़ा।

    धोनी ने कहा कि ओडीआई को टी-20 जैसा नहीं बनने देना चाहिए, क्योंकि मुझे लगता है कि चौकों-छक्कों की भरमार ने इस प्रारूप को उबाऊ बना दिया है। धोनी सेमीफाइनल मैच में टीम के सर्वोच्च स्कोरर रहे। उन्होंने 65 गेंदों का सामना करते हुए 65 रन बनाए।

    धोनी ने कहा कि ओडीआई की असली खूबसूरती यह है कि कोई टीम मध्य के ओवरों में कैसी बल्लेबाजी करती है। उन्होंने कहा कि ओडीआई का मुख्य आकर्षण है कि कोई टीम 15वें से लेकर 35वें ओवर तक कैसी बल्लेबाजी करती है। शुरुआती 10 और आखिर के 10 ओवर खास मायने नहीं रखते, क्योंकि ये ओवर किसी टी-20 मैच जैसे ही होते हैं।

    धोनी ने यह भी माना कि मौजूदा ओडीआई नियम गेंदबाजों के लिए काफी कठिन हैं, खासकर स्पिन गेंदबाजों के लिए। धोनी ने कहा कि आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि टीम में उनकी जगह बनी रहे। मेरा मानना है कि नियम थोड़े कठिन हैं। स्पिन गेंदबाजों के लिए तो ये कुछ ज्यादा ही कठोर हैं।

    Tags: Mahendra Singh Dhoni

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर