IPL-8 में RCB के लिए ये चार खिलाड़ी है अहम!

IPL-8 में RCB के लिए ये चार खिलाड़ी है अहम!
पिछले साल आईपीएल में एक और फिसड्डी टीम रही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर। बैंगलोर एक ऐसी टीम है जिसके पास शुरुआत से ही बड़े स्टार्स मौजूद रहे हैं।

पिछले साल आईपीएल में एक और फिसड्डी टीम रही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर। बैंगलोर एक ऐसी टीम है जिसके पास शुरुआत से ही बड़े स्टार्स मौजूद रहे हैं।

  • Share this:
नई दिल्ली। पिछले साल आईपीएल में एक और फिसड्डी टीम रही रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर। बैंगलोर एक ऐसी टीम है जिसके पास शुरुआत से ही बड़े स्टार्स मौजूद रहे हैं। लेकिन इन स्टार खिलाड़ियों ने कभी एकजुट होकर नहीं खेला। नतीजा ये हुआ कि आरसीबी आज तक एकबार भी चैंपियन नहीं बन पाई।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के पास सिक्सर का बादशाह क्रिस गेल, रन मशीन एबी डिविलियर्स और वर्ल्ड कप के मैन ऑफ द सीरीज मिचेल स्टार्क हैं। विश्व क्रिकेट के ये जाने पहचाने चेहरे अकेले दम पर मुकाबले का रुख बदलने का हौसला रखते हैं। लेकिन तब क्या हो जब ये सभी एक साथ एक टीम के लिए खेलें। जाहिर है विरोधियों को रणनीति बनाने में पसीने छूट सकते हैं। लेकिन इत्तेफाक ये है कि इनमें से तीन धुरंधरों के होते हुए भी ये टीम अब तक छोटे फॉर्मेट के इस सबसे मशहूर टूर्नामेंट में अपनी छाप नहीं छोड़ पाई है।

बैंगलोर की टीम 2009 और 2011 में फाइनल में पहुंची है। जबकि 2010 में ये टीम टॉप-4 में जगह बनाने में सफल रही है। 5 जीत और 9 हार के साथ पिछले साल 8 टीमों में 7वें नंबर पर रही। यानी 7 में से 3 बार ये कप के बेहद करीब पहुंचने के बावजूद खिताबी जीत से दूर रहे। क्या वर्ल्ड कप के सबसे सफल रहे ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज मिचेल स्टार्क के जुड़ने के बाद बनी ये चौकड़ी इस बार टीम के पिछले 7 सीजन के नतीजों को बदल पाएगी।



क्रिस गेल: क्रिकेट का ये फॉर्मेट इनका पसंदीदा है। गेल कई बार ये जता चुके हैं। अपनी जुबान और बल्ले से जता चुके हैं। लेकिन चोट और आउट ऑफ फॉर्म रहे गेल ने पिछले सीजन में अपने नाम के मुताबिक प्रदर्शन नहीं किया। 9 मैचों में गेल ने महज 196 रन बना पाए। जबकि इससे पहले के तीन सीजन में उन्होंने हमेशा 600 से ऊपर रन बनाए (2011- 608, 2012- 733, 2013-708)। वर्ल्ड कप के दौरान वनडे में दोहरा शतक जमा चुके क्रिस गेल से हालांकि अभी भी आरसीबी को काफी उम्मीदें होंगी।
एबी डिविलियर्स: बड़ी पारियां खेलना इस दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाज की आदत सी हो गई है। चाहे वनड हो या टी20 जब रंग में होते हैं तो गेंदबाजों की शामत आनी तय है। पिछले सीजन 14 मैचों में 395 रन बनाकर डिविलियर्स टीम के सबसे सफल बल्लेबाज तो थे लेकिन उनसे इसबार और बेहतर खेलने की उम्मीद होगी।

मिचेल स्टार्क: टीम से पहली बार जुड़े मिचेल स्टार्क पर वर्ल्ड कप की सफलता के बाद उम्मीदों का बोझ बढ़ गया है। ऑस्ट्रेलियाई सनसनी स्टार्क बैंगलोर की टीम के आक्रमण की अगुवाई करेंगे। स्टार्क वर्ल्ड कप के 8 मैचों में 22 विकेट लेकर मैन ऑफ द टूर्नामेंट रहे हैं।

विराट कोहली की अगुवाई में रॉयल चैलेंजर्स की टीम को देखें तो ये टी20 फॉर्मेट के लिए पूरा पैकेज है। लेकिन जैसा कि होते आया है, मैदान पर उतरने के बाद खिलाड़ी के नाम या कीमत से ज्यादा ये मायने रखता है कि वो रन या विकेट कितने निकालता है।
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading