4 बार की नेशनल बैडमिंटन चैंपियन अमीता सिंह दिल्ली में बनाएंगी बैडमिंटन सेंटर

4 बार की नेशनल बैडमिंटन चैंपियन अमीता सिंह दिल्ली में बनाएंगी बैडमिंटन सेंटर
अमीता सिंह बनाएंगी दिल्ली में हाईटेक बैडमिंटन एकेडमी

अमीता सिंह (Ameeta Singh) दिल्ली बैडमिंटन एसोसिएशन की अध्यक्षा हैं और वो राजधानी से चैंपियन खिलाड़ी देश को देना चाहती हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश की टॉप बैडमिंटन खिलाड़ियों में से एक रहीं अमीता सिंह (Ameeta Singh) एक बार फिर देश की सेवा में मैदान में उतर चुकी हैं. 1970 से 1980 के बीच चार बार बैडमिंटन नेशनल चैंपियन रहीं अमीता अब दिल्ली बैडमिंटन एसोसिएशन की अध्यक्षा हैं और अब उन्होंने देश की राजधानी से देश को चैंपियन बैडमिंटन खिलाड़ी देने का फैसला कर लिया है. अमीता बीजेपी नेता भी हैं और उन्होंने भारत को मेडल जिताने वाले खिलाड़ी देने का ब्लू प्रिंट भी तैयार कर लिया है.

अमीता बढ़ाएगी दिल्ली के बैडमिंटन खिलाड़ियों का दम
स्पोर्ट्स फ्रंट में छपी खबर के मुताबिक अमीता सिंह (Ameeta Singh) ने माना कि दिल्ली इंटरनेशनल मंच पर मेडल जीतने वाले खिलाड़ी तैयार नहीं कर पा रही है और उन्होंने इस ओर इशारा किया कि कुछ तो कमी है कि ऐसा हो रहा है. अमीता ने इसके साथ ही दिल्ली में अच्छे खिलाड़ी बनाने के लिए रणनीति भी तैयार की है. अमीता ने बताया कि वो दिल्ली में हाईटेक बैडमिंटन एकेडमी बनाना चाहती हैं, जिसमें खिलाड़ियों को अच्छी से अच्छी आधुनिक सुविधाएं मिलें.

अमीता ने बताया, 'हम दिल्ली की बैडमिंटन एकेडमियों से अच्छे से अच्छे खिलाड़ी चुनेंगे और उन्हें इस खेल में करियर बनाने के लिए सुविधाएं प्रदान करेंगे. इस एकेडमी में अच्छी सुविधाओं के साथ-साथ आधुनिक तकनीक, सर्वश्रेष्ठ कोच और स्पोर्ट्स मेडिसिन के बेस्ट डॉक्टर होंगे. साथ ही एकेडमी में डाइट एक्सपर्ट, मसाज एक्सपर्ट और फीजियो थेरेपिस्ट भी होंगे.' अमीता ने माना कि इस खेल को कम आर्थिक मदद मिलती है लेकिन उन्होंने इस समस्या को सुधारने के लिए सरकार से बातचीत का वादा किया.
देश को स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की जरूरत


अमीता ने कहा कि अगर देश को खेलों में आगे ले जाना है तो उसके लिए स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी बनानी बेहद जरूरी है. अमीता ने कहा कि इस यूनिवर्सिटी में खिलाड़ियों को अपने करियर के अलावा पढ़ाई और दूसरी जरूरी विषयों का ज्ञान मिलना चाहिए.

दो दशक तक राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वालीं अमीता सिंह अब इस खेल के प्रशासन को संभाल रही हैं और वो हरसंभव तरीके से बैडमिंटन खिलाड़ियों को अर्श पर पहुंचाना चाहती हैं. पहला लक्ष्य उनका दिल्ली के बैडमिंटन खिलाड़ियों को इंटरनेशनल लेवल पर मेडल जीतते देखना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज