होम /न्यूज /खेल /

वर्ल्ड कुश्ती में हार से तमतमाए पहलवान बजरंग पूनिया, बोले- भगवान जाने डॉक्टरों ने मेरे साथ ऐसा क्यों किया...

वर्ल्ड कुश्ती में हार से तमतमाए पहलवान बजरंग पूनिया, बोले- भगवान जाने डॉक्टरों ने मेरे साथ ऐसा क्यों किया...

वर्ल्ड रेसलिंग में कांस्य पदक जीतकर लौटे पहलवान बजरंग पूनिया का एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया. (ANI)

वर्ल्ड रेसलिंग में कांस्य पदक जीतकर लौटे पहलवान बजरंग पूनिया का एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया. (ANI)

World Wrestling Championship: बजरंग पूनिया ने कहा कि भगवान जाने डॉक्टरों ने ऐसा क्यों किया? मुझे इससे काफी परेशानी हुई हुई क्योंकि टेप में मेरे सिर के बाल फंस गये थे. उन्होंने जख्म पर रूई का इस्तेमाल किये बिना टेप चिपका दिया. टेप हटाने के लिए मुझे एक स्थान से अपने बालों को काटना पड़ा. इसे हटाने में 20 मिनट से अधिक का समय लग गया. उन्होंने कहा कि अमेरिकी पहलवान के खिलाफ रणनीति बनाने की जगह मैं और मेरी टीम टेप से निजात पाने में व्यस्त रहे.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

वर्ल्ड रेसलिंग में भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया ने कांस्य पदक जीता है.
बजरंग को अपने पहले मुकाबले में सिर में खून बहने लगा था.
डॉक्टरों ने उनके सिर पर टेप लगाया था, जिसे लेकर पहलवान परेशान रहे.

नयी दिल्ली: ओलंपिक पदक विजेता भारतीय पहलवान बजरंग पूनिया विश्व चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में अमेरिका के जॉन माइकल दियाकोमिहालिस के खिलाफ मुकाबले के दौरान सिर की चोट के लिए चिकित्सकों के द्वार इस्तेमाल किये गये ‘कठोर टेप’ से नाराज हैं. बजरंग ने गुरुवार को कहा कि इस टेप के इस्तेमाल के बाद उन्हें अपने मुकाबले पर ध्यान बनाये रखने में परेशानी हुई. विश्व कप में अपना पहला खिताब जीतने की कोशिश में लगे बजरंग को बेलग्रेड में अपने शुरुआती मुकाबले के पहले ही मिनट में क्यूबा के एलेजांद्रो एनरिक व्लादेस टोबियर के खिलाफ सिर में चोट के कारण खून निकलने लगा था.

वहां मौजूद चिकित्सकों ने उनकी चोट के ऊपर ‘कठोर टेप’ लगाया था, जिसका उपयोग वास्तव में घुटने और टखने को स्थिर करने के लिए किया जाता है. आमतौर पर टेनिस और बास्केटबॉल खिलाड़ी ऐसे टेप का इस्तेमाल करते हैं. बता दें कि आज भारत लौटने पर पहलवान बजरंग पूनिया का एयरपोर्ट पर जोरदार स्वागत किया गया.

बजरंग ने एजेंसी को दिये इंटरव्यू में कहा, ‘‘भगवान जाने डॉक्टरों ने ऐसा क्यों किया? मुझे इससे काफी परेशानी हुई हुई क्योंकि टेप में मेरे सिर के बाल फंस गये थे. उन्होंने जख्म पर रूई का इस्तेमाल किये बिना टेप चिपका दिया. टेप हटाने के लिए मुझे एक स्थान से अपने बालों को काटना पड़ा. इसे हटाने में 20 मिनट से अधिक का समय लग गया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘अमेरिकी पहलवान के खिलाफ रणनीति बनाने की जगह मैं और मेरी टीम टेप से निजात पाने में व्यस्त रहे. दो मुकाबलों के बीच मेरे पास 20-25 मिनट का समय था और यह  सारा समय टेप हटाने में निकल गया.’’

ये भी पढ़ें… रोजर फेडरर का विदाई मैच होगा ‘युगल मुकाबला’, राफेल नडाल हो सकते हैं जोड़ीदार

चोट पर डॉक्टरों को हल्का टेप चिपकाना चाहिए था: बजरंग
बजरंग से उनके व्यक्तिगत फिजियो डॉ. आनंद दुबे ने कहा कि आदर्श रूप से डॉक्टरों को हलका चिपकने वाला टेप इस्तेमाल करना चाहिए था. उन्होंने कहा, ‘‘कठोर टेप के कारण सिर में सूजन आ जाती है. इससे व्यक्ति के सिर में दर्द भी रहता है. आप जानते हैं कि पहलवान प्रतिद्वंद्वी के सिर पर अपना हाथ कैसे डालते हैं. इसलिए हमने इसे हटाने का फैसला किया और हलका चिपकने वाला टेप लगाया.’’ बजरंग अमेरिका के खिलाड़ी से तकनीकी श्रेष्ठता से हारकर स्वर्ण पदक की दौड़ से बाहर हो गए. उन्होंने हालांकि बाद में रेपचेज दौर के जरिए कांस्य पदक जीता.

चार विश्व पदक जीतने वाले एकमात्र भारतीय पहलवान बजरंग ने कहा कि दियाकोमिहालिस से तकनीकी श्रेष्ठता से हारने की उन्हें उम्मीद नहीं थी. उन्होंने कहा, ‘‘मैं 2019 में इस पहलवान से 10-9 से हार गया था. मैं यह नहीं कह रहा हूं कि मैं उसे आसानी से हरा देता, लेकिन मैं कम से कम एक करीबी मुकाबले की उम्मीद कर रहा था. पहले, सिर में चोट और फिर इस टेप के मुद्दे ने वास्तव में मुझे परेशान किया.’’

वर्ल्ड रेसलिंग में पूरे लय में नहीं दिखे बजरंग

बजरंग ने रेपेचेज दौर में आर्मेनिया के वाजेन तेवानयान को 7-6 से हराकर कांस्य प्ले-ऑफ में प्यूर्टो रिको के सेबेस्टियन सी रिवेरा को 11-9 से मात दी. बजरंग हालांकि अपने अभियान के दौरान पूरे लय में नहीं दिखे. उन्होंने विरोधी पहलवानों को काफी अंक बनाने दिये और ज्यादातर मैचों को पिछड़ने के बाद जीते. बजरंग के कोच सुजीत मान ने इसे चिंताजनक करार देते हुए कहा, ‘‘कुछ ऐसे क्षेत्र हैं जहां बजरंग को सुधार करने की जरूरत है और ‘लेग डिफेंस’ उनमें से एक है. मुझे उनकी ताकत, गति और आक्रामक तरीके से कोई शिकायत नहीं है. लेकिन आप अपने पैर पर इतनी आसानी से पकड़ बनाने नहीं दे सकते हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ विश्व चैम्पियनशिप और ओलंपिक में प्रतिस्पर्धा लगभग एक समान है. यह 65 किग्रा में और मुश्किल है. आपने देखा होगा कि हाजी अलाइव (अजरबैजान) एक ओलंपिक पदक विजेता है, लेकिन बेलग्रेड से खाली हाथ लौटा है.’’

बजरंग अपने प्रदर्शन से संतुष्ट
बजरंग हालांकि अपने प्रदर्शन से संतुष्ट है. उन्होंने कहा, ‘‘जब आप आक्रमण करते हैं, तो आपको कुछ अंक गंवाने के लिए तैयार होना चाहिये. अगर मैंने अंक गंवाए हैं तो उससे भी ज्यादा बनाया भी है. आप रक्षात्मक रह कर दूसरे खिलाड़ी को अंक लेने से रोक सकते है लेकिन खुद अंक बनाने के लिए मैं आक्रामक खेल पर विश्वास करता हूं.’’

Tags: Bajrang punia, Indian Wrestler, World Wrestling Tournament

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर