मैच देखने के लिए सड़क पर बेची सिगरेट, अब पद्मश्री पुरस्‍कार के लिए भेजा गया नाम

बाईचुंग भूटिया के साथ आईएम विजयन

पूर्व भारतीय स्ट्राइकर विजयन (IM Vijayan) ने भारत (India) के लिये 90 के दशक में पदार्पण करने के बाद 79 मैचों में 40 गोल दागे

  • Share this:
    नई दिल्ली. पूर्व भारतीय फुटबॉलर और दिग्गज आई एम विजयन (IM Vijayan) को इस खेल में दिए गए उनके योगदान के लिए देश के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरुसकार के लिए नामंकित किया गया है. केरल के एक गरीब परिवार में पैदा हुए विजयन ने अपने जीवन में काफी संघर्ष किया. फुटबॉल उनका प्यार था जिसके लिए उन्होंने अपनी जिंदगी में काफी संघर्ष किया. वह फुटबॉल मैच देखने के लिए सिगरेट और सोड़ा बेचा करते थे. सुनील छेत्री (Sunil Chhetri) जैसे खिलाड़ी के आदर्श विजयन का नाम अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (AIFF) ने भेजा है.

    पैसे के लिए सोडा और सिगरेट बेचते थे विजयन
    विजयन का जन्म केरल में एक गरीब परिवार में हुआ था. बचपन से ही उन्हें फुटबॉल देखने और खेलने का शौक था. वह मैच देखने के लिए थ्रिसुर स्टेडिम (Thrissur Stadium) में सोडे की बोतल और सिग्रेट बेचा करते थे. इसी पैसे से वह मैच के टिकट खरीदते औऱ घर चलाने में मां की मदद करते थे. केरल पुलिस की फुटबॉल टीम से जुड़ने के बावजूद भी वह अपने परिवार के लिए घर बनाने में नाकाम रहे थे इसी कारण उन्होंने बेहतर वेतन के लिए केरल छोड़कर बंगाल जाने का फैसला किया.

    मोहन बागान का नहीं छोड़ा कभी साथ
    बंगाल (Bengal) में वह मोहन बागान (Mohan Bagan) की ओर से खेले और फैंस का दिल जीत लिया. बंगाल के लोग विजयन से इतना प्यार करते थे कि भारत का यह पूर्व कप्तान मौके मिलने पर भी यह क्लब नहीं छोड़ पाया. विजयन को थाईलैंड और मलेशिया से कई ऑफर आए लेकिन उन्हें लगता था कि अगर वह मोहन बागान छोड़ेंगे तो यह उनके फैंस के साथ धोखा होगा. इस कारण उन्होंने कभी ऐसा नहीं किया.

    पूर्व भारतीय स्ट्राइकर विजयन (51 वर्ष) ने भारत के लिये 90 के दशक में पदार्पण करने के बाद 79 मैचों में 40 गोल दागे. उन्हें 2003 में अर्जुन पुरस्कार दिया गया था. उन्हें 1993, 1997 और 1999 में भारत का वर्ष का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का पुरस्कार दिया गया था. विजयन ने 2000 से 2004 तक भारतीय टीम की अगुआई की. उनकी साथी स्ट्राइकर बाईचुंग भूटिया के साथ जोड़ी बेहतरीन हुआ करती थी. क्लब स्तर पर वह मोहन बागान, केरल पुलिस और अब बंद कर दिये गये एफसी कोच्चि और जेसीटी मिल्स फगवाड़ा के लिये खेले थे.

    चीन के साथ हिंसक झड़प, सायना नेहवाल, युवराज, कैफ ने कहा- बलिदान के लिए वीर सैनिकों के कर्जदार हैं हम

    शहीद जवानों पर असंवेदनशील टिप्पणी करने पर चेन्नई सुपरकिंग्स का ये सदस्य निलंबित