लाइव टीवी

खेल जगत से आई दुखद खबर, नहीं रहे दिग्गज भारतीय फुटबॉलर पीके बनर्जी

News18Hindi
Updated: March 20, 2020, 3:17 PM IST
खेल जगत से आई दुखद खबर, नहीं रहे दिग्गज भारतीय फुटबॉलर पीके बनर्जी
भारत के दिग्गज फुटबॉलर पीके बनर्जी की हालत गंभीर बनी हुई थी. (फाइल फोटो)

भारतीय फुटबॉल टीम (Indian Football Team) के पूर्व कप्तान 83 वर्षीय पीके बनर्जी (PK Banerjee) ने भारत की ओर से 84 मैचों में 65 गोल किए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2020, 3:17 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. भारतीय फुटबॉल के दिग्गज खिलाड़ी पीके बनर्जी (PK Banerjee) का 83 साल की उम्र में शुक्रवार को निधन हो गया. बनर्जी (PK Banerjee) लंबे समय से बीमार चल रहे थे और कोलकाता के मेडिका अस्पताल में भर्ती थे.  पीके बनर्जी भारतीय फुटबॉल का बड़ा सितारा रहे. वह 1962 में एशियन गेम्स (Asian Games) की गोल्ड मेडलिस्ट भारतीय टीम का हिस्सा थे.

लंबे समय से बीमार थे पीके बनर्जी
1962 एशियाई खेल के स्वर्ण पदक विजेता बनर्जी भारतीय फुटबॉल के स्वर्णिम दौर के साक्षी रहे हैं. वह पिछले कुछ समय से निमोनिया के कारण श्वास की बीमारी से जूझ रहे थे. उन्हें पार्किंसन, दिल की बीमारी और डिम्नेशिया भी था. वह दो मार्च से अस्पताल में लाइफ सपोर्ट पर थे. उन्होंने रात 12 बजकर 40 मिनट पर आखिरी सांस ली.  बनर्जी (PK Banerjee) के परिवार में उनकी बेटी पाउला और पूर्णा हैं, जो नामचीन शिक्षाविद् हैं. उनके छोटे भाई प्रसून बनर्जी तृणमूल कांग्रेस से सांसद हैं.

पीके बनर्जी के नाम कई अहम खिताब



पीके बनर्जी (PK Banerjee) का जन्म 23 जून 1936 को पश्चिम बंगाल के जलपाईगुड़ी शहर में हुआ था. 15 साल की उम्र में ही संतोष ट्रॉफी में बिहार का प्रतिनिधित्व किया. 1954 में वो कोलकाता चले गए और बाद में ईस्टर्न रेलवे का प्रतिनिधित्व किया. उन्होंने साल 1955 में राष्ट्रीय टीम में डेब्यू किया और फिर भारतीय टीम की तरफ से 2 ओलंपिक और 3 एशियन गेम्स में हिस्सा लिया. वो स्ट्राइकर के तौर पर टीम इंडिया में शामिल थे. जकार्ता एशियाई खेल 1962 में स्वर्ण पदक जीतने वाले बनर्जी ने 1960 रोम ओलिंपिक में भारत की कप्तानी की और फ्रांस के खिलाफ एक-एक से ड्रॉ रहे मैच में बराबरी का गोल किया.



इससे पहले वह 1956 की मेलबर्न ओलंपिक टीम में भी थे और क्वार्टर फाइनल में ऑस्ट्रेलिया पर 4-2 से मिली जीत में अहम भूमिका निभाई थी. फीफा ने उन्हें 2004 में शताब्दी आर्डर आफ मेरिट प्रदान किया था. चोट की वजह से उन्हें भारतीय फुटबॉल टीम (Indian Football Team) से बाहर होना पड़ा था, जिसके बाद साल 1967 में उन्होंने संन्यास ले लिया था.

मां के पास नहीं थे पालने के पैसे, हुआ शारीरिक शोषण फिर भी जीते 4 ओलिंपिक गोल्ड

दुनियाभर में कोरोना वायरस के खौफ के बीच ग्रीस ने टोक्यो को सौंपी ओलिंपिक मशाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए फुटबॉल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 20, 2020, 1:58 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading