Intercontinental Cup: भारत को मिली दूसरी हार, फाइनल की रेस से लगभग बाहर

इंटरकॉन्टिनेंटल कप के दूसरे मुकाबले में भारत को उत्तर कोरिया ने एक तरफा मुकाबले में 5-2 से हरा दिया

News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 11:37 PM IST
Intercontinental Cup: भारत को मिली दूसरी हार, फाइनल की रेस से लगभग बाहर
भारत को मिली दूसरी हार (twitter)
News18Hindi
Updated: July 13, 2019, 11:37 PM IST
इंटरकॉन्टिनेंटल कप में उत्तर कोरिया के खिलाफ करो या मरो के मैच में हार का सामना करना पड़ा. टूर्नामेंट में भारत तो लगातार दूसरी हार मिली. भारत को उत्तर कोरिया ने एक तरफा मुकाबले में 5-2 से हरा दिया. इसी हार के साथ भारत फाइनल की रेस से लगभग बाहर हो गई है. अपने पहले मैच में तजाकिस्तान से उसे 4-2 से हार मिली थी. भारत की ओर से ललारिनजुआला चांग्ते ने 51वें मिनट में और सुनील छेत्री ने 71वें मिनट में गोल किया. यह दोनों ही गोल दूसरे हाफ में आए. पहले हाफ में भारतीय टीम 3-0 से पीछे थी.

भारत को अगर फाइनल में पहुंचना है तो उसे उम्मीद करनी होगी कि तजाकिस्तान को अपने अगले मैच में हार मिले और वह अपने अगले मैच में सीरिया को कम से कम छह गोल के अंतर से मात दे.



भारत मैच में केवल दो गोल कर पाए (twitter)
भारत मैच में केवल दो गोल कर पाए (twitter)


उत्तर कोरिया ने शुरू से ही भारतीय टीम पर हावी दिखाई दी और आठवें मिनट में ही गोल कर भारत को दबाव में ला दिया. आठवें मिनट में उत्तर कोरिया को फ्री किक मिली जिसे जोंग ने बेहतरीन किक लगा गेंद को नेट में डाल अपनी टीम को एक गोल से आगे कर दिया. 16वें मिनट में कप्तान सिम जिंग ने दूसरा गोल करके टीम की बढ़त को दुगना कर दिया. दूसरे हाफ में भारत की कोशिश सफल रही. ललारिनजुआला चांग्ते ने उसके लिए पहला गोल किया जो 51वें मिनट में आया. यहां कोरियाई डिफेंस से गलती हुई और गेंद भारतीय कप्तान सुनील छेत्री से होते हुए चांग्ते के पास आई जिन्होंने गेंद को नेट में डाल भारत का खाता खोला.

भारत को इस गोल से आत्मविश्वास मिला था. उसकी वापसी की उम्मीद भी जगी थी लेकिन 63वें मिनट में री उन चोल ने भारत की उम्मीदों को झटका दिया. उन्होंने उत्तर कोरिया के लिए एक और गोल कर स्कोर 4-1 कर दिया. आठ मिनट बाद भारतीय कप्तान ने इस मैच में अपना खाता खोला. उदांता सिंह और समद ने वन टू वन खेलते हुए गेंद अपने पास रखी फिर उदांता ने बॉक्स के बाहर से गेंद गोलपोस्ट के सामने खड़े छेत्री को दी जिन्होंने उसे नेट में डाल भारत को दूसरा गोल सौंपा. इसके बाद भारत कोई गोल नहीं कर पाया.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...