​रीयाल मैड्रिड ने जिनेदिन जिदान की जगह कार्लो एंचेलोटी को बनाया कोच

रीयाल मैड्रिड ने कार्लो एंचेलोटी को अपना मुख्य कोच नियुक्त किया (PIC: AP)

रीयाल मैड्रिड ने फ्रांस के पूर्व फुटबॉलर जिनेदिन जिदान की जगह अनुभवी कोच कार्लो एंचेलोटी को अपना मुख्य कोच नियुक्त किया है.

  • Share this:
    मैड्रिड. रीयाल मैड्रिड ने फ्रांस के पूर्व फुटबॉलर जिनेदिन जिदान की जगह अनुभवी कोच कार्लो एंचेलोटी को अपना मुख्य कोच नियुक्त किया है. इस तरह से पहले स्पेन के इस शीर्ष फुटबॉल क्लब ने किसी पूर्व खिलाड़ी को जिम्मेदारी सौंपने के बजाय अनुभवी कोच पर भरोसा दिखाया है. उनकी जिम्मेदारी क्लब के इस सत्र के निराशाजनक ​अभियान को पटरी पर लाना होगा.

    ​रीयाल मैड्रिड इस सत्र में एक भी खिताब नहीं जीत पाया. यह पिछले एक दशक में पहला अवसर है जबकि टीम ने कोई ट्रॉफी नहीं जीती. इसके बाद जिदान ने पिछले सप्ताह अपना पद छोड़ दिया था. जिदान का अनुबंध 2022 तक था. क्लब ने बयान में कहा था, ‘‘हमें अब उनके फैसले का सम्मान करना चाहिए और वर्षों से उनके पेशेवरपन, प्रतिबद्धता और जज्बे के प्रति आभार जताना चाहिए.’’

    क्लब ने कहा था, ‘‘जिदान रीयाल मैड्रिड के महान सितारे हैं और उनकी विरासत उन्होंने हमारे क्लब में खिलाड़ी और कोच के रूप में जो हासिल किया है उससे कहीं ज्यादा है.’’ बयान के अनुसार, ‘‘वह जानते हैं कि रीयाल मैड्रिड के प्रशंसकों के दिल में उनकी जगह है और रीयाल मैड्रिड हमेशा उनका घर रहेगा.’’ जिदान ने पहली बार क्लब का साथ उस समय छोड़ा था, जब टीम ने 2016 से 2018 के बीच लगातार तीन चैंपियन्स लीग खिताब जीतकर शानदार प्रदर्शन किया था.

    उनकी जगह रॉल गोंजालेज को कोच बनाए जाने की अटकलें लगाई जा रही थीं, लेकिन ​रीयाल मैड्रिड के अध्यक्ष फ्लोरेनटिनो पेरेज ने इसके बजाय 2014 में टीम को यूरोपीय चैंपियनशिप का खिताब दिलाने वाले 61 वर्षीय एंचेलोटी पर भरोसा दिखाया. वह इससे पहले 2013 से 2015 तक ​रीयाल मैड्रिड के कोच रहे और इस बीच टीम ने चार खिताब जीते थे.

    बता दें कि कोच के रूप में जिदान के दो साल और पांच महीने के पहले कार्यकाल के दौरान मैड्रिड ने कुल नौ खिताब जीते, जिसमें दो क्लब विश्व कप, दो यूएफा सुपर कप, एक स्पेनिश लीग और एक स्पेनिश सुपर कप खिताब शामिल है. जिदान के दूसरे कार्यकाल में हालांकि टीम एक बार लीग खिताब और एक स्पेनिश सुपर कप खिताब ही जीत पाई.

    जिदान ने मैड्रिड को लगातार तीसरा चैंपियन्स लीग खिताब दिलाने के एक हफ्ते से भी कम समय में पहली बार पद छोड़ा था. उन्होंने तब कहा था कि बदलाव का समय आ गया है और वह क्लब को उनके प्रभारी रहते हुए जीतते हुए नहीं देखते. कोच के रूप में जिदान का दूसरा कार्यकाल पहली बार पद छोड़ने के एक साल से भी कम समय में मार्च 2019 में शुरू हुआ था. बेहद खराब सत्र के बाद टीम संकट में थी. इस दौरान टीम को चिर प्रतिद्वंद्वी बार्सीलोना के खिलाफ हार झेलनी पड़ी और चैंपियन्स लीग के प्री क्वार्टर फाइनल में टीम अयाक्स से हारकर बाहर हो गई.

    जिदान के दूसरे कार्यकाल का अंत हालांकि 2009-10 से मैड्रिड के सबसे खराब सत्र के साथ हुआ. टीम उस सत्र में भी कोई खिताब नहीं जीत पाई थी. मैड्रिड की टीम ने स्पेनिश लीग खिताब के लिए अंतिम दौर तक कड़ी चुनौती पेश की लेकिन अंत में शहर के अपने प्रतिद्वंद्वी एटलेटिको मैड्रिड से दो अंक से पिछड़ गई और अपने खिताब का बचाव करने में नाकाम रही. टीम के पास 2007-08 के बाद पहली बार लगातार दो ला लीगा खिताब जीतने का मौका था. चैंपियन्स लीग में टीम सेमीफाइनल तक पहुंची जहां उसे चेल्सी के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. कोपा डेल रे में मैड्रिड का प्रदर्शन बेहद खराब रही और टीम को राउंड आफ 32 में तीसरे डिविजन के क्लब अलकोयानो के खिलाफ शिकस्त झेलनी पड़ी.