Sunil Chhetri: मेसी से बड़ा भारत का यह दिग्गज, मां नेपाल के खेलती थी फुटबॉल

तीन अगस्त (शनिवार) को भारतीय फुटबॉल कप्तान सुनील छेत्री अपना 35वां जन्मदिन मना रहे हैं

News18Hindi
Updated: August 3, 2019, 12:33 PM IST
Sunil Chhetri: मेसी से बड़ा भारत का यह दिग्गज, मां नेपाल के खेलती थी फुटबॉल
भारतीय फुटबॉल स्टार और कप्तान सुनील छेत्री
News18Hindi
Updated: August 3, 2019, 12:33 PM IST
फुटबॉल में विश्व स्तर पर भले ही भारत अभी अपना नाम बनाने में कामयाब नहीं हो पाया हो लेकिन भारतीय कप्तान सुनील छेत्री ने जरूर अपने दम पर देश को पहचान दिलाई है. भारत के लिए 111 मैच खेल चुके छेत्री का नाम देश के सबसे कामयाब फुटबॉलर में शुमार हैं. छेत्री भारत के लिए खेलते हुए अब तक 71 गोल दाग चुके हैं. दुनिया में देश के लिए गोल करने के मामले में वह स्टार खिलाड़ी लियोनेल मेसी से आगे है दूसरे स्थान पर काबिज हैं. इस लिस्ट में वह केवल पुर्तगाल के क्रिस्टीयानो रोनाल्डो से पीछे हैं जिन्होंने 85 गोल दागे हैं.

इस साल हुए इंटरकॉन्टिनेंटल कप में उन्होंने स्टार खिलाड़ी लियोनेल मेसी को पछाड़कर दूसरे स्थान पर कब्जा किया था. इंटरकॉन्टिनेंटल कप में थाईलैंड के खिलाफ हुए मैच से पहले छेत्री 65 गोल के साथ अर्जेंटीना के इस दिग्गज की बराबरी पर थे.

थाईलैंड के खिलाफ उन्होंने दो गोल दागे और मेसी को पीछे करके नंबर दो स्थान पर पहुंच गए. आपको बता दें कि इस लिस्ट के टॉप पांच में जो खिलाड़ी शामिल है उन सभी में सुनील छेत्री का कंवर्जन रेट सबसे बेहतर है. वह इस मामले में टॉप पर काबिज रोनाल्डो से भी आगे हैं. नंबर एक पायदान पर काबिज रोनाल्डो का प्रति मैच गोल औसत 0.55 है और मेस्सी का 0.50 जबकि सुनील छेत्री का औसत 0.64 है.

सुनील छेत्री भारत के लिए 111 मैच खेल चुके हैं
सुनील छेत्री भारत के लिए 111 मैच खेल चुके हैं


मां से विरासत में मिला छेत्री को यह खेल
सुनील छेत्री अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय फुटबॉल का चेहरा हैं जिन्होंने यह साबित किया है कि आने वाले समय में भारत भी इस खेल में बड़ा नाम बनाने का दम रखता है. सुनील छेत्री ने साल 2002 में बंगाल के प्रतिष्ठित क्लब मोहन बगान से अपने करियर की शुरुआत की थी.

छेत्री को यह खेल विरासत में मिला है. उनके पिता भारतीय सेना में इलेक्ट्रॉनिक्स और मैकेनिकल इंजीनियर्स (ईएमई कॉर्प्स) के अधिकारी थे लेकिन उनकी मां फुटबॉल खेलती थी. मूल रूप से नेपाल की रहने वाली छेत्री के मां भारत में बसने से पहले नेपाल के लिए फुटबॉल खेल चुकी थी. वहीं से छेत्री को भी इस खेल के प्रति लगाव महसूस हुआ.
Loading...

छेत्री की मां नेपाल के लिए फुटबॉल खेल चुकी हैं
छेत्री की मां नेपाल के लिए फुटबॉल खेल चुकी हैं


जब एक अपील पर फैंस से भर गया था स्टेडियम

देश में अपनी राष्ट्रीय टीम को लेकर घटते लगाव को देखते हुए पिछले साल छेत्री ने एक वीडियो डालकर सोशल मीडिया पर तूफान ला दिया था. छेत्री इस वीडियो में देशवासियों से फुटबॉल मैच देखने स्टेडियम आने की अपील करते दिखे थे.

सुनील छेत्री ने अपने खेल से भारतीय फुटबॉल को काफी हद तक बदल दिया है
सुनील छेत्री ने अपने खेल से भारतीय फुटबॉल को काफी हद तक बदल दिया है


उन्होंने कहा ,‘इंटरनेट पर हमें गालियां देने का, आलोचना करने का कोई फायदा नहीं है. स्टेडियम आकर हमारे मुंह पर हमें गालियां दीजिये, हो सकता है कि एक दिन हमारे बारे में आपकी राय बदल जाये और आप हमारे लिये तालियां बजाने लगे. आपका समर्थन हमारे लिये बहुत जरूरी है.' इसके बाद छेत्री को हर ओर से समर्थन मिला और इंटरकॉन्टिनेंनटल कप में केन्या के खिलाफ हुए मुकाबले में स्टेडियम दर्शकों से भर गया. भारत ने छेत्री की कप्तानी में ना सिर्फ वह मैच बल्कि टूर्नामेंट भी जीता था.

INDvWI: शिखर धवन या केएल राहुल, कौन बनेगा रोहित का साथी ओपनर?

रोहित शर्मा आज तोड़ सकते हैं क्रिस गेल का ये सबसे बड़ा रिकॉर्ड
First published: August 3, 2019, 12:33 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...