गैरी कॉस्परोव ने अपने ही राष्ट्रपति पर उठाए सवाल, कहा- व्लादिमीर पुतिन ने लगवाई अमेरिकी वैक्सीन

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन. (AFP)

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन. (AFP)

रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय की ओर से कहा गया है कि यह नहीं बताया जाएगा कि व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) को कौन सी वैक्सीन लगाई गई है. इस पर शतरंज के सबसे खिलाड़ी गैरी कॉस्परोव (Garry Kasparov) ने कहा कि वे शर्त लगाकर कह सकते हैं कि यह वैक्सीन अमेरिकी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 25, 2021, 10:58 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन (Corona Vaccine) का ईजाद हो चुका है. भारत समेत कई देशों में वैक्सीनेशन का कार्यक्रम भी चल रहा है. अलग-अलग देशों में अलग-अलग वैक्सीन लगाई जा रही है, लेकिन लगता है कि अभी लोगों को इस पर पूरा भरोसा नहीं है. शतरंज के सबसे खिलाड़ी रूस के गैरी कॉस्परोव (Garry Kasparov) ने तो इस मामले में अपने ही देश के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) पर सवाल उठा दिए हैं. रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय की ओर से कहा गया है कि यह नहीं बताया जाएगा कि पुतिन को कौन सी वैक्सीन लगी है. इस पर कॉस्पोरोव ने कहा कि वे शर्त लगाकर कह सकते हैं कि यह वैक्सीन अमेरिकी है.

हाल ही में रूसी राष्ट्रपति के कार्यालय क्रेमलिन की ओर से कहा गया कि व्लादिमीर पुतिन को जो वैक्सीन दी गई है, उसका नाम सार्वजनिक नहीं किया जाएगा. पूर्व वर्ल्ड चैंपियन गैरी कॉस्परोव ने इस मामले में प्रतिक्रिया देने में ज्यादा देर नहीं लगाई. उन्होंने एक ट्वीट कर पुतिन के बैंक अकाउंट से लेकर घड़ी तक को विदेशी बता डाला.

गैरी कॉस्पोरोव का ट्वीट.
गैरी कॉस्परोव का ट्वीट.


शतरंज के पूर्व नंबर-1 खिलाड़ी ने ट्वीट किया, ‘पुतिन की घड़ी स्विट्जरलैंड की है. उनका बैंक अकाउंट साइप्रस में है. उनका कुत्ता भी विदेशी है. मैं शर्त लगा सकता हूं कि उन्होंने वैक्सीन भी अमेरिकी ही लगवाई है.’ इससे पहले क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा था कि राष्ट्रपति पुतिन को कोरोना वैक्सीन लगाई गई है और वे अच्छा महसूस कर रहे हैं. पेस्कोव ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि राष्ट्रपति के वैक्सीनेशन की तस्वीर या वीडियो जारी नहीं किया जाएगा.
यह भी पढ़ें: विराट कोहली की कप्तानी पर क्यों उठते हैं बार-बार सवाल, अच्छी पहल पर भी नहीं होती तारीफ?

गैरी कॉस्परोव दुनिया के सबसे बड़े शतरंज खिलाड़ी माने जाते हैं. वे 1984 से 1995 (रिटायरमेंट तक) तक लगातार नंबर-1 खिलाड़ी रहे. उनके नाम लगातार 255 महीने तक फीडे रैंकिंग में नंबर-1 रहने का विश्व रिकॉर्ड है. कास्परोव खेल से संन्यास के बाद राजनीतिक मोर्चे पर भी काफी सक्रिय रहते हैं. उनके ज्यादातर ट्वीट सरकार से सवाल करने वाले होते हैं. इसलिए उन्हें पुतिन विरोधी भी माना जाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज