हनुमा विहारी बोले, कभी सोचा नहीं था मरीजों को अस्पताल में भर्ती करवाना इतना मुश्किल हो जाएगा

हनुमा विहारी ने बताया कि उनके साथ वॉट्सएप ग्रुप में लगभग 100 लोग वॉलंटियर के तौर जुड़े हैं जो मदद कर रहे हैं.

हनुमा विहारी ने बताया कि उनके साथ वॉट्सएप ग्रुप में लगभग 100 लोग वॉलंटियर के तौर जुड़े हैं जो मदद कर रहे हैं.

भारतीय क्रिकेटर हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) लोगों की मदद करने के लिए अपने सोशल मीडिया हैंडल का इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने 100 स्वयंसेवकों की टीम तैयार की है जिनमें आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक के उनके दोस्त भी शामिल हैं. वह दोस्तों के नेटवर्क के जरिए कोविड-19 संक्रमितों को अस्पताल में भर्ती करा रहे हैं या उनके लिए ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था कर रहे हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. दर्द झेलने के बावजूद टेस्ट मैच बचाना कोई छोटी उपलब्धि नहीं मानी जा सकती है लेकिन हनुमा विहारी (Hanuma Vihari) के लिए इन दिनों सबसे बड़ी संतुष्टि अपने दोस्तों के नेटवर्क के जरिए कोविड-19 के मरीजों को अस्पताल में भर्ती करके या उनके लिए ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था करके मिल रही है. महामारी के दूसरी लहर में पॉजिटिव मामलों और मृतकों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है और इस अप्रत्याशित स्वास्थ्य संकट में आपात सहायता पहुंचाने में सोशल मीडिया अहम भूमिका निभा रहा है.

कई भारतीय क्रिकेटर दान देकर और चिकित्सा उपकरण खरीदने में लोगों की मदद करके अपनी तरफ से योगदान दे रहे हैं. काउंटी क्रिकेट खेलने के लिए ब्रिटेन में होने के बावजूद विहारी लोगों की मदद करने के लिए अपने ट्विटर हैंडल का इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्होंने 100 स्वयंसेवकों की टीम तैयार की है. इनमें आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक के उनके दोस्त शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें, शेफाली वर्मा : रोहतक से BBL तक का सफर, महान सचिन और सहवाग भी हैं मुरीद

इस 27 वर्षीय खिलाड़ी ने पीटीआई से कहा, 'मैं स्वयं का महिमामंडन नहीं करना चाहता हूं. मैं यह काम जमीनी स्तर पर लोगों की मदद के लिए कर रहा हूं जिन्हें वास्तव में इस मुश्किल समय में हरसंभव मदद की जरूरत है. यह केवल शुरुआत है.’ विहारी इंग्लि​श काउंटी वॉरविकशर की तरफ से खेलने के लिए अप्रैल के शुरू में इंग्लैंड रवाना हो गए थे. भारतीय टीम तीन जून को ब्रिटेन पहुंचेगी और विहारी वहीं टीम से जुड़ेंगे.
उन्होंने कहा, 'दूसरी लहर इतनी मजबूत है कि अस्पताल में बिस्तर पाना बेहद मुश्किल हो रहा है और यह अकल्पनीय है. इसलिए मैं अधिक से अधिक लोगों की मदद करने के लिए अपने फॉलोअर्स का स्वयंसेवक के रूप में उपयोग कर रहा हूं.’ विहारी ने कहा, 'मेरा लक्ष्य विशेषकर उन लोगों तक पहुंचना है जो कि प्लाज्मा, बिस्तर या आवश्यक दवाइयों की व्यवस्था नहीं कर पा रहे हैं लेकिन यह पर्याप्त नहीं है. मैं भविष्य में अधिक सेवाएं करना चाहता हूं.’

इसे भी पढ़ें, Covid-19: विराट-अनुष्का ने 7 दिन में जुटाए 11 करोड़, कहा- हम ये जंग जीतेंगे

उन्होंने कहा, 'मैंने स्वयं की टीम तैयार की है. यह अच्छे इरादों से तैयार की गई है. लोग इससे प्रेरित हो रहे हैं और मेरी मदद कर रहे हैं. मेरे साथ एक वॉट्सएप ग्रुप में स्वयंसेवक के रूप में लगभग 100 लोग जुड़े हैं और उनकी कड़ी मेहनत से हम कुछ लोगों की मदद कर पा रहे हैं. इस ग्रुप में मेरी पत्नी, बहन और आंध्र के कुछ साथी खिलाड़ी भी शामिल हैं.’



भारत के आगामी इंग्लैंड दौरे के बारे में विहारी ने कहा कि यदि उन्हें पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के दौरान किसी समय पारी की शुरुआत करने के लिए कहा जाता है तो वह इसके लिये तैयार रहेंगे. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी टेस्ट में चोटिल होने के बावजूद साढ़े तीन घंटे तक बल्लेबाजी करने वाले विहारी ने कहा, 'टीम मुझे जो भी भूमिका सौंपेगी, मैं उसे निभाने को तैयार रहूंगा. मैंने अपने क​रियर में ज्यादातर समय शीर्ष क्रम में बल्लेबाजी की है, इसलिए मैं इस चुनौती से वाकिफ हूं.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज