हॉकी छोड़ अब फुटबॉल में दम दिखाना चाहते हैं हरेंद्र सिंह, ये है वजह

अब हॉकी के पूर्व कोच हरेंद्र सिंह के लिए यहां (हॉकी) में कुछ बचा नहीं है लिहाजा वह फुटबॉल से जुड़ने की योजना बना रहे हैं.

पीटीआई
Updated: February 27, 2019, 4:18 PM IST
हॉकी छोड़ अब फुटबॉल में दम दिखाना चाहते हैं हरेंद्र सिंह, ये है वजह
हरेंदर सिंह
पीटीआई
Updated: February 27, 2019, 4:18 PM IST
भारत की महिला हॉकी टीम को रफ्तार देने के बाद यकायक कोच हरेंद्र सिंह को पुरूष टीम की कमान सौंप दी गई. जब वह हॉकी वर्ल्‍ड कप में उम्‍मीद के मुताबिक रिजल्‍ट नहीं ला सके तो उन्‍हें कोच पद से हटा दिया गया. हालांकि इस दौरान उनको जूनियर टीम से जुड़ने को कहा गया, लेकिन उन्होंने इससे इनकार कर दिया.

यकीनन अब हॉकी के पूर्व कोच हरेंद्र सिंह के लिए यहां (हॉकी) में कुछ बचा नहीं है लिहाजा वह फुटबॉल से जुड़ने की योजना बना रहे हैं. वह इस खेल को अपना प्‍यार मानते हैं.

हरेंद्र ने पीटीआई को दिए साक्षात्कार में कहा, ‘हॉकी हमेशा मेरा पहला प्यार रहेगा. मैं आज जो कुछ भी हूं हॉकी के कारण हूं. लेकिन अब मेरे लिये हॉकी में कुछ नहीं बचा है इसलिए मैंने अपनी जानकारी में इजाफा करने का फैसला किया और मेरे दूसरे प्यार फुटबॉल से बेहतर क्या हो सकता है.’

50 साल के हरेंद्र ने कहा कि वह फुटबॉल के बड़े प्रशंसक हैं और स्पेनिश फुटबॉल के छोटे पास देने की ‘टिकी टाका’ शैली को काफी पसंद करते हैं. उनका कहना है कि यह शैली भारतीय हॉकी टीम की रणनीति से काफी मिलती जुलती है.

उन्होंने कहा, ‘मैं फुटबॉल का बड़ा प्रशंसक हूं मैं आर्सेनल और मैनचेस्टर यूनाईटेड (इंग्लिश प्रीमियर लीग) के प्रदर्शन पर करीबी नजर रखता हूं. स्पेन मेरी पसंदीदा अंतरराष्ट्रीय टीम है क्योंकि उनकी छोटे पास की शैली भारतीय हॉकी के काफी करीब है.’ जूनियर हॉकी विश्व कप विजेता कोच हरेंदर पहले ही अपनी नई योजना में मदद के लिए दिल्ली सॉकर संघ के अध्यक्ष शाजी प्रभाकरन से संपर्क कर चुके हैं.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...