नहीं रहे भारतीय हॉकी के दिग्गज बलबीर सिंह, देश को ओलिंपिक में दिलाए थे तीन गोल्ड

नहीं रहे भारतीय हॉकी के दिग्गज बलबीर सिंह, देश को ओलिंपिक में दिलाए थे तीन गोल्ड
बलबीर सिंह भारतीय हॉकी टीम में खिलाड़ी, कप्तान और मैनेजर की भूमिका निभा चुके हैं(फाइल फोटो)

बलबीर सिंह सीनियर ने लंदन (1948), हेलसिंकी (1952) और मेलबर्न (1956) ओलिंपिक में भारत को स्वर्ण पदक जिताया था

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin

नई दिल्ली. भारतीय हॉकी टीम को तीन गोल्ड मेडल जिताने वाले हॉकी के दिग्गज बलबीर सिंह सीनियर (Balbir Singh Sr. ) का सोमवार सुबह निधन हो गया. वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे और मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती थे. पारिवारिक सूत्रों ने बताया था कि उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद से वह वेंटिलेटर पर थे. उनके विभिन्न अंगों पर असर पड़ा रहा था.


आठ मई से अस्पताल में थे भर्ती
बलबीर सिंह सीनियर (Balbir Singh Sr. ) को आठ मई को वहां भर्ती कराया गया था. वह 18 मई से अर्ध चेतन अवस्था में थे और उनके दिमाग में खून का थक्का जम गया था. उन्हें फेफड़ों में निमोनिया और तेज बुखार के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था. मोहाली के फोर्टिस अस्पताल के डायरेक्टर अभिजीत सिंह ने उनकी मौत की पुष्ठी की.  95 वर्ष के बलबीर सिंह सीनियर (Balbir Singh Sr. ) को पिछले साल भी सांस संबंधी तकलीफ के कारण कई सप्ताह चंडीगढ के पीजीआईएमईआर में बिताने पड़े थे.


ओलिंपिक इतिहास के गोल्डन मैन हैं बलबीर सिंह सीनियर



बलबीर सिंह सीनियर  (Balbir Singh Sr. )ने लंदन (1948), हेलसिंकी (1952) और मेलबर्न (1956) ओलिंपिक में भारत के स्वर्ण पदक जीतने में अहम भूमिका निभाई थी. हेलसिंकी ओलिंपिक में नेदरलैंड्स के खिलाफ 6-1 से मिली जीत में उन्होंने पांच गोल किए थे और यह रिकॉर्ड अभी भी बरकरार है. वह 1975 विश्व कप विजेता भारतीय हॉकी टीम के मैनेजर भी रहे थे. बलबीर सिंह सीनियर सिर्फ भारत ही नहीं दुनिया के सबसे बड़े खिलाड़ियों में शामिल हैं. देश के महानतम एथलीटों में से एक बलबीर सीनियर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति द्वारा चुने गए आधुनिक ओलिंपिक इतिहास के 16 महानतम ओलंपियनों में शामिल थे.


Video: अलग तरीके से क्रिकेट खेलने की कर रहे थे कोशिश, तभी चेहरे पर लगी बाउंसर



शेव करके सास से मिलने पहुंचे सचिन तेंदुलकर, जानें पहली मुलाकात की दिलचस्‍प कहानी
First published: May 25, 2020, 8:08 AM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading