मनप्रीत और रानी को टोक्यो ओलंपिक में भारतीय हॉकी टीमों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद

भारतीय पुरुष हॉकी टीम (फोटो हॉकी इंडिया के टि्वटर अकाउंट से साभार)

भारतीय पुरुष हॉकी टीम (फोटो हॉकी इंडिया के टि्वटर अकाउंट से साभार)

भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह को लगता है कि अगर उनकी टीम अपनी शानदार मौजूदा फॉर्म को जारी रखती है तो उसमें इस साल टोक्यो में ओलंपिक पदक के चार दशक के सूखे को समाप्त करने की काबिलियत है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह को लगता है कि अगर उनकी टीम अपनी शानदार मौजूदा फॉर्म को जारी रखती है तो उसमें इस साल टोक्यो में ओलंपिक पदक के चार दशक के सूखे को समाप्त करने की काबिलियत है. भारत ने अपने आठ ओलंपिक स्वर्ण पदकों का अंतिम पदक 1980 मॉस्को ओलंपिक में जीता था जिसके बाद टीम का स्तर काफी तेजी से नीचे गिर गया, लेकिन पिछले दो वर्षों में भारत ने अच्छी प्रगति की है.

मनप्रीत ने 23 जुलाई से आरंभ होने वाले टोक्यो खेलों की 100 दिन की उल्टी गिनती शुरू होने के मौके पर कहा, ‘‘पहले तो, काफी लंबे समय बाद अंतरराष्ट्रीय हॉकी खेलना अच्छा था. मैं पिछले 18 महीनों में टीम की प्रगति से काफी खुश हूं. अगर हम इसी तरह का प्रदर्शन जारी रखते हैं तो मुझे भरोसा है कि हम किसी भी टीम को हरा सकते हैं. ’’

भारतीय टीम ने हाल में एफआईएच प्रो लीग में मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन अर्जेंटीना को पराजित किया. उन्होंने कहा, ‘‘इस समय टीम के जज्बे का स्तर काफी ऊंचा हैं और जैसा कि मैंने पहले कहा कि हमें टोक्यो ओलंपिक से पहले अपने खेल को सुधारने के लिए प्रत्येक मौके का इस्तेमाल करना चाहिए.’’

उन्होंने कहा, ‘‘टीम में युवा काफी लंबे समय से खेल रहे हैं और मुझे पूरी उम्मीद है कि यह फार्म जारी रहेगी और हम रियो ओलंपिक से बेहतर प्रदर्शन दिखा सकेंगे.’’ भारतीय पुरुष हॉकी टीम 2016 रियो ओलंपिक में निराशाजनक आठवें स्थान पर रही थी. मनप्रीत की तरह ही भारतीय महिला टीम की कप्तान रानी रामपाल को भी टोक्यो में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है. महिला टीम इस महासमर के इतिहास में पहली बार लगातार ओलंपिक खेलेगी.
हॉकी इंडिया द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में रानी ने कहा, ‘‘दुनिया की दूसरे नंबर की अर्जेंटीना और जर्मनी के खिलाफ इस साल के शुरू में अपनी टीम के जुझारू प्रदर्शन से मैं बहुत खुश हूं. ’’ उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से हम निराश हैं कि हम जीत दर्ज नहीं कर पाये लेकिन हमने दिखाया कि हम अपने से ऊंची रैंकिंग की प्रतिद्वंद्वी को रोक सकते हैं. जर्मनी से लौटने के बाद हम अपनी ‘फिनिशिंग’ और तकनीक पर काफी मेहनत कर रहे हैं.’’

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा भरोसा है कि अगर हम इन अच्छे प्रदर्शन को नतीजों में तब्दील कर पाये तो हम भी ओलंपिक पदक की दौड़ में होंगे.’’ हॉकी इंडिया ने एक विशेष ‘पॉडकास्ट’ सीरीज ‘हॉकी ते चर्चा’ लॉन्च की है, जिसके पहले एपिसोड में हरबिंदर सिंह से बातचीत शामिल होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज