• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • IND vs ENG: रविचंद्रन अश्विन को फिर नहीं मिला टीम में मौका, विराट कोहली की सफाई के बावजूद रहस्य बरकरार

IND vs ENG: रविचंद्रन अश्विन को फिर नहीं मिला टीम में मौका, विराट कोहली की सफाई के बावजूद रहस्य बरकरार

अश्विन को इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में अभी तक मौका नहीं मिल पाया है. (AFP)

अश्विन को इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में अभी तक मौका नहीं मिल पाया है. (AFP)

रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर तस्वीरें शेयर की थीं जिसमें वह बल्लेबाजी अभ्यास करते नजर आए थे. विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा कि अश्विन उन पांच सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से नहीं हैं जो इंग्लैंड के खिलाफ ओवल टेस्ट खेलेंगे.

  • Share this:

    नई दिल्ली. टीम इंडिया के स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के अभी तक खेले गए चारों मैचों में मौका नहीं मिला है. चंद रोज पहले ही अश्विन ने सोशल मीडिया पर तस्वीरें साझा की थीं जिसमें वह बल्लेबाजी अभ्यास करते नजर आ रहे थे. एक तस्वीर में कवर ड्राइव लगा रहे थे तो दूसरी में गेंद को छोड़ते हुए दिख रहे थे. इसमें खास बात यह थी कि वह बायें हाथ से अभ्यास कर रहे थे और ट्वीट में लिखा था, ‘हर रोज कुछ नया सीखने की इच्छा कभी खत्म नहीं होती.’

    भाारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने गुरुवार को टॉस के समय एक बार फिर कहा कि टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले चौथे भारतीय गेंदबाज अश्विन उन पांच सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों में से नहीं हैं जो इंग्लैंड के खिलाफ ओवल टेस्ट खेलेंगे. पिछले तीन टेस्ट में दो विकेट लेने वाले रवींद्र जडेजा को खब्बू बल्लेबाजी के कारण टीम में रखा गया.

    इसे भी पढ़ें, भारतीय क्रिकेटर चौथे टेस्ट में काली पट्टी पहनकर उतरे, जानिए वजह

    कोहली ने कहा, ‘हमें लगा कि हालात के अनुरूप जडेजा सही बैठते हैं. टीम में बायें हाथ के खिलाड़ी के लिए जगह है और वह इस समय बतौर बल्लेबाज टीम को संतुलन दे रहे हैं.’ उनका यह तर्क हालांकि क्रिकेट पंडितों के गले नहीं उतरा. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने कहा, ‘इंग्लैंड में चार टेस्ट में एक में भी रविचंद्रन अश्विन का चयन नहीं होना सबसे बड़े ‘चयन नहीं करने’ के फैसले में से है जो हमने देखे हैं. 413 टेस्ट विकेट और पांच टेस्ट शतक. पागलपन है.’

    आमतौर पर विवादास्पद टिप्पणी नहीं करने वाले मार्क वॉ ने उस पर जवाब लिखा, ‘हैरानी हो रही है कि क्या भारतीय खेमे ने कुछ सोचा नहीं.’ टॉस के समय अश्विन को बाहर रखने के फैसले पर कोहली का जवाब सुनने वाले भारत के एक पूर्व क्रिकेटर ने कहा, ‘क्या उन्होंने यह कहा कि चार खब्बू बल्लेबाजों के सामने आर अश्विन से बेहतर रविंद्र जडेजा हैं. उन्होंने अपने तेज गेंदबाजों की बात कही.’

    उन्होंने कहा, ‘जडेजा की गेंदबाजी को देखो और क्या आपको यकीन है कि आप उसे इतने रन दे सकोगे कि वह चौथे या पांचवें दिन पिच में पड़ने वाली दरारों का इस्तेमाल कर सकें.’ एक अतिरिक्त बल्लेबाज को उतारने का समर्थन करने वाले सुनील गावस्कर ने कहा कि एक बार टीम की घोषणा होने पर वह उसका समर्थन करेंगे और नतीजा निकलने तक अपनी राय नहीं देंगे.

    टेस्ट के नतीजे पर कयास लगा पाना मुश्किल है. हो सकता है कि भारत जीत जाये लेकिन कप्तान कोहनी की सोच पर बहस जरूर छिड़ गई है. उनके समर्थकों के लिये यह उनकी दृढता है तो आलोचकों के लिए उनकी जिद. यह समझ पाना मुश्किल है कि स्पिनरों की मददगार पिच पर ऐसे गेंदबाज को कैसे बाहर रखा जा सकता है जिसने काउंटी मैच में छह विकेट लिये हैं. इसके साथ ही अश्विन जडेजा से किसी मायने में कमतर स्पिनर नहीं हैं. उन्हें मध्यक्रम के बल्लेबाजों की नाकामी का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है.

    इसे भी पढ़ें, अश्विन को ओवल में भी नहीं मिला मौका, वॉन बोले- पागलपन, थरूर ने भी दिया साथ

    जडेजा मौजूदा टेस्ट सीरीज में अभी तक 133 रन बना चुके हैं. वह चौथे टेस्ट की पहली पारी में नंबर-5 पर बल्लेबाजी को उतरे और 10 रन बनाकर आउट हुए. अजिंक्य रहाणे ने तीन टेस्ट में 95 रन बनाए हैं. कप्तान कोहली ने इस सीजन में ब्रिटेन में चार टेस्ट (विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल समेत) में एक भी शतक नहीं लगाया है. उन्होंने आखिरी टेस्ट शतक नवंबर 2019 में बांग्लादेश के खिलाफ लगाया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज