ओलिंपिक से पहले भारतीय डिफेंडर ने कहा-शारीरिक फिटनेस की तरह मानसिक मजबूती भी जरूरी

जरमनप्रीत ने कहा कि हम एक दूसरे से बात करते हैं. हम अपने आसपास सकारात्मक माहौल तैयार करने की कोशिश करते हैं (Hockey India Twitter)

जरमनप्रीत ने कहा कि हम एक दूसरे से बात करते हैं. हम अपने आसपास सकारात्मक माहौल तैयार करने की कोशिश करते हैं (Hockey India Twitter)

24 वर्षीय खिलाड़ी जरमनप्रीत सिंह अभी टोक्यो ओलिंपिक से पहले बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) केंद्र में अभ्यास कर रहे हैं.

  • Share this:

बेंगलुरु. भारतीय पुरुष हॉकी टीम के डिफेंडर जरमनप्रीत सिंह (Jarmanpreet singh) ने कोविड-19 (Covid-19) की वर्तमान परिस्थितियों में मानसिक मजबूती को भी शारीरिक फिटनेस के समान महत्वपूर्ण करार दिया. यह 24 वर्षीय खिलाड़ी अभी टोक्यो ओलिंपिक से पहले बेंगलुरु में भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) केंद्र में अभ्यास कर रहा है. जरमनप्रीत ने हॉकी इंडिया की प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि मेरा मानना है कि वर्तमान परिस्थितियों का सामना करने के लिये शारीरिक फिटनेस की तरह ही मानसिक मजबूती भी महत्वपूर्ण है.

एक खिलाड़ी का मानसिक रूप से मजबूत होना जरूरी है और इसके लिये हम एक दूसरे की मदद कर रहे हैं. भारत को इस महीने ग्रेट ब्रिटेन, स्पेन और जर्मनी के खिलाफ विदेशों में एफआईएच प्रो लीग के मैच खेलने थे लेकिन कोविड19 मामलों में बढ़ोतरी के कारण लगाये गये यात्रा प्रतिबंधों को देखते हुए इन मुकाबलों को स्थगित कर दिया गया.

यह भी पढ़ें: 

भुवनेश्वर कुमार ने खोला अपनी सफलता का राज, स्विंग से साथ इसे बनाया अपना हथियार
नोवाक जोकोविच का बड़ा बयान, कहा- फैंस को अनुमति मिलने पर ही टोक्‍यो ओलिंपिक में खेलेंगे

जरमनप्रीत ने कहा कि हम एक दूसरे से बात करते हैं. हम अपने आसपास सकारात्मक माहौल तैयार करने की कोशिश करते हैं ताकि प्रत्येक खुश रहे. मुझे लगता है कि इससे टीम के बीच बहुत अच्छे रिश्ते बने हैं जिससे ओलिंपिक के लिये हमारी तैयारियों में मदद मिल रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज