Home /News /sports /

राजकीय सम्मान के साथ किया गया बलबीर सिंह का अंतिम संस्कार

राजकीय सम्मान के साथ किया गया बलबीर सिंह का अंतिम संस्कार

बलबीर सिंह पंचतत्व में विलीन

बलबीर सिंह पंचतत्व में विलीन

तीन बार के ओलिंपिक स्वर्ण पदक विजेता बलबीर सिंह (Balbir Singh) का सोमवार को निधन हो गया, वो 96 वर्ष के थे.

    चंडीगढ़. तीन बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता बलबीर सिंह सीनियर (Balbir Singh)  का यहां शाम पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया और पंजाब के खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढी ने घोषणा की कि मोहाली स्टेडियम का नाम इस महान हॉकी खिलाड़ी के नाम पर रखा जायेगा. बलबीर सिंह सीनियर का सोमवार की सुबह को निधन हो गया. वह 96 वर्ष के थे और पिछले दो सप्ताह से कई स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे थे. उनके नाती कबीर सिंह भोमिया ने सिख गुरूओं की मौजूदगी में यहां विद्युत शवदाहगृह में उनका अंतिम संस्कार किया. उनकी बेटी सुशबीर और करीबी रिश्तेदार यहां मौजूद थे.

    बलबीर सिंह के नाम पर रखा जाएगा मोहाली स्टेडियम का नाम
    बलबीर सिंह (Balbir Singh) के परिवार में बेटी सुशबीर और तीन बेटे कंवलबीर, करणबीर और गुरबीर हैं. उनके बेटे कनाडा में हैं और वह यहां अपनी बेटी सुशबीर और नाती कबीर के साथ रहते थे. सोढी ने कहा कि बलबीर सिंह सीनियर का निधन सिर्फ खेलों की दुनिया के लिये नहीं बल्कि पूरे देश के लिये गहरा झटका है. उन्होंने कहा कि मोहाली हॉकी स्टेडियम का नाम उनके नाम पर रखा जायेगा. अंतिम संस्कार के समय भारत के पूर्व हॉकी कप्तान परगट सिंह भी मौजूद थे. पंजाब सरकार और चंडीगढ प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों ने उनकी पार्थिव देह पर पुष्प अर्पित किये. पुलिस की एक टुकड़ी ने उनके प्रति सम्मानस्वरूप हवा में तीन गोलियां चलाई.

    सीएम अमरिंदर ने दुख व्यक्त किया
    पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सोमवार को बलबीर सिंह (Balbir Singh)  सीनियर के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि इस हॉकी दिग्गज की दृढ़ता, समर्पण और खेल भावना हमेशा आने वाली कई पीढ़ियों के लिये प्रेरणा का काम करेगी. अमरिंदर ने ट्वीट किया, 'ओलंपिक में तीन बाद के स्वर्ण पदक विजेता हाकी दिग्गज बलबीर सिंह सीनियर के निधन के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ. ' उन्होंने कहा, 'वह दृढ़ता, समर्पण और खेल भावना की प्रतिमूर्ति थे. सर आपकी बहुत कमी खलेगी और आप हमेशा प्रेरणास्रोत बने रहोगे.

    पंजाब के राज्यपाल और चंडीगढ केंद्रशासित प्रदेश के प्रशासक वी पी सिंह बदनौर ने भी उनके निधन पर शोक जताते हुए कहा ,' तीन बार के ओलंपिक स्वर्ण पदक विजेता और विश्व कप विजेता टीम के कोच बलबीर सिंह सीनियर के निधन पर श्रृद्धांजलि . ' उन्होंने ट्वीट किया ,' उनका निधन मेरे लिये निजी क्षति है क्योंकि मेरे उनसे व्यक्तिगत संबंध थे . चंडीगढ़ और पंजाब उन्हें कभी नहीं भुला सकेंगे .'

    मिल्खा सिंह ने दी बलबीर सिंह श्रद्धांजलि
    भारत के महान एथलीट मिल्खा सिंह (Milkha Singh) ने अपने मित्र के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि ध्यानचंद के बाद भारतीय हॉकी में कोई महान खिलाड़ी कहलाने का हकदार है तो वह बलबीर सिंह सीनियर ही थे. बलबीर और मिल्खा अपने खेल में देश के लिये साथ ही शीर्ष स्तर पर खेले और यहां तक कि 1960 के दशक में पंजाब खेल विभाग में भी साथ ही काम करते थे. ‘फ्लाइंग सिख’ ने पीटीआई-भाषा से कहा, 'मेरा उनके साथ बहुत करीबी जुड़ाव था. तब पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरों ने हमें खेल विभाग में शामिल किया था जिसमें हम उप निदेशक के तौर पर जुड़े थे. 'उन्होंने कहा, 'हम बहुत अच्छे मित्र थे. वह मेरे काफी करीब थे और मुझे बहुत दुख हो रहा है कि वह अब हमारे बीच नहीं हैं. ध्यानचंद के बाद अगर कोई महान हॉकी खिलाड़ी था तो वह बलबीर सिंह सीनियर थे. '

    बलबीर सिंह यादें-1: 'तिरंगा ऊपर जा रहा था,कोई आंख ऐसी नहीं थी जो भीगी हुई न हो

    Tags: Amrinder singh, Chandigarh, Hockey, Milkha Singh

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर