होम /न्यूज /खेल /

आईओए अदालत के फैसले को पूरी तरह देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट जाने का लेगा फैसला

आईओए अदालत के फैसले को पूरी तरह देखने के बाद सुप्रीम कोर्ट जाने का लेगा फैसला

दिल्ली हाई कोर्ट ने निर्देश दिया है कि आईओए का संचालन 3 सदस्यीय समिति करेगी. (Twitter)

दिल्ली हाई कोर्ट ने निर्देश दिया है कि आईओए का संचालन 3 सदस्यीय समिति करेगी. (Twitter)

भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के संचालन के लिए दिल्ली हाई कोर्ट ने 3 सदस्यीय समिति गठित करने का निर्देश दिया है. समिति में पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति अनिल दवे, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ एसवाई कुरैशी और विदेश मंत्रालय के पूर्व सचिव विकास स्वरूप शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

भारतीय ओलंपिक संघ के अधिकारियों की बुधवार को बैठक होने की संभावना है
दिल्ली हाई कोर्ट ने निर्देश दिया है कि आईओए का संचालन 3 सदस्यीय समिति करेगी
समिति में पूर्व न्यायाधीश अनिल दवे, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ एसवाई कुरैशी शामिल

नई दिल्ली. भारतीय ओलंपिक संघ (IOA) ने मंगलवार को कहा कि देश की शीर्ष खेल इकाई के संचालन की बागडोर 3 सदस्यीय प्रशासकों की समिति को सौंपने के दिल्ली हाई कोर्ट के निर्देश की विस्तार से समीक्षा करने के बाद ही वह सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला लेगा. आईओए अधिकारियों की बुधवार को बैठक होने की संभावना है.

आईओए महासचिव राजीव मेहता ने कहा, ‘आईओए सदस्य दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले पर विस्तार से बात करेंगे और यह फैसला लेंगे कि सुप्रीम कोर्ट में अपील करनी है या नहीं.’ दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के मामलों को संभालने के लिए प्रशासकों की 3 सदस्यीय समिति (सीओए) के गठन का निर्देश दिया.

इसे भी देखें, COA ने कहा- भारत को निलंबित करने का फीफा का फैसला दुर्भाग्यपूर्ण

न्यायमूर्ति मनमोहन और न्यायमूर्ति नजमी वजीरी की पीठ ने कहा कि खेल संहिता का पालन करने के लिए आईओए की ‘लगातार अनिच्छा’ ने अदालत को मजबूर कर दिया कि इसके मामलों की देखरेख की जिम्मेदारी सीओए को सौंपी जाए.

सीओए सदस्यों में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश न्यायमूर्ति अनिल आर दवे, पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ. एस.वाई. कुरैशी और विदेश मंत्रालय के पूर्व सचिव विकास स्वरूप शामिल है.

Tags: Indian Olympic Association, IOA President, Sports news, Supreme Court

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर