ईशा गुहा बोलीं, पुरुषों जितना ध्यान दिया जाए तो भारतीय महिला टीम भी दबदबा बना सकती है

गुहा ने महिला क्रिकेट में सुधार के लिए कई सुझाव दिए हैं. (Instagram)

गुहा ने महिला क्रिकेट में सुधार के लिए कई सुझाव दिए हैं. (Instagram)

पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर ईशा गुहा (Isa Guha) ने कहा महिलाओं की प्रगति के लिए आभारी महसूस कराया जाता है लेकिन बराबरी हासिल करने के लिए काफी काम करने की जरूरत है. उन्होंने कहा कि भारतीय महिला टीम भी दबदबा बनाएगी, जब उनके खेल पर उतना ध्यान दिया जाए, जितना पुरुषों पर दिया जाता है.

  • Share this:

लंदन. इंग्लैंड की पूर्व क्रिकेटर ईशा गुहा (Isa Guha) ने रविवार को कहा कि पुरुष और महिला क्रिकेट के बीच अब भी असमानता मौजूद है. उन्होंने उम्मीद जताई कि अगर पुरुष समकक्षों के बराबर ध्यान दिया जाए तो भारत की महिला टीम भी उतना ही अच्छा प्रदर्शन कर सकती है. ईशा ने कुछ ट्वीट करके उन विभाग का जिक्र किया जिन पर खेल के हितधारकों को काम करने की जरूरत है जिससे कि समानता हासिल की जा सके.

करियर में 8 टेस्ट, 83 वनडे और 22 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वालीं ईशा ने कहा कि महिला खेल के कल्याण के लिए मजबूत खिलाड़ी संघ होना जरूरी है. उन्होंने कहा कि महिला क्रिकेटरों को बराबरी हासिल करने के लिए काफी काम करने होंगे.

इसे भी पढ़ें, धोनी से आगे निकलने के करीब विराट कोहली, तोड़ सकते हैं लॉयड का भी रिकॉर्ड

गुहा ने ट्वीट किया, ‘महिलाओं को तरक्की के लिए आभारी महसूस कराया जाता है लेकिन बराबरी हासिल करने के लिए काफी काम करने की जरूरत है (और सिर्फ वेतन की समानता नहीं). इसके लिए खिलाड़ी संघ अहम हिस्सा हैं. भारतीय महिला टीम दबदबा बनाएगी जब उनके खेल पर भी उतना ध्यान दिया जाएगा जितना पुरुषों पर दिया जाता है.’


उन्होंने लिखा, ‘पुरुष खिलाड़ी अलग स्तर के हैं लेकिन फिर भी खिलाड़ियों कल्याण के लिए जमीनी स्तर पर समानता होनी चाहिए. भुगतान/अनुबंध का समय, समर्थन के लिए अच्छा नेटवर्क, अच्छा घरेलू ढांचा, मातृत्व प्रावधान, संन्यास की योजना जैसी चीजें खिलाड़ी संघ के जरिए हासिल की जा सकती है.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज