एमएसके प्रसाद का गावस्कर पर पलटवार, कहा- ज्यादा खेलने वाले को अच्छी समझ हो जरूरी नहीं

बीसीसीआई के चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने दिग्गज बल्लेबाज सुनील गावस्कर के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण बताया

पीटीआई
Updated: July 31, 2019, 3:35 PM IST
एमएसके प्रसाद का गावस्कर पर पलटवार, कहा- ज्यादा खेलने वाले को अच्छी समझ हो जरूरी नहीं
गावस्कर ने चयन समिति पर सवाल उठाए थे.
पीटीआई
Updated: July 31, 2019, 3:35 PM IST
बीसीसीआई के चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद और सुनील गावस्कर के बीच जुबानी जंग छिड़ चुकी है. सुनील गावस्कर ने वेस्टइंडीज दौरे पर विराट कोहली को कप्तान बनाए रखने के बाद सेलेक्शन पर सवाल उठाए थे. उन्होंने चयन समिति को कठपुतली कह डाला था. हालांकि इस पर प्रसाद चुप नहीं बैठे और पलटवार करते हुए गावस्कर पर निशाना साधा.

पीटीआई को दिए साक्षात्कार में चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद ने गावस्कर का नाम लिए बिना कहा- 'हमारे देश में लोगों को इस बात की गलतफहमी है कि जिसने ज्यादा क्रिकेट खेला है, उसे इस खेल की समझ भी ज्यादा है.' गावस्कर से पहले भी चयन समिति के कम अनुभव पर सवाल उठते रहे हैं. सेलेक्शन समिति के पांच में से 3 सदस्यों के पास 13 टेस्ट मैच खेलने का अनुभव है. वहीं समिति के दो सदस्यों ने कोई टेस्ट खेला ही नहीं है. अगर गावस्कर की बात करे तो उन्होंने 125 टेस्ट खेले हैं और 10,122 रन बनाए हैं.

प्रसाद ने कहा, कमजोर कहे जाने पर होता है दुख
प्रसाद ने कम अनुभव के सवाल के जवाब देते हुए कई उदाहरण दिए जहां चयन समिति के पास उतना अनुभव नहीं है. उन्होंने कहा, 'अगर कोई हमारे कद और अंतरराष्ट्रीय अनुभव पर सवाल उठा रहा तो उसे इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड के मौजूदा चयन समिति के अध्यक्ष एड स्मिथ को देखना चाहिए जिन्होंने सिर्फ एक टेस्ट मैच खेला है. क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य चयनकर्ता ट्रेवर होन्स ने सिर्फ सात टेस्ट मैच खेले हैं और वह लंबे समय से समिति का हिस्सा हैं. दिग्गज ग्रेग चैपल को 87 टेस्ट और 74 वनडे का अनुभव है और वह ट्रेवर के अधीन काम कर रहे हैं. जब उन देशों में कद और अंतरराष्ट्रीय अनुभव मुद्दा नहीं है तो हमारे देश में यह कैसे होगा? मैं यहां पर कहने की कोशिश कर रहा हूं कि हर काम के लिए अलग जरूरत होती है.'

प्रसाद ने कहा कि उन्हें बुरा लगता है जब उन्हें कमजोर कहा जाता है. उन्होंने कहा, 'यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण बात है. हम दिग्गज क्रिकेटरों का सम्मान करते हैं. हम जानते हैं कि हर मुद्दे पर उनकी अपनी राय है. उनकी बात मायने रखती है. लेकिन इस तरह की बातों से हम दुखी होने की बजाय एकजुट होकर अपना काम करते हैं.'

यह भी पढ़ें- तो क्या आईपीएल ‌खिलाने के लिए बीसीसीआई ने दबा रखी थी शॉ के डोप टेस्ट की बात!

बैन लगने के बाद पृथ्वी शॉ ने दी 'सफाई', बताया कहां हो गई गलती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 31, 2019, 3:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...