होम /न्यूज /खेल /मीराबाई का ओलंपिक में सिल्वर मेडल वेटलिफ्टिंग के लिए ऑक्सीजन की तरह : कर्णम मल्लेश्वरी

मीराबाई का ओलंपिक में सिल्वर मेडल वेटलिफ्टिंग के लिए ऑक्सीजन की तरह : कर्णम मल्लेश्वरी

वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में भारत का पदकों का खाता खोला था जिन्होंने रजत पदक हासिल कर इतिहास रचा. (AP)

वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलंपिक में भारत का पदकों का खाता खोला था जिन्होंने रजत पदक हासिल कर इतिहास रचा. (AP)

सिडनी ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट कर्णम मल्लेश्वरी (Karnam Malleshwari) का मानना है कि मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) का ओ ...अधिक पढ़ें

    मुंबई. ओलंपिक मेडलिस्ट रहीं दिग्गज वेटलिफ्टर कर्णम मल्लेश्वरी (Karnam Malleshwari) का मानना है कि मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) का हाल के टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में जीता गया रजत पदक भारतीय वेटलिफ्टिंग के लिए प्राण वायु ‘ऑक्सीजन’ की तरह है. कर्णम मल्लेश्वरी ने कहा कि मीराबाई के पदक से युवा इस खेल से जुड़ने के लिए प्रेरित होंगे.

    सिडनी ओलंपिक-2000 में भारोत्तोलन का कांस्य पदक जीतने वालीं मल्लेश्वरी ने इसके साथ ही कहा कि टोक्यो खेलों में भारत के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से देश में खेल संस्कृति को भी बढ़ावा मिलेगा. मल्लेश्वरी ने मुंबई में  एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, ‘मीराबाई (चानू) का पदक 20 साल बाद आया है और इसलिए यह हमारे लिए ऑक्सीजन की तरह काम कर रहा है. मुझे लगता है कि इस पदक से भविष्य में कई बच्चे प्रेरणा लेंगे और हमारे अधिक पदक आएंगे.’

    इसे भी पढ़ें, पीएम मोदी बोले-बेटे और बेटियों ने 4 दशक बाद हॉकी में जान फूंक दी

    टोक्यो ओलंपिक में भारत के प्रदर्शन के बारे में मल्लेश्वरी ने कहा, ‘हमने सात पदक जीते. हमने अच्छा प्रदर्शन किया और सबसे खुशी की बात यह रही कि नीरज चोपड़ा ने उस एथलेटिक्स में स्वर्ण पदक जीता जिसमें हम पदक के बारे में भी नहीं सोच रहे थे. भारत सरकार, साई (भारतीय खेल प्राधिकरण), खेल मंत्रालय से जो सहयोग मिला उसने भी अपनी भूमिका निभाई. सरकार ने ओलंपियन की हर तरह से मदद की. उन्हें सर्वश्रेष्ठ सुविधाएं और प्रशिक्षण मुहैया कराया गया और परिणाम हमारे सामने है.’

    ओलंपिक पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला मल्लेश्वरी ने कहा कि सरकार के सहयोग के कारण ही खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन कर पाये और माता पिता अपने बच्चों को खेल को करियर के रूप में अपनाने की अनुमति दे रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘लोग जागरूक हुए हैं. इससे पहले असमंजस की स्थिति रहती थी कि इसे करियर बनाए या नहीं लेकिन आज खिलाड़ी खेलों में शत प्रतिशत करियर बना रहे हैं.’

    मल्लेश्वरी ने कहा, ‘ओलंपिक पदक जीतने पर आप एक हस्ती बन जाते हो और आप वित्तीय रूप से मजबूत बन जाते हो. अब माता-पिता भी समर्थन कर रहे हैं. मुझे भविष्य में भारत में अच्छी खेल संस्कृति के विकास की उम्मीद है और हमारे पास तब अधिक पदक विजेता खिलाड़ी होंगे.’

    Tags: Indian weightlifter, Mirabai Chanu, Sports news, Tokyo olympic 2020, Tokyo Olympics, Weightlifting

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें