Home /News /sports /

KBC 13: श्रीजेश को गोलकीपिंग पैड्स दिलाने के लिए पिता को बेचनी पड़ी थी गाय, जानिए उनके संघर्ष की कहानी

KBC 13: श्रीजेश को गोलकीपिंग पैड्स दिलाने के लिए पिता को बेचनी पड़ी थी गाय, जानिए उनके संघर्ष की कहानी

KBC-13: भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने केबीसी में अपने संघर्ष के दिनों से जुड़ी एक कहानी सुनाई. (PC- Sony TV Instagram)

KBC-13: भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने केबीसी में अपने संघर्ष के दिनों से जुड़ी एक कहानी सुनाई. (PC- Sony TV Instagram)

KBC-13: कौन बनेगा करोड़पति के 13वें सीजन के शानदार शुक्रवार एपिसोड में कई सेलिब्रिटी गेस्ट आ चुके हैं. इस हफ्ते टोक्यो ओलंपिक में देश का परचम बुलंद करने वाले दो खिलाड़ी नीरज चोपड़ा (Neeraj Chopra) और पीआर श्रीजेश (PR Sreejesh) अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के मेहमान बनेंगे. इस शो का एक प्रोमो सामने आया है, जिसमें भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर श्रीजेश ने अपने गोलकीपर बनने से जुड़ी एक कहानी सुनाई.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्ली. कौन बनेगा करोड़पति के 13वें सीजन के शानदार शुक्रवार एपिसोड में कई सेलिब्रिटी गेस्ट आ चुके हैं. बीते हफ्ते फराह खान के साथ बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण हॉट सीटी पर बैठीं थीं. इस हफ्ते टोक्यो ओलंपिक में देश का परचम बुलंद करने वाले दो खिलाड़ी नीरज चोपड़ा और पीआर श्रीजेश अमिताभ बच्चन के मेहमान बनेंगे. सोनी टीवी के इस शो के कई प्रोमो जारी किए हैं. ऐसे ही एक प्रोमो में भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर श्रीजेश ने केबीसी के होस्ट अमिताभ बच्चन को अपने संघर्ष के दिनों से जुड़ी कहानी सुनाते नजर आ रहे हैं.

    शो में अमिताभ बच्चन गोलकीपर पी आर श्रीजेश से यह पूछते हैं कि उनके अपने पिता से कैसे संबंध रहे. इस पर श्रीजेश ने शुरुआती तंगहाली से भारत के लिए हॉकी खेलने तक के सफर को याद किया. उन्होंने बताया कि बचपन में मैं थोड़ा शरारती थी. इसी वजह से कई बार पापा से मार पड़ती थी. मेरी शुरू से ही खेल में रूचि थी. जिस दिन खेल का सेलेक्शन से जुड़ा मेरा लेटर आया तो पिता ने मुझसे पूछा कि क्या करना है तो मैंने कहा कि मैं कोशिश करना चाहूंगा. यहीं से हॉकी गोलकीपर बनने की शुरुआत हुई. हालांकि, गोलकीपिंग आसान नहीं था. इसमें काफी खर्चा था. क्योंकि पैड महंगे आते थे.

    श्रीजेश ने अपने गोलकीपर बनने की राह में आई अड़चन से जुड़ी कहानी बताई. उन्होंने कहा कि मैं किसान परिवार से आता हूं. हमारे पास इतने पैसे नहीं थे कि गोलकीपिंग पैड खरीद सके. ऐसे में पिताजी ने गाय बेचकर मुझे पैड्स दिलाए थे.

    उन्होंने आगे बताया कि मैंने आज तक पिता को कुछ गिफ्ट नहीं दिया था. मुझे याद है कि जब मैं टोक्यो ओलंपिक से घर लौटा था. तो सबसे पहले अपना मेडल पिताजी के गले में डाल दिया था. मैंने अपना यह पदक पिता को समर्पित किया था.

    बता दें कि भारत ने टोक्यो ओलंपिक में 41 साल बाद हॉकी में पदक जीता था. भारत ने ब्रॉन्ज मेडल के लिए हुए मुकाबले में जर्मनी में 5-4 से हराया था. भारत की इस जीत में गोलकीपर पी आर श्रीजेश ने अहम भूमिका निभाई थी. भारत ने पिछली बार ओलंपिक पदक 1980 में मॉस्को गेम्स में जीता था. तब भारतीय हॉकी टीम ने स्वर्ण पदक जीतने में सफल रही थी.

    Tags: Amitabh Bachachan, KBC 13, Neeraj Chopra, PR Sreejesh

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर