खेलमंत्री किरेन रिजीजू ने लैब में लॉन्च किया डोप जांच के दौरान इस्तेमाल के लिए ‘रैफरेंस’ पदार्थ

किरेन रिजिजू ने विज्ञप्ति में कहा, ''यह हम सभी के लिए विशेष पल है.'' (Kiren Rijiju/Instagram)

किरेन रिजिजू ने विज्ञप्ति में कहा, ''यह हम सभी के लिए विशेष पल है.'' (Kiren Rijiju/Instagram)

किरेन रिजिजू ने विज्ञप्ति में कहा, ''यह हम सभी के लिए विशेष पल है. यह पदार्थ बहुत छोटा है, लेकिन इसका प्रभाव काफी बड़ा है. खेल भावना का मतलब है कि साफ-सुथरे खेल जिसमें कोई धोखाधड़ी नहीं हो.''

  • Share this:
नई दिल्ली. खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने डोपिंग रोधी प्रयोगशाला में रासायनिक जांच के दौरान इस्तेमाल के लिए गुरुवार को एक नया ‘रैफरेंस’ पदार्थ (आरएम) लॉन्च किया, जिसे राष्ट्रीय डोप जांच प्रयोगशाला (एनडीटीएल) द्वारा गुवाहाटी के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्यूटिकल एजुकेशन एवं रिसर्च (एनआईपीईआर) के साथ मिलकर बनाया जाएगा.

आरएम का इस्तेमाल डोप जांच में गुणवत्ता के लिए अनिवार्य रूप से किया जाता है इसलिए दुनिया भर में खेलों में डोप जांच में इनकी उपलब्धता बहुत अहम होती है. एनडीटीएल द्वारा इस रैफरेंस पदार्थ की पहचान विश्व भर में दुर्लभ उपलब्ध पदार्थ के रूप में की गई है, जिससे विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की सभी मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं में डोपिंग रोधी उपायों को मजबूत करने में इस्तेमाल किया जाएगा.

वर्ल्ड टूर फाइनल्स: पीवी सिंधु और श्रीकांत लगातार दूसरा मैच हारे, नॉकआउट से लगभग बाहर

एनडीटीएल और एनआईपीईआर के बीच समझौते पत्र पर हस्ताक्षर अगस्त 2020 में किये गये थे जिसने 20 दुर्लभ उपलब्ध आरएम को तीन साल के लिये बनाने का प्रस्ताव दिया था.
किरेन रिजिजू ने विज्ञप्ति में कहा, ''यह हम सभी के लिए विशेष पल है. यह पदार्थ बहुत छोटा है, लेकिन इसका प्रभाव काफी बड़ा है. खेल भावना का मतलब है कि साफ-सुथरे खेल जिसमें कोई धोखाधड़ी नहीं हो. मैं एनडीटीएल और एनआईपीईआर में सभी वैज्ञानिकों को 20 रैफरेंस पदार्थों में से एक को बनाने के लिएबधाई देना चाहूंगा.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज