लोकसभा चुनाव रिजल्ट 2019: जानिए क्या हुआ चुनावों में इन खिलाड़ियों का हाल

लोकसभा चुनाव रिजल्ट 2019: जानिए क्या हुआ चुनावों में इन खिलाड़ियों का हाल
खिलाड़ियों ने प्रचार में जमकर अपने स्टारडम का प्रयोग किया

गौतम गंभीर से लेकर कृष्णा पूनिया तक, इस कई बड़े नामों ने राजनीति में अपनी किस्तम आजमाई

  • Share this:
भारत में कई ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जो खेल के मैदान से राजनीति में उतरे हैं कमाल किया है. नवजोत सिंह सिद्धु से लेकर कीर्ति आजाद तक. इस साल के लोकसभा चुनाव में खेल के मैदान के कई दिग्गज भी उतरे थे. गौतम गंभीर से लेकर कृष्णा पूनिया तक, इस कई बड़े नामों ने राजनीति में अपनी किसमत आजमाई जानिए किसकी जीत किसकी हुई हार

गौतम गंभीर

भारत के पूर्व सलामी बल्‍लेबाज़ गौतम गंभीर ने ईस्ट दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ते हुए जीत हासिल कर ली है. उन्‍होंने कांग्रेस उम्मीदवार अरविंदर सिंह लवली को हराया है. इसके साथ ही वह लोकसभा में पहुंचने वाले 5वें क्रिकेटर बन गए हैं.



गौतम गंभीर ने इस्ट दिल्ली से जीत दर्ज की है (pti)
गौतम गंभीर ने इस्ट दिल्ली से जीत दर्ज की है (pti)

ईस्ट दिल्ली से जीत तय होने के बाद बीजेपी गौतम गंभीर ने आम आदमी पार्टी के अलावा अपनी प्रतिद्वंदी उम्मीदवार लवली और आतिशी पर निशाना साधते हुए ट्वीट में लिखा है, 'ना तो ये 'लवली' कवर ड्राइव थी और ना ही 'आतिशी' बल्लेबाजी. ये केवल बीजेपी दिल्ली और बीजेपी इंडिया टीम की साझेदारी का नतीजा है. हम लोगों की पसंद पर खरे उतरेंगे. फिर एक बार मोदी सरकार.

हार गए बॉक्सर विजेंदर 

भारतीय स्टार बॉक्सर विजेंदर सिंह भी इस बार कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़े. वह दक्षिण दिल्ली से आप के राघव चड्ढा और बीजेपी के रमेश बिधूड़ी के खिलाफ चुनाव लड़े. 13.6 प्रतिशत वोट के साथ वह तीसरे स्थान पर रहे. वहीं बीजेपी के बिधुड़ी 56.6 प्रतिशत वोट के साथ विजयी रहे. 33 साल के इस बॉक्सर ने चुनाव लड़ने के लिए हरियाणा पुलिस में अपनी सरकारी नौकरी छोड़ दी थी.

जयपुर में थी दो खिलाड़ियों के बीच जंग

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ जयपुर ग्रामीण सीट से लड़े. इस सीट पर उनके खिलाफ 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स की गोल्ड मेडलिस्ट कृष्णा पूनिया लड़ रही थी.

राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और कृष्णा पूनिया जयपुर ग्रमीण से आमने-सामने थीं (pti)
राज्यवर्धन सिंह राठौड़ और कृष्णा पूनिया जयपुर ग्रमीण से आमने-सामने थे (pti)


हालांकि शूटर और डिस्कस थ्रोअर के बीच जीत राज्यवर्धन की हुई. बीजेपी के टिकट पर लड़ रहे राज्यवर्धन ने 62.44 प्रतिशत वोट के साथ जीते. दूसरे स्थान पर रही कृष्णा पूनिया और उनके बीच 3.93 लाख वोटों का अंतर रहा.

फुटबॉलर्स भी उतरे मैदान में

हावड़ा से टीएमसी के टिकेट पर पूर्व फुटबॉलर और अर्जुन अवॉर्डी प्रसून बनर्जी चुनाव लड़े. 47.2 प्रतिशत वोटों के साथ उन्हें जीत हासिल की. उनके बाद दूसरे नंबर पर रहे बीजेपी के रंतीदेव सेनगुप्ता को 38.7 प्रतिशत वोट ही हासिल कर पाए. वहीं भारत के लिए फुटबॉल खेलने वाले कल्याण चौबे कृष्णनागर सीट से बीजेपी के टिकट पर लड़े थे हालांकि वह जीत हासिल नहीं कर पाए. उन्हें 40.4 प्रतिशत वोट हासिल हुए वहीं टीएमसी के महुआ मोइत्रा को 45 प्रतिशत वोट मिले.

राजनीति में सफल होने वाले क्रिकेटरों में कीर्ति आज़ाद भी शामिल हैं. टीम इंडिया के लिए सात टेस्ट और 25 वनडे खेलने वाले आजाद 1993 से 1998 तक दिल्ली विधानसभा में बीजेपी के विधायक रहे. साल 1999 में दरभंगा लोकसभा सीट पर बीजेपी की तरफ से चुनाव लड़कर वह सांसद बने. इसके बाद 2009 और 2014 में इसी चुनाव क्षेत्र से उन्होंने जीत दर्ज की. हालांकि इस बार उन्‍होंने कांग्रेस का दाम थाम लिया और धनबाद से चुनाव लड़े और हार गए.

यह भी पढ़ें-
इस वजह से इंग्लैंड में हर कोई हुआ टीम इंडिया का दीवाना!

मिताली के साथ हुए विवाद के बाद क्रिकेट से दूर जाना चाहती थी हरमनप्रीत कौर

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज