Home /News /sports /

उत्तराखंड का अंगद डॉक्टर बनते-बनते बन गया फाइटर, अब MMA डेब्यू के लिए तैयार

उत्तराखंड का अंगद डॉक्टर बनते-बनते बन गया फाइटर, अब MMA डेब्यू के लिए तैयार

Matrix Fight Night 7: उत्तराखंड के उभरते हुए मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फाइटर 10 दिसंबर को मैट्रिक्स फाइट नाइट-7 में हिस्सा लेंगे. (Angad bisht instagram)

Matrix Fight Night 7: उत्तराखंड के उभरते हुए मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फाइटर 10 दिसंबर को मैट्रिक्स फाइट नाइट-7 में हिस्सा लेंगे. (Angad bisht instagram)

मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स (Mixed Marshal Arts) भले ही प्रोफेशनल स्पोर्ट्स के तौर पर पहचान बना चुका है. लेकिन भारत में अब भी यह खेल शुरुआती स्टेज में ही है. ऐसे में अगर कोई इसमें करियर बनाने की सोचे तो परिवार परेशान होगा ही. ऐसा ही कुछ उत्तराखंड के अंगद बिष्ट के साथ हुआ, जो डॉक्टर बनते-बनते फाइटर बन गए और 10 दिसंबर को हैदराबाद में होने वाली मैट्रिक्स फाइट नाइट-7 में अपने मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स (Mixed Marshal Arts) करियर का आगाज करेंगे. वो 2018 में सुपर फाइट लीग और 2019 में ब्रेव कॉम्बेट फेडरेशन फाइट जीत चुके हैं.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. भारत में मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स (Mixed Marshal Arts) धीरे-धीरे अपनी जड़ें जमा रहा है. लेकिन अन्य खेलों की तरह इसमें करियर उतना सुरक्षित नहीं है और चोटिल होने का खतरा भी काफी ज्यादा है. इसके बावजूद उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग के अंगद बिष्ट (Angad Bisht) इसी खेल में अपना मुकाम बनाने की तरफ कदम बढ़ा चुके हैं. वो 10 दिसंबर को होने वाली मैट्रिक्स फाइट नाइट-7 में पहली बार एमएमए (MMA) मुकाबले के लिए रिंग में उतरेंगे. हालांकि, वो बचपन में डॉक्टर बनने का ख्वाब देखते थे और यही चाहते थे कि बड़े होकर इसी क्षेत्र में लोगों की सेवा करें.

    अंगद ने दैनिक भास्कर से खास बातचीत में कहा, “मैं पहाड़ों से आता हूं और यहां के युवाओं के पास करियर के ज्यादा विकल्प नहीं होते हैं. वो या तो सेना में जाते हैं, या होटल मैनेजमेंट की डिग्री लेते हैं. लेकिन मैं पढ़ाई में अच्छा था. तो मेडिकल की पढ़ाई का सोचा. इसके लिए कोचिंग भी की. लेकिन इसी दौरान जिम और फिटनेस को लेकर रूचि बढ़ी और यहीं से मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स फाइटर बनने की शुरुआत हुई.”

    परिवार शुरू में इस खेल के खिलाफ था: अंगद
    उन्होंने आगे कहा कि शुरू में मुझे नहीं पता था कि इस तरह की फाइट में आप पैसे भी कमा सकते हैं या करियर का यह भी एक विकल्प हो सकता है. जब पता चला तो इसे संजीदगी से लेना शुरू किया और इसके बाद दिल्ली, बेंगलुरु और मुंबई में मिक्स्ड मार्शल आर्ट्स की ट्रेनिंग ली. हालांकि, इसके लिए परिवार को मनाना काफी मुश्किल रहा.

    अंगद ने कहा कि जब मैंने शुरू में अपने परिवार को इसके बारे में बताया तो वो हैरान हो गए थे. क्योंकि पहाड़ों पर इस तरह के करियर के बारे में कोई सोच नहीं सकता. लेकिन धीरे-धीरे उन्हें मनाया और तब जाकर बतौर प्रोफेशन इस खेल को अपना पाया. जब इससे कमाई होने लगी तो परिवार ने भी बोलना कम कर दिया.

    अंगद दो फाइट चैम्पियनशिप जीत चुके
    अंगद अब तक फ्री स्टाइल फाइट में 3 प्रतियोगिताओं को जीत चुके हैं. अंगद ने 2018 में सुपर फाइट लीग और 2019 में ब्रेव कॉम्बेट फेडरेशन फाइट जीती है.

    Pro Kabaddi: जयपुर पिंक पैंथर्स ने 7 साल पहले जीता था पहला खिताब, क्या इस बार नए कोच से बदलेगी किस्मत ?

    मेसी गए तो खत्म हुआ बार्सिलोना का जादू, 17 साल बाद चैंपियंस लीग के नॉकआउट चरण में नहीं पहुंचा

    अंगद का मणिपुर के फाइटर से होगा मुकाबला
    अंगद को मैट्रिक्स फाइट नाइट-7 में मणुपिर के फाइटर चुंगरेन कोरेन से भिड़ना है. इस मुकाबले को लेकर उन्होंने कहा कि मणिपुर के कोरोने काफी फुर्तीले हैं. ऐसे में यह मुकाबला आसान नहीं होने वाला है. उन्होंने एमएमए को लेकर कहा कि लोगों को लगता है कि यह सिर्फ मारधाड़ का खेल है. लेकिन ऐसा नहीं है. यह भी दूसरे खेलों की तरह है और सिर्फ ताकत नहीं, बल्कि स्किल के दम पर खिलाड़ी जीतता है.

    Tags: Mixed martial arts, Mma, Sports news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर