Home /News /sports /

नोवाक जोकोविच की मां ने लगाया बड़ा आरोप, बोलीं- ऑस्ट्रेलिया ने मेरे बेटे को बंदी बनाया

नोवाक जोकोविच की मां ने लगाया बड़ा आरोप, बोलीं- ऑस्ट्रेलिया ने मेरे बेटे को बंदी बनाया

नोवाक जोकोविच ऑस्ट्रेलियाई ओपन में भाग लेने ऑस्ट्रेलिया गए थे (PIC: AP)

नोवाक जोकोविच ऑस्ट्रेलियाई ओपन में भाग लेने ऑस्ट्रेलिया गए थे (PIC: AP)

नोवाक जोकोविच की मां ने कहा, ''मेरी उससे बात हुई. वह ठीक था और सोने की कोशिश कर रहा था. एक मां के रूप में, मैं क्या कह सकती हूं? अगर आप एक मां हैं, तो आप बस कल्पना कर सकते हैं कि आप कैसा महसूस करेंगें. ''

    बेलग्रेड. टेनिस स्टार नोवाक जोकोविच (Novak Djokovic) की मां ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया के अधिकारियों पर उनके बेटे को ‘कैदी’ की तरह ‘ बहुत बुरे’ आवास में रखने का आरोप लगाते हुए कहा कि उसके साथ ‘अनुचित’ सलूक हो रहा है. सर्बिया के 34 वर्षीय ग्रैंड स्लैम विजेता जोकोविच को ऑस्ट्रेलियाई ओपन (Australian Open) में भाग लेने वाले सभी खिलाड़ियों और उनकी सहायक सदस्यों के लिए कोविड-19 टीकाकरण की आवश्यकता में  छूट दी गई थी. लेकिन ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश करने पर उनका वीजा गुरुवार को रद्द कर दिया गया था और उन्हें हवाई अड्डे पर लगभग आठ घंटे तक रोके रखा गया था.

    उन्हें इसके बाद आव्रजन विभाग के होटल में रखा गया था, जहां से इस खिलाड़ी को  निर्वासन का सामना करना पड़ सकता है. उनके वकीलों ने हालांकि अदालत में वीजा के फैसले को चुनौती दी थी. जोकोविच की मां ने कहा, ”मेरी उससे बात हुई. वह ठीक था और सोने की कोशिश कर रहा था. एक मां के रूप में, मैं क्या कह सकती हूं? अगर आप एक मां हैं, तो आप बस कल्पना कर सकते हैं कि आप कैसा महसूस करेंगें. ”

    जहां उन्हें रखा गया है, वहां कीड़े और गंदगी है
    उन्होंने कहा, ”मैं डरा हुआ महसूस कर रही हूं. पिछले 24 घंटों से, वे उसे एक कैदी की तरह रखे हुए है.  यह जरा भी उचित नहीं है. यह मानवीय नहीं है. मुझे उम्मीद है कि वह इससे मजबूत होगा मुझे उम्मीद है कि वह जीतेगा.” उन्होंने कहा, ”उन्हें बहुत बुरी जगह रखा गया है. वहां कीड़े है और बहुत गंदगी है. वहां का खाना भी बहुत बुरा है. वे उसे किसी बेहतर होटल या हमारे किराए के घर में जाने का मौका नहीं दे रहे हैं.”

    नडाल को जोकोविच से खास सहानुभूति नहीं
    वहीं, राफेल नडाल को अपने कड़े प्रतिद्वंद्वी नोवाक जोकोविच से बहुत अधिक सहानुभूति नहीं है. उन्होंने कहा विश्व का नंबर एक खिलाड़ी नियमों से अच्छी तरह वाकिफ था. जोकोविच की ऑस्ट्रेलियाई ओपन के खिताब का बचाव करने की उम्मीदों को बुधवार को करारा झटका लगा, जब मेलबर्न पहुंचने पर उनका वीजा रद्द कर दिया गया. उन्हें अभी सरकारी होटल में रखा गया है और उनका प्रत्यर्पण सोमवार तक टाल दिया गया है.

    जोकोविच ने नहीं बताया, कोरोना वैक्सीन ली या नहीं
    जोकोविच ने अभी तक इसका खुलासा नहीं किया है कि उन्होंने कोरोना वायारस के लिए टीका लगाया है या नहीं जो कि ऑस्ट्रेलियाई ओपन में भाग लेने के लिए अनिवार्य है. नडाल ने कहा, ”अगर वह चाहता तो बिना किसी परेशानी के यहां ऑस्ट्रेलिया में खेल रहा होता.” उन्होंने कहा, ”प्रत्येक अपने फैसले लेने के लिए स्वतंत्र है, लेकिन फिर कुछ परिणाम होते हैं. कुछ हद तक मुझे उसके लिए खेद है. लेकिन साथ ही वह बहुत महीनों पहले से नियमों को जानता था.”

    ऑस्ट्रेलिया के पीएम ने कहा- सबके लिए नियम समान
    दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी जोकोविच ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर कहा था कि उन्हें मेडिकल छूट मिली है और वह बुधवार को देर रात ऑस्ट्रेलिया पहुंचे. इस मेडिकल छूट के तहत विक्टोरिया सरकार के कड़े टीकाकरण नियमों के पालन से उन्हें राहत मिली थी. सीमा अधिकारियों ने हालांकि छूट को स्वीकार नहीं किया. ऑस्ट्रेलियाई सीमा बल ने एक बयान में कहा कि जोकोविच जरूरी शर्ते पूरी करने में नाकाम रहे हैं. प्रधानमंत्री स्कॉट मौरिसन ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा, ”नियम एकदम साफ है. आपको मेडिकल छूट लेनी होगी जो उसके पास नहीं थी. हमने सीमा पर बात की और वहीं ये हुआ.”

    सर्बिया के राष्ट्रपति ने की निंदा
    जोकोविच के देश सर्बिया के राष्ट्रपति ने उनके साथ हुए बर्ताव की निंदा की है. जोकोविच को रात भर मेलबर्न हवाई अड्डे पर रखा गया. 20 बार के ग्रैंडस्लैम चैम्पियन को आठ घंटे यह जानने के लिए इंतजार करना पड़ा कि उन्हें ऑस्ट्रेलिया में प्रवेश मिलेगा या नहीं. बाद में उन्हें अगली उड़ान या कानूनी कार्रवाई तक होटल भेज दिया गया.

    Tags: Australian open, Novak Djokovic, Rafael Nadal

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर