• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo Olympics: टोक्यो में इतिहास रचने वाली सिंधु दिल्ली पहुंचीं, कहा-जीत से बेहद खुश और उत्साहित हूं

Tokyo Olympics: टोक्यो में इतिहास रचने वाली सिंधु दिल्ली पहुंचीं, कहा-जीत से बेहद खुश और उत्साहित हूं

पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता है. (फोटो-ANI)

पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता है. (फोटो-ANI)

Tokyo Olympics 2020: पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने लगातार दूसरे ओलंपिक में मेडल जीतकर इतिहास रचा है. रियो ओलंपिक 2016 की रजत पदक विजेता सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीता है. सिंधु ओलंपिक में दो पदक जीतने वाली पहली और एकमात्र भारतीय महिला खिलाड़ी हैं.

  • Share this:

    नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) में कांस्य पदक जीतकर इतिहास रचने वाली भारतीय शटलर पीवी सिंधु (PV Sindhu) दिल्ली पहुंच चुकी हैं. भारत लौटने पर सिंधु ने दिल्ली एयरपोर्ट पर कहा कि वह जीत से बेहद खुश और उत्साहित हैं. सिंधु ने बैडमिंटन एसोसिएशन सहित समर्थन करने वाले सभी लोगों का आभार जताया. ‘टोक्य में सिंधु ने चीन बिंग जियाओ (Bing Jiao) को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया है. पीवी सिंधु लगातार 2 ओलंपिक मेडल जीतने वाली भारत की पहली महिला खिलाड़ी हैं. भारतीय स्टार शटलर ने इससे पहले 2016 में रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था.

    दिल्ली एयरपोर्ट पर पीवी सिंधु और उनके कोच पार्क तेइ-सांग का स्वागत भारतीय बैडमिंटन संघ के महासचिव अजय सिंघानिया ने किया. एक दिन पहले सिंधु से जब पदक जीतने के एहसास के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ”मैच जीतने के बाद पांच से 10 सेकेंड तक मैं सब कुछ भूल गई थी. इसके बाद मैंने खुद को संभाला और जश्न मनाते हुए चिल्लाई.’’ सिंधु से जब रियो ओलंपिक से टोक्यो ओलंपिक के बीच के पांच साल के सफर के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि उन्होंने इस दौरान काफी उतार-चढ़ाव देखे, जीत मिली तो हार का भी सामना करना पड़ा लेकिन वह मजबूत बनकर उभरी.

    कोच पार्क ने बढ़ाया सिंधु का हौसला
    सिंधु ने कहा कि सेमीफाइनल में हार के बाद वह निराश थी, लेकिन कोच पार्क तेइ-सांग ने उन्हें प्रेरित किया कि अभी सब कुछ खत्म नहीं हुआ है. सिंधु को सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की ताइ जू यिंग के खिलाफ 18-21, 12-21 से शिकस्त झेलनी पड़ी थी. उन्होंने कहा, ‘‘सेमीफाइनल में हार के बाद मैं निराश थी क्योंकि मैं स्वर्ण पदक के लिए चुनौती पेश नहीं कर पाई. कोच पार्क ने इसके बाद मुझे समझाया कि अगले मैच पर ध्यान दो. चौथे स्थान पर रहकर खाली हाथ स्वदेश लौटने से बेहतर है कि कांस्य पदक जीतकर देश का नाम रोशन करो करो.”

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज