लियोनेल मेसी जैसे दिग्गज से तुलना बेवकूफी, मैं उनका बड़ा फैन हूं: सुनील छेत्री

सुनील छेत्री के कुल अंतरराष्ट्रीय गोल की संख्या 74 हो गई है.( सुनील छेत्री इंस्टाग्राम)

सुनील छेत्री (Sunil Chhetri) के इंटरनेशनल फुटबॉल में 16 साल हो गए हैं. वे गोल करने के मामले लियोनेल मेसी (Lionel Messi) से आगे हैं. पिछले दिनों उन्होंने यह रिकॉर्ड बनाया था. लेकिन उनका मानना है कि मेसी से उनकी तुलना करना ठीक नहीं है.

  • Share this:
    दोहा. फुटबॉल मैदान पर लियोनेल मेसी के मंत्रमुग्ध कर देने वाले खेल को देख कर सुनील छेत्री को निराशा के समय भी खुशी मिलती है. लेकिन भारत के इस करिश्माई फुटबॉल खिलाड़ी ने शनिवार को यह साफ कर दिया कि अर्जेंटीना के इस दिग्गज खिलाड़ी के साथ उसकी तुलना ‘बेवकूफी’ की तरह है. मौजूदा सक्रिय खिलाड़ियों में सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय गोल करने के मामले में छेत्री ने मेसी को पछाड़ दिया है और दूसरे स्थान पर आ गए हैं.

    छेत्री ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के 16 साल पूरे होने पर एआईएफएफ दिए साक्षात्कार में कहा, ‘जब मैं दुखी होता हूं तो मैं मेसी के वीडियो देखता हूं और इससे मुझे खुशी मिलती है. इसलिए जब मैं उनसे मिलूंगा, तो मैं उनसे कहूंगा कि मैं उनका प्रशंसक हूं और उनसे अच्छे से हाथ मिलाउंगा.’ छेत्री से जब पूछा गया कि मेसी से मिलने पर वह क्या करेंगे तो उन्होंने कहा, ‘उनके ‘हाय’ करने के बाद कहूंगा कि मैं सुनील छेत्री हूं और मैं उनका बहुत बड़ा प्रशंसक हूं. मैं उन्हें परेशान नहीं करूंगा. अगर मैं उससे मिलूं तो मुझे खुशी होगी, अगर मैं नहीं हूं, तो भी मैं अच्छा ही महसूस करूंगा.’

    सुनील छेत्री ने फीफा वर्ल्ड कप 2022 एवं एशियाई कप 2023 की संयुक्त क्वालिफाइंग मैच में 7 जून को बांग्लादेश के खिलाफ दो गोल कर लियोनेल मेसी को पीछे छोड़ा. भारत ने इस मैच कों 2-0 से जीता था. छेत्री के नाम 74 अंतरराष्ट्रीय गोल है तो वही मेसी ने अंतरराष्ट्रीय मैचों में 72 गोल किए हैं. उन्होंने कहा, ‘दुनिया में किसी अन्य की तरह मैं भी मेसी का बहुत बड़ा प्रशंसक हूं. हम दोनों में कोई तुलना ही नहीं है. मैं बस खुश हूं कि मुझे अपने देश के लिए गोल करने का मौका मिला और मैं गर्व महसूस कर रहा हूं.’

    सिर्फ रोनाल्डो से ही पीछे हैं

    भारतीय कप्तान ने कहा, ‘मैं उन सभी महान खिलाड़ियों के साथ अपनी तुलना करने की बेवकूफी नहीं करना चाहता. ऐसे हजारों खिलाड़ी हैं, जो मुझसे बेहतर हैं और ये सभी लियोनेल मेसी के प्रशंसक भी हैं. यही अंतर है.’ छेत्री ने आज ही के दिन 16 साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ क्वेटा में अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया था. उस समय टीम के मुख्य कोच सुखविंदर सिंह थे. छेत्री ने तब से 117 मैचों में देश के लिए 74 गोल किए. सक्रिय खिलाड़ियों में सिर्फ क्रिस्टियानो रोनाल्डो के नाम उनसे ज्यादा गोल हैं. छेत्री इस खेल के महानतम खिलाड़ी माने जाने वाले पेले की बराबरी से तीन गोल दूर हैं.

    अकेलापन महसूस करता हूं

    उन्होने कहा, ‘यह एक अद्भुत और शानदार यात्रा रही है. राष्ट्रीय टीम के लिए इतने वर्षों तक खेलना, देश का इतनी बार प्रतिनिधित्व करना एक सपने की तरह है.’ जब छेत्री राष्ट्रीय टीम में आए तो बाईचुंग भूटिया, रेनेडी सिंह और महेश गवली जैसे दिग्गज मौजूद थे. वह अब 36 साल के हो चुके है और टीम में सबसे वरिष्ठ खिलाड़ी है. उन्होंने कहा कि वह टीम में ‘बच्चों’ के बीच कभी-कभी अकेलापन महसूस करते हैं.

    अभी भी भूटिया से होती है बात

    उन्होंने कहा, ‘ऐसा लगता है जैसे यह कल की ही बात हो. जब दो बच्चे संदेश झिंगन और गुरप्रीत सिंह टीम में आए थे. लेकिन अब वे टीम के मुख्य खिलाड़ी है. समय तेजी से निकल जाता है. टीम में मेरे समय का कोई नहीं है.’ सुनील छेत्री ने कहा कि उनके ऊपर भूटिया का काफी प्रभाव है और वह अपने पूर्व कप्तान से सलाह लेते रहते हैं. उन्होंने कहा, ‘अभी दो दिन पहले, मेरी बाईचुंग दा के साथ बातचीत हो रही थी. मैं उसे बता रहा था कि मैं पुराने शिविर को कैसे याद करता हूं. अब मैं उनमें से किसी के साथ नहीं रहता हूं.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.