Tokyo Olympics रद्द करने की मुहिम तेज, 3.51 लाख लोगों की साइन वाली ऑनलाइन याचिका दायर

टोक्यो ओलिंपिक की शुरुआत 24 जुलाई और पैरालिंपिक गेम्स का आगाज 24 अगस्त से होगा. (Tokyo Olympics Twitter)

टोक्यो ओलिंपिक की शुरुआत 24 जुलाई और पैरालिंपिक गेम्स का आगाज 24 अगस्त से होगा. (Tokyo Olympics Twitter)

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) को रद्द करने की मुहिम तेज हो गई है. शुक्रवार को 3 लाख 51 हजार लोगों की हस्ताक्षर की गई ऑनलाइन याचिका गवर्नर को सौंप दी गई. इस याचिका को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ(IOC),अंतरराष्ट्रीय पैरालिंपिक संघ, आयोजन समिति और जापान की सरकार को भी भेजा गया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) को रद्द करने की मुहिम तेज हो गई है. शुक्रवार को 3 लाख 51 हजार लोगों की हस्ताक्षर की गई ऑनलाइन याचिका गवर्नर को सौंप दी गई. इस मुहिम के आयोजन से जुड़े लोगों ने ओलंपिक समिति के अधिकारियों से ये अपील की है कि वो कोरोना महामारी के दौर में गेम्स के आयोजन की बजाए लोगों की जान बचाने को तरजीह दें. इस याचिका को अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ (IOC),अंतरराष्ट्रीय पैरालिंपिक संघ, आयोजन समिति और जापान की सरकार को भी भेजा गया है.

इस महीने के शुरुआत में एक वकील और टोक्यो के गवर्नर पद के पूर्व उम्मीदवार उम्मीदवार केनजी उत्सुनोमिया ने 'कैंसल द टोक्यो ओलंपिक' नाम से ऑनलाइन याचिका को लॉन्च किया था. इस याचिका को जापान की जनता की ओर से भारी समर्थन मिला और जापान के चेंज डॉट ओआरजी प्लेटफॉर्म पर पिछली किसी भी याचिका से ज्यादा इसके समर्थन में लोगों ने हस्ताक्षर किए. केनजी ने कहा कि इससे पता चलता है कि जापान की आम जनता की ओलंपिक के आयोजन को लेकर क्या सोच है.

इसे भी पढ़ें, किदाम्बी श्रीकांत बोले, टोक्यो ओलंपिक में जगह बनाने की धुंधली उम्मीद बरकरार

ज्यादातर जापानी ओलंपिक को रद्द करने के पक्ष में
कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जापान में ओलंपिक के आयोजन से जुड़े पोल में ज्यादातर लोगों की यही राय है कि इस साल भी गेम्स को या तो रद्द कर दिए जाए या फिर से टाल दिया जाए. इसे लेकर उत्सुनोमिया ने कहा कि मुझे लगता है कि इस बार ओलंपिक इस बारे में है कि क्या हम जीवन को प्राथमिकता देते हैं या एक समारोह और कार्यक्रम जिसे ओलंपिक कहा जाता है.

आयोजकों पर टोक्यो ओलंपिक रद्द करने का दबाव बढ़ा

उन्होंने टोक्यो गवर्नर यूरिको कोइके से भी कहा है कि वो अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक संघ से इन गेम्स को रद्द करने के लिए कहें. उत्सुनोमिया के मुताबिक, आईओसी के पास ओलंपिक को रद्द करने के बारे में निर्णय लेने का अधिकार है. लेकिन मेजबान शहर के रूप में टोक्यो को ही आईओसी से खेलों के महाकुंभ को रद्द करने का आग्रह करना चाहिए.



जापान में 31 मई तक इमरजेंसी बढ़ाई गई

इस बीच, जापान कोरोना की चौथी लहर का सामना कर रहा है और शुक्रवार को तीन और राज्यों होकाईडो, ओकायामा और हिरोशिमा में भी 31 मई तक इमरजेंसी बढ़ा दी गई है. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि जापान में कोरोना को लेकर कितनी सतर्कता बरती जा रही है. पहले से ही राजधानी टोक्यो और ओसाका में स्टेट इमरजेंसी लागू है. ये फैसला ओलंपिक शुरू होने से 10 हफ्ते पहले लिया गया है. ऐसे में 23 जुलाई से शुरू होने वाले ओलंपिक के आयोजन पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज