रियाल मैड्रिड लगातार तीसरे साल यूरोप की सबसे वैल्यूएबल टीम, टॉप-10 कीमती क्लब में इंग्लैंड के पांच

क्लब फुटबॉल पर भी कोरोनावायरस का बुरा असर पड़ा है(फोटो साभार-रियल मैड्रिड ट्विटर)

क्लब फुटबॉल पर भी कोरोनावायरस का बुरा असर पड़ा है(फोटो साभार-रियल मैड्रिड ट्विटर)

रिसर्च फर्म केपीएमजी ने यूरोप के सबसे कीमती 32 फुटबॉल क्लब की सूची जारी की है. इसमें स्पेनिश फुटबॉल क्लब रियाल मैड्रिड लगातार तीसरे साल सबसे कीमती टीम बनी है. इसकी इंटरप्राइस वैल्यू (EV Value) 2869 मिलियन यूरो (करीब 25 हजार 300 करोड़ रुपए) है. इस लिस्ट में शामिल टॉप-10 क्लब में इंग्लैंड की पांच टीमें हैं. इनमें मैनचेस्टर यूनाइटेड, लिवरपूल, मैनचेस्टर सिटी, चेल्सी और टॉटनहम का नाम है.

  • Share this:

नई दिल्ली. स्पेनिश फुटबॉल क्लब रियाल मैड्रिड(Real Madrid) लगातार तीसरे साल यूरोप का सबसे वैल्यूएबल क्लब (Europe Valuable Football Club) बना है. इस क्लब की वैल्यू 2909 मिलियन यूरो (करीब 25 हजार 668 करोड़ रुपए) आंकी गई है. दूसरे स्थान पर भी स्पेन का ही फुटबॉल क्लब बार्सिलोना है. इसकी वैल्यू 2869 मिलियन यूरो (करीब 25 हजार 300 करोड़ रुपए) है. बार्सिलोना ने मैनचेस्टर यूनाइटेड को पीछे छोड़ा है.

इस इंग्लिश क्लब की वैल्यू 2661 मिलियन यूरो (करीब 23 हजार 477 करोड़ रुपए) है. ये जानकारी रिचर्स एजेंसी केपीएमजी की छठी वैल्यूएशन रिपोर्ट में सामने आई है. इस रिपोर्ट में यूरोप के 32 फुटबॉल क्लबों को उनके इंटरप्राइज वैल्यू (EV Value) के आधार पर रैंकिंग दी गई है.

इस रिपोर्ट से साफ है कि क्लब फुटबॉल पर भी कोरोनावायरस का बुरा असर पड़ा है और पहली बार केपीएमएजी की इस रिपोर्ट में यूरोप के शीर्ष 32 क्लबों की इंटरप्राइस वैल्यू में पहली बार गिरावट दर्ज की गई है. एक अनुमान के मुताबिक, पिछले वित्तीय वर्ष में सभी क्लबों को औसत 15 फीसदी का नुकसान हुआ है. जोकि करीब 50 हजार करोड़ रुपए है. इस लिस्ट में शामिल टॉप-10 क्लबों में इंग्लैंड के सबसे ज्यादा पांच क्लब शामिल हैं.

इसमें लिवरपूल पांचवें, मैनचेस्टर सिटी छठे, चेल्सी सातवें पायदान पर है. वहीं, टॉटनहम हॉटस्पर नौवें पायदान पर है. लिवरपूल की वैल्यू 2284 मिलियन यूरो( करीब 20 हजार 163 करोड़ रुपए) है. मैनचेस्टर सिटी की कीमत 2170 मिलियन यूरो यानी करीब 19 हजार 158 करोड़ रुपए आंकी है.
यह भी पढ़ें : ओलंपिक के लिए टोक्यो जाने से पहले भारतीय दल के सभी सदस्यों का पूरा होगा टीकाकरण: IOA

इस साल 32 शीर्ष क्लबों में से सात को मुनाफा हुआ

कोराना के कारण क्लबों की ब्रॉडकास्टिंग राइट्स और मैच के दिन होने वाली कमाई पर बुरा असर पड़ा है. हालांकि, महामारी से पहले साइन किए गए अलग-अलग करारों से जरूर क्लबों का रेवेन्यू में थोड़ा इजाफा हुआ है. एक साल पहले 20 क्लब की तुलना में इस बार यूरोप के शीर्ष 32 क्लबों में से सिर्फ 7 को ही शुद्ध मुनाफा हुआ है. अगर बीते साल की बात करें तो टॉप-3 क्लब रियाल मैड्रिड, मैनचेस्टर यूनाइटेड और बार्सिलोना की इंटरप्राइस वैल्यू जरूर बढ़ी है. स्पेनिश क्लब रियाल मैड्रिड की वैल्यू में 8 फीसदी, बार्सिलोना की कीमत में 19% और मैनचेस्टर यूनाइटेड की वैल्यू में करीब 4 फीसदी का इजाफा हुआ.



एशियन चैंपियनशिप में पांचवें पदक के बाद थापा बोले- ऐसा लगा जैसे वायरस को हरा दिया

टॉप-10 में फ्रांस और इटली के एक-एक क्लब

य़ूरोप के टॉप-10 कीमती क्लब की लिस्ट में फ्रांस, इटली और जर्मनी के एक-एक क्लब शामिल हैं. फ्रांस का पेरिस सेंट जर्मेन क्लब टॉटनहम हॉटस्पर को पीछे छोड़कर सूची में आठवें स्थान पर आ गया है. वहीं, क्रिस्टियानो रोनाल्डो का क्लब युवेंटस आर्सेनल की जगह टॉप-10 में आ गया है. आर्सेनल 2016 के बाद से इस लिस्ट में 6 स्थान लुढ़क गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज