Home /News /sports /

achanta sharath kamal after winning 4 medals in cwg now i am eyeing olympic medal

CWG में पदकों का 'चौका' लगाने वाले कमल अभी नहीं लेंगे संन्यास, बताया- अपना अगला मिशन

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंता शरत कमल ने हाल ही में कॉमनवेल्थ गेम्स में 3 गोल्ड मेडल जीते थे. (Sharath kamal instagram)

भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंता शरत कमल ने हाल ही में कॉमनवेल्थ गेम्स में 3 गोल्ड मेडल जीते थे. (Sharath kamal instagram)

40 साल के भारतीय टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंता शरत कमल ने बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में कमाल का प्रदर्शन किया. उन्होंने मेंस टीम, मिक्स्ड डबल्स और मेंस सिंगल्स में गोल्ड मेडल जीते तो वहीं, मेंस डबल्स में सिल्वर मेडल पर कब्जा जमाया. इस प्रदर्शन के बाद उनके हौसले बुलंद हैं और अब उनका अगला लक्ष्य ओलंपिक में पदक जीतना है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. उम्र के साथ प्रदर्शन के मामले में और निखरते जा रहे टेबल टेनिस खिलाड़ी अचंता शरत कमल खेल को अलविदा कहने से पहले ओलंपिक पदक जीतना चाहते हैं और बर्मिंघम कॉमनवेल्थ गेम्स में शानदार प्रदर्शन ने उनका हौसला बुलंद कर दिया है. चालीस वर्ष के शरत ने बर्मिंघम खेलों में चार पदक जीते. उन्होंने मिश्रित युगल में स्वर्ण जीता और 16 साल बाद एकल स्वर्ण भी अपने नाम किया .

पिछले दो दशक से खेल रहे शरत का अभी संन्यास का इरादा नहीं है और ओलंपिक पदक जीतने के लिये दो साल और खेलना चाहते हैं. उन्होंने पीटीआई से कहा, ‘कॉमनवेल्थ में व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करके अच्छा लगा. इस बार मैने चार पदक जीते. फिटनेस सफलता की कुंजी है और मैं खुद को फिट रखने के लिये काफी मेहनत करता आया हूं. मैं हमेशा अपने शरीर और दिमाग को फिट रखना चाहता हूं क्योंकि युवाओं में काफी फुर्ती है और मुझे उनसे मुकाबला करना है.’

कॉमनवेल्थ गेम्स में 13 और एशियाई खेल 2018 में दो कांस्य पदक जीत चुके शरत ने कहा, पदक जीतने की भूख अभी भी है. मैं हमेशा बेहतर प्रदर्शन करना चाहता हूं. अभी दो साल के बारे में सोच रहा हूं पेरिस ओलंपिक में हम टीम स्पर्धा के लिये क्वालीफाई करके पदक जीत सकते हैं. यह प्रक्रिया है. कॉमनवेल्थ गेम्स के बाद एशियाई खेल और फिर ओलंपिक.

भारत के सबसे कामयाब टेबल टेनिस खिलाड़ी ने कहा कि भारत में इस खेल का परिदृश्य बदल गया है. उन्होंने कहा,’देश में टेबल टेनिस की लोकप्रियता बढी है और मुझे खुशी है कि हम अपने प्रदर्शन से आने वाली पीढी को प्रेरित कर सकें हैं. पहले मेरी रैंकिंग 130 थी जो अब 38 है और साथियान की रैंकिंग 36 है. हमारे पास इतनी ऊंची रैंकिंग वाले खिलाड़ी कभी नहीं थे.’

Tags: Achanta Sharath Kamal, Commonwealth Games

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर