मनु भाकर ने क्रोएशिया दौरे पर कहा, ओलंपिक से पहले इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता

मनु भाकर का मानना है कि क्रोएशिया के मौजूदा ट्रेनिंग और प्रतियोगिता दौरे से बेहतर तैयारी नहीं हो सकती थी (Manu Bhaker Twitter)

मनु भाकर का मानना है कि क्रोएशिया के मौजूदा ट्रेनिंग और प्रतियोगिता दौरे से बेहतर तैयारी नहीं हो सकती थी (Manu Bhaker Twitter)

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के कारण भारत में शिविर का आयोजन संभव नहीं था और ऐसे में भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआई) ने क्रोएशिया दौरे का इंतजाम किया.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारत की ओर से पदक के मजबूत दावेदारों में से एक दिग्गज निशानेबाज मनु भाकर का मानना है कि क्रोएशिया के मौजूदा ट्रेनिंग और प्रतियोगिता दौरे से बेहतर तैयारी नहीं हो सकती थी और टोक्यो खेलों से पहले उनकी नजरें प्रदर्शन में निरंतरता पर टिकी हैं. भारत के ओलंपिक के लिए क्वॉलिफाई कर चुके 13 पिस्टल और राइफल निशानेबाज ओसियेक में आमंत्रित टीम के रूप में यूरोपीय चैंपियनशिप में हिस्सा लेने के बाद अब जागरेब में ट्रेनिंग कर रहे हैं. भारतीय निशानेबाज आसियेक में 22 जून से तीन जुलाई तक होने वाले आईएसएसएफ विश्व कप में भी चुनौती पेश करेंगे.

कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के कारण भारत में शिविर का आयोजन संभव नहीं था और ऐसे में भारतीय राष्ट्रीय राइफल संघ (एनआरएआई) ने क्रोएशिया दौरे का इंतजाम किया. मनु ने जागरेब से पीटीआई से कहा, ‘‘इस दौरे से काफी मदद मिली. हमारा, हमारे स्वास्थ्य और फिटनेस जरूरतों का अच्छी तरह ध्यान रखा गया और सबसे महत्वपूर्ण हमें बेहद अच्छी निशानेबाजी रेंज में ट्रेनिंग का मौका मिल रहा है और साथ ही प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का मौका भी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मुझे लगता है कि ओलंपिक खेलों से पहले इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता था.’’ भारत की इस चैंपियन निशानेबाज ने कहा कि वह अपेक्षाओं के बोझ तले दबने से बचना चाहती हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मैं सिर्फ अपनी उम्मीदों पर खरा उतरना चाहती हूं. मैं इसके अलावा किसी चीज के बारे में नहीं सोच रही, बस खेलों में भारत के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने पर ध्यान है.’’

19 साल की यह निशानेबाज आगामी ओलंपिक में पदक की प्रबल दावेदार है और उनके अनुसार टीम के उनके कई साथियों के पास तोक्यो में पदक जीतने का मौका है. मनु ने कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि मैं पदक की सबसे बड़ी उम्मीद हूं... यह अनुचित है. हमारी निशानेबाजी टीम में ही मुझे ऐसा कोई खिलाड़ी नजर नहीं आता जो पदक की बड़ी उम्मीद नहीं हो. अन्य खेलों में भी विश्व स्तरीय खिलाड़ी हैं, उदाहरण के लिए बैडमिंटन, भारोत्तोलन, कुश्ती, तीरंदाजी, मुक्केबाजी आदि.’’
मनु ने पिछले मंगलवार को यूरोपीय निशानेबाजी चैंपियनशिप की महिला 25 मीटर पिस्टल स्पर्धा के न्यूनतम क्वालीफिकेशन वर्ग में शानदार प्रदर्शन करते हुए हमवतन राही सरनोबत को पछाड़कर शीर्ष स्थान हासिल किया था. इस निशानेबाज की नजरें अब ट्रेनिंग के दौरान प्रदर्शन में निरंतरता लाने पर है.

उन्होंने कहा, ‘‘हां, मैंने अच्छा प्रदर्शन किया (यूरोपीय चैंपियनशिप में) लेकिन मुझे लगता है कि मुझे सुधार करने की जरूरत है, यह निरंतर चलने वाली प्रक्रिया है. मैं पहले ट्रेनिंग के दौरान प्रदर्शन में निरंतरता पर काम कर रही हूं और फिर प्रतियोगिताओं में भी ऐसा होगा.’’ तोक्यो में 23 जुलाई से आठ अगस्त तक होने वाले ओलंपिक के लिए मनु को तीन स्पर्धाओं के लिए चुना गया है. मनु महिला 25 मीटर पिस्टल में राही सरनोबत और महिला 10 मीटर एयर पिस्टल में यशस्विनी सिंह देसवाल के साथ भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी. वह सौरभ चौधरी के साथ मिश्रित टीम 10 मीटर पिस्टल स्पर्धा में भी हिस्सा लेंगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज