• Home
  • »
  • News
  • »
  • sports
  • »
  • Tokyo 2020: भारत के ओलंपिक मुक्केबाजी अभियान की शुरुआत करेंगे विकास कृष्ण

Tokyo 2020: भारत के ओलंपिक मुक्केबाजी अभियान की शुरुआत करेंगे विकास कृष्ण

विकास कृष्ण का मुकाबला क्विंकी मेनसाह ओकाजावा के साथ (Vikas Krishan Yadav instagram )

विकास कृष्ण का मुकाबला क्विंकी मेनसाह ओकाजावा के साथ (Vikas Krishan Yadav instagram )

भारतीय मुक्केबाजों को मेडल दौर तक पहुंचने के लिए कई चुनौतीपूर्ण बाधाओं को पार करना होगा. 29 वर्षीय विकास अपने तीसरे और शायद अंतिम ओलंपिक में मेडल जीतने के लिए बेताब होंगे.

  • Share this:
    टोक्यो. अनुभवी विकास कृष्ण (69 किग्रा) शनिवार को स्थानीय प्रबल दावेदार सेवोनरेट्स क्विंकी मेनसाह ओकाजावा के खिलाफ भारत के मुक्केबाजी ओलंपिक अभियान की शुरुआत करेंगे. विकास रयोगोकू कोकुगिकान एरीना में होने वाली मुक्केबाजी स्पर्धाओं के शुरुआती दिन रिंग में उतरने वाले एकमात्र भारतीय मुक्केबाज होंगे, इसी वजह से उन्होंने उद्घाटन समारोह में नहीं जाने का फैसला किया. भारतीय मुक्केबाजों को मेडल दौर तक पहुंचने के लिए कई चुनौतीपूर्ण बाधाओं को पार करना होगा. 29 वर्षीय विकास अपने तीसरे और शायद अंतिम ओलंपिक में मेडल जीतने के लिए बेताब होंगे.

    उन्होंने सभी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में मेडल जीते हैं जिसमें विश्व चैम्पियनशिप मेडल भी शामिल है. उन्होंने खेलों से पहले कहा था, ''मैं इस समय पूरी तरह से तैयार हूं, इससे ज्यादा तैयार नहीं हो सकता.'' विकास के प्रतिद्वंद्वी ओकाजावा ने 2019 एशियाई चैम्पियनशिप में सिल्वर मेडल जीता था और इसी साल विश्व चैम्पियनशिप के क्वार्टरफाइनल में भी पहुंचे थे.

    अगर हरियाणा का मुक्केबाज पहले दौर की इस बाधा को पार कर लेता है तो राउंड 16 में उनका सामना क्यूबा के तीसरे वरीय रोनियल इग्लेसियास से होगा जो 2012 ओलंपिक के गोल्ड मेडल विजेता और पूर्व विश्व चैम्पियन हैं. भारत के नौ मुक्केबाज खेलों में हिस्सा ले रहे हैं जिन्हें गुरूवार को मुश्किल ड्रॉ मिला. मुक्केबाजी दल से 2016 रियो खेलों की निराशा की भरपायी करने की उम्मीद है जिसमें देश कोई मेडल नहीं जीत सका था. भारत को मुक्केबाजों ने 2008 और 2012 में ब्रॉन्ज मेडल दिलाये थे.

    शीर्ष वरीय और दुनिया के नंबर एक मुक्केबाज अमित पंघाल (52 किग्रा) उन चार मुक्केबाजों में से एक हैं जिन्हें बाई मिली है जिससे वे प्री क्वार्टरफाइनल से ही अपना अभियान शुरू करेंगे. लेकिन मेडल दौर की राह किसी के लिए भी आसान नहीं दिखती.

    अमित पंघाल 31 जुलाई को प्री क्वार्टर फाइनल में रिंग में उतरेंगे. उनकी भिड़ंत बोत्सवाना के मोहम्मद रजब ओतुकिले और कोलंबिया के हर्नी रिवास मार्टिनेज के बीच होने वाले मुकाबले के विजेता से होगी. मार्टिनेज रियो ओलंपिक में लाइट फ्लाईवेट में सिल्वर मेडल जीत चुके हैं.

    रविवार को छह बार की विश्व चैंपियन एम सी मैरीकॉम (51 किग्रा) अपना अभियान डोमिनिका की मिगुलिना हर्नानडेज के खिलाफ शुरू करेंगे. अपने दूसरे ओलंपिक मेडल की कवायद में लगी मैरीकॉम अगले दौर में कोलंबिया की तीसरी वरीयता प्राप्त लोरेना विक्टोरिया वेलेंसिया का सामना कर सकती हैं जो 2016 ओलंपिक की ब्रॉन्ज मेडल विजेता और पैन अमेरिकी खेलों की चैम्पियन हैं.

    एशियाई खेलों के पूर्व ब्रॉन्ज मेडल विजेता सतीश कुमार (91 किग्रा से अधिक) को भी पहले दौर में बाइ मिली है. वह ओलंपिक में भाग लेने वाले भारत के पहले सुपर हैवीवेट मुक्केबाज हैं. महिलाओं के वर्ग में लवलीना बोरगोहेन (69 किग्रा) और सिमरनजीत कौर (60 किग्रा) को भी बाइ मिली है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज