लाइव टीवी

दो साल पहले नहीं थे जूते खरीदने के पैसे, अब विदेश में किया देश का नाम रोशन

News18Hindi
Updated: September 21, 2019, 10:22 PM IST
दो साल पहले नहीं थे जूते खरीदने के पैसे, अब विदेश में किया देश का नाम रोशन
अमित पंघाल ने बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियनशिप में इतिहास रच दिया है

अमित पंघाल (Amit Panghal) बॉक्सिंग वर्ल्ड चैंपियनशिप (Boxing World Championship) में सिल्वर मेडल जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष खिलाड़ी हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 21, 2019, 10:22 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारतीय बॉक्सर अमित पंघाल (Amit Panghal) भले ही रविवार को वर्ल्ड चैंपियनशिप (Boxing World Championship) के फाइनल में हार गए हों लेकिन सिल्वर मेडल जीतकर उन्होंने इतिहास रच दिया. 1974 में शुरू हुई वर्ल्ड चैंपियनशिप (Boxing World Championship)  में भारत को 45 साल में पहली बार पुरुष वर्ग में सिल्वर मेडल हासिल हुआ.

भारत ने अब तक वर्ल्ड चैंपियनशिप में केवल ब्रॉन्ज मेडल ही जीता था. विजेंदर सिंह (Vijender Singh), विकास कृष्ण (Vikas Krishn), शिव थापा (Shiva Thapa) और गौरव विधूड़ी के बाद सेमीफाइनल में पहुंचने वाले पंघाल पांचवें भारतीय बॉक्सर थे. हालांकि फाइनल में पहुंचकर उन्होंने इतिहास रच दिया. पंघाल पुरुष वर्ग में पहले बॉक्सर हैं जो वर्ल्ड चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचे थे. टूर्नामेंट में उन्होंने शुरुआत से ही शानदार प्रदर्शन किया और अंत तक उसी जज्बे से रिंग में विरोधियों का सामना करते रहे.

2008 में की थी बॉक्सिंग की शुरुआत
अमित पंघास ने साल 2008 में बॉक्सिंग की शुरुआत की थी. अमित के चाचा गांव में बच्चों को बॉक्सिंग की ट्रेनिंग देते थे. यहां ट्रेनिंग के लिए उनके भाई अजय भी जाते थे. अमित शुरूआत में यहां बॉक्सिंग सीखने के लिए नहीं जाते थे बल्कि सिर्फ फिजिकल फिटनेस के लिए वो यहां पहुंचते थे. लेकिन चाचा ने देखा कि अमित का बॉक्सिंग से लगाव है ऐसे में वो उन्हें भी ट्रेनिंग देने लगे. साल 2015 से अमित ने पटियाला में ट्रेनिंग शुरू की. लेकिन इसके बावजूद शनिवार-रविवार और छुट्टी के दिन वो अपने गांव में चाचा से बॉक्सिंग के गुर सीखने जाते थे.

amit panghal, boxing, boxing championship, manish kaushik
वर्ल्ड चैंपियनशिप में सिल्वर मेडल जीतने वाले वाले पहले भारतीय पुरुष बॉक्सर हैं


पैसे उधार लेकर खरीदे थे जूते
अमित पंघाल ने साल 2017 से अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की है और उसके बाद से वह देश को लगातार मेडल दिला रहे हैं. किसान परिवार से आने वाले पंघाल ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया है. साल 2017 में जब वह पहली बार वर्ल्ड चैंपियनशिप में हिस्सा लेने जर्मनी के हैम्बर्ग गए तो उन्हें वहां एक दुकान पर एक खास जूते बहुत पसंद आए.
Loading...

amit panghal, boxing, boxing championship, manish kaushik
एशियाई चैंपियनशिप का गोल्ड अपने नाम कर किया और फिर 49 किग्रा के ओलिंपिक कार्यक्रम से हटने के बाद 52 किग्रा में खेलने का फैसला किया.


यह जूते खासतौर पर बॉक्सिंग के लिए पहने जाते थे. हालांकि उनकी कीमत देना पंघाल के बस में नहीं था लेकिन जूते उन्हें इतने पसंद आए कि वह खुद को रोक नहीं पाए. ऐसे में उन्होंने उधार लेने का मन बनाया. पंघाल ने अपने साथी बॉक्सर कविंद्र बिष्ठ से कहा कि उन्हें जूते खरीदने हैं तो वह कुछ पैसे उधार दे दे. साथ ही उन्होंने वादा किया कि वह घर जाकर उन्हें पैसे लौटा देंगे. उन जूतों को पहनकर पंघाल चैंपियनशिप में उतरे. वह क्वार्टरफाइनल मुकाबले में हार गए लेकिन इसके बाद उनकी जीत का सिलसिला शुरू हुआ जो इस वर्ल्ड चैंपियनशिप में ऐतिहासिक सिल्वर तक पहुंच चुका है.

अमित पंघाल ने वर्ल्ड चैंपियनशिप में जीता ऐतिहासिक सिल्वर, फाइनल में नहीं मिली जीत

शिखर धवन ने काटी विराट कोहली की बात, टीम इंडिया के बारे में दिया ये बयान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अन्य खेल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 21, 2019, 9:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...