बॉक्सिंग रिंग में ये था चैंपियन वाला बदला, जानें कौन हैं गोल्ड जीतने वाले अमित पंघाल?

पिछले साल यानी 2017 में हैमबर्ग वर्ल्ड चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में भी अमित का सामना उज्बेकिस्तान के दुश्मातोव से हुआ था, लेकिन यहां अमित को हार का सामना करना पड़ा था.

Manish Kumar | News18Hindi
Updated: September 1, 2018, 2:46 PM IST
बॉक्सिंग रिंग में ये था चैंपियन वाला बदला, जानें कौन हैं गोल्ड जीतने वाले अमित पंघाल?
बॉक्सर अमित पंघाल
Manish Kumar
Manish Kumar | News18Hindi
Updated: September 1, 2018, 2:46 PM IST
एशियन गेम्स में मेडल जीतना किसी भी एथलिट के लिए सपना होता है. बॉक्सर अमित पंघाल ने न सिर्फ इस सपने को हकीकत में बदला, बल्कि उन्होंने इसे बेहद यादगार भी बना दिया. उन्होंने फाइनल में रियो ओलंपिक के गोल्ड मेडलिस्ट और एशियाई चैंपियन उज्बेकिस्तान के हसनबॉय दुश्मातोव को मात दी. कौन हैं अमित पंघाल? आइये एक नजर डालते हैं अमित पंघाल के शानदार करियर पर...

1.आखिरकार अमित पंघाल ने हसनबॉय दुश्मातोव से हार का बदला ले ही लिया. पिछले साल यानी 2017 में हैमबर्ग वर्ल्ड चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में भी अमित का सामना उज्बेकिस्तान के दुश्मातोव से हुआ था, लेकिन यहां अमित को हार का सामना करना पड़ा था. हलांकि इस मैच में उन्होंने दुश्मातोव को कड़ी टक्कर दी थी. दुश्मातोव एक चैंपियन बॉक्सर हैं. 2016 के रियो ओलंपिक में गोल्ड जीतने वाले हसनबॉय दुश्मातोव को बेस्ट मेल बॉक्सर चुना गया था.

2.अमित पंघाल हरियाणा के रोहतक ज़िले के मायना गांव से आते हैं. उनके पिता एक किसान हैं, जबकि उनके बड़े भाई अजय पंघाल सेना में हैं. अपने बड़े भाई को देखकर ही वो सेना में भर्ती हुए और उन्होंने ही अमित को बॉक्सिंग के रिंग में आने के लिए प्रेरित किया.

3.साल 2008 में उन्होंने बॉक्सिंग की शुरुआत की थी. अमित के चाचा गांव में बच्चों को बॉक्सिंग की ट्रेनिंग देते थे. यहां ट्रेनिंग के लिए उनके भाई अजय भी जाते थे. अमित शुरूआत में यहां बॉक्सिंग सीखने के लिए नहीं जाते थे बल्कि सिर्फ फिजिकल फिटनेस के लिए वो यहां पहुंचते थे. लेकिन चाचा ने देखा कि अमित का बॉक्सिंग से लगाव है ऐसे में वो उन्हें भी ट्रेनिंग देने लगे.

4.साल 2015 से अमित ने पटियाला में ट्रेनिंग शुरू की. लेकिन इसके बावजूद शनिवार-रविवार और छुट्टी के दिन वो अपने गांव में चाचा से बॉक्सिंग के गुड़ सीखने जाते थे.

5.साल 2017 में पहली बार उन्होंने बॉक्सिंग में राष्ट्रीय स्तर पर कदम रखा और इसी साल वो नैशनल चैंपियन भी बन गए.

6.इस बार कॉमवेल्थ खेलों में पंघाल ने सिल्वर मेडल जीता था. फाइनल में वो इंग्लैंड के गाला याफी के खिलाफ हार गए थे. फाइनल में हारने के बाद अमित ने कहा था कि उन्हें हाथों में इंजरी हो गई थी इसके चलते वो पूरी ताकत के साथ नहीं खेल सके थे. लेकिन उन्होंने वादा किया था कि वो एशियाई खेलों में जरूर मेडल लेकर आएंगे और आज उनका ये सपना पूरा हुआ.
Loading...
7. एशियाई खेलों के लिए वो अमेरिका में खास ट्रेनिंग कर रहे थे.

8. 2017 के एशियाई चैंपियनशिप में अमित को ब्रॉन्ज मेडल मिला था

9.इसी साल यानी 2018 की शुरूआत में उन्होंने बुलगारिया में प्रतिष्ठित स्ट्रैडजा मेमोरियल टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीता था.

ये भी पढ़ें:

एशिया कप के लिए टीम इंडिया का ऐलान, कोहली को आराम, ये खिलाड़ी बना कप्तान

साउथैंप्‍टन टेस्‍ट में 9 रन बनाते ही कोहली बने 'विराट', सचिन-सहवाग पीछे छूटे
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर